होम कोरोना
rajy-ke-lokatantrik-svaasthy-par-khatara

राज्य के लोकतान्त्रिक स्वास्थ्य पर खतरा

टाइगर वाली छवि के सहारे एक बार फिर प्रदेश की सत्ता तक पहुंचे शिवराज एक बार पुन: चंदा मामा से प्यारा मेरा मामा की तर्ज पर लोकप्रियता जुगाड़ने का प्रयास तेज कर चुके हैं। खास बात यह कि मौका और दस्तूर के लिहाज से भी उनके यह कदम जस्ट आन टाइम वाले साबित हो रहे हैं। कोरोना के बीच प्रदेश में आम जनता खासकर बिजली के अंधाधुंध बिलों से खासी परेशान रही। विपक्ष सहित सोशल मीडिया और मीडिया भी इस बात पर ध्यान दिलाते रहे कि उपभोक्तांओं को मनमानी राशि वाले बिल थमा दिए गए हैं। ऐसे में यह फैसला यकीनन बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं को राहत देने वाला साबित होगा, इसमें कोई शक नहीं है। readmore  आगे पढ़ें

relieving-news-108-people-were-discharged-from-viv

राहत भरी खबर: कोरोना को मात देकर चिरायु अस्पताल से 108 लोग हुए डिस्चार्ज, स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- इंदौर से फैला मप्र में कोरोना

चिरायु अस्पताल से सोमवार को एक साथ 108 लोग कोरोना के संक्रमण को मात देकर डिस्चार्ज हुए। स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इन कोरोना योद्धाओं का सम्मान किया। इसके पहले वंदे मातरम का गायन हुआ। इस दौरान स्वास्थ मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्य प्रदेश में कोरोना इंदौर से फैला है। दुबई से इंदौर फ्लाइट नहीं आई होती तो कोरोना नहीं फैलता। उन्होंने चिरायु प्रबंधन को सुझाव देते हुए कहा कि यहां से स्वस्थ होकर जाने वाले लोगों से संपर्क कर उनके अनुभव से दूसरों के साथ साझा करें। जो लोग कोरोना से डर रहे हैं, उनके बीच कोरोना को हराने वालों के अनुभव पहुंचाएं।  आगे पढ़ें

on-the-political-rhetoric-on-the-corona-crisis-the

कोरोना संकट पर जारी सियासी बयानबाजी पर गुजरात हाईकोर्ट ने की तल्ख टिप्पणी, कहा- यह संक्रमण इंसानी संकट है, ना कि सियासी; आलोचना से मर्ज ठीक नहीं हो जाएगा

कोरोनावायरस महामारी के संबंध में दायर एक पीआईएल पर रविवार को हाईकोर्ट ने गुजरात सरकार को निर्देश दिए कि हर श्रेणी के मरीज के लिए जो भी जरूरी स्वास्थ्य निर्देश दिए गए हैं, उनका सख्ती से पालन किया जाए। लापरवाही और गैर-जिम्मेदाराना रवैये की वजह से एक भी जान नहीं जानी चाहिए।  आगे पढ़ें

number-of-carona-infections-increasing-in-indore-f

इंदौर में लगातार बढ़ रही कारोना संक्रमितों की संख्या, चौथे लॉकडाउन में 13 दिन में प्रतिदिन औसतन 70 मरीज मिले, मरने वालों की संख्या 132 पर पहुंची

चौथे लॉकडाउन का आज 14वां और अंतिम दिन है। सोमवार से अनलॉक-1 शुरू होने वाला है। इसके बावजूद इंदौर में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। लॉकडाउन के फेज-4 के 13 दिन में इंदौर में प्रतिदिन औसतन 70 संक्रमित व्यक्ति मिले। इसे देखते हुए सोमवार से शुरू होने वाले अनलॉक को लेकर चिंता देखी जा रही है। शनिवार रात आई रिपोर्ट में कोरोना के 55 नए मरीज मिले। मरीजों की संख्या बढ़कर 3486 पर पहुंच गई है। 3 लोगों की मौत से मरने वालो की संख्या भी बढ़कर 132 हो गई है। रिपोर्ट के अनुसार, इंदौर जिले में अब तक 35713 सैंपलों की कोरोना जांच की गई है। वर्तमान में शहर के विभिन्न कोविड अस्पतालों में 1403 मरीजों का उपचार किया जा रहा है।  आगे पढ़ें

number-of-carona-infections-increasing-in-indore-f

इंदौर में लगातार बढ़ रही कारोना संक्रमितों की संख्या, चौथे लॉकडाउन में 13 दिन में प्रतिदिन औसतन 70 मरीज मिले, मरने वालों की संख्या 132 पर पहुंची

हो रही है। लॉकडाउन के फेज-4 के 13 दिन में इंदौर में प्रतिदिन औसतन 70 संक्रमित व्यक्ति मिले। इसे देखते हुए सोमवार से शुरू होने वाले अनलॉक को लेकर चिंता देखी जा रही है। शनिवार रात आई रिपोर्ट में कोरोना के 55 नए मरीज मिले। मरीजों की संख्या बढ़कर 3486 पर पहुंच गई है।  आगे पढ़ें

cm-shivraj-said-pm-man-of-ideas-commendable-work-t

सीएम शिवराज ने कहा- पीएम मैन आफ आइडियाज, आत्मनिर्भर भारत बनने की दिशा में सराहनीय कार्य

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी मैन आफ आइडियाज है। अद्भुत नेता है। उनकी प्रेरणा हमें काम करने के लिए नया उत्साह देती है। लोक कल्याण की भावना उनकी वाणी से प्रकट होती है। उन्होंने देश में कोरोना संकट की गंभीरता को समय रहते पहचाना, हमें उससे परिचित कराया तथा आगाह किया। उनके कुशल नेतृत्व में हमने कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण पाया है। मुख्यमंत्री चौहान रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम सुनने के बाद उस पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे। इस अवसर पर खजुराहो सांसद वी.डी. शर्मा भी उपस्थित थे।  आगे पढ़ें

at-the-corona-review-meeting-shivraj-said-reduce-m

कोरोना की समीक्षा बैठक में शिवराज ने कहा- इलाज की सर्वोत्तम व्यवस्था सुनिश्चित कर मृत्यु दर कम करें

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना इलाज की सर्वोत्तम व्यवस्था सुनिश्चित कर मृत्यु दर को कम करना है। हमारे लिए हर जान कीमती है। इलाज में थोड़ी भी चूक बर्दाश्त नहीं होगी। मुख्यमंत्री चौहान ने आज वरिष्ठ अधिकारियों एवं चिकित्सकों के साथ एक-एक कोविड वहां हुई डैथ की वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से एनालिसिस प्रारंभ की। सर्वप्रथम मेडिकल कॉलेज इंदौर के डीन एवं चिकित्सा विशेषज्ञ के साथ कोविड-19 के कारण वहां हुई मृत्यु का विस्तृत विश्लेषण किया गया। इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, डीजीपी विवेक जौहरी, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा संजय शुक्ला, आयुक्त जनसंपर्क सुदाम पी. खाड़े आदि उपस्थित थे।  आगे पढ़ें

the-countrys-gdp-growth-was-31-percent-during-the-

जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान देश की जीडीपी वृद्धि दर 3.1 प्रतिशत रही, सालाना स्तर पर 4.2 प्रतिशत

जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर 3.1 प्रतिशत रही है। हालांकि पूरे साल के दौरान जीडीपी की वृद्धि दर 4.2 प्रतिशत रही। इसी तरह ग्रास वैल्यू एडेड (जीवीए) 3.9 प्रतिशत रहा है। यह जानकारी केंद्रीय सांख्यिकीय विभाग द्वारा शुक्रवार को जारी की गई। कोरोना संकट के बाद यह आंकड़ा पहली बार जारी किया गया है।  आगे पढ़ें

majabur-sistam-magarur-sarakaren-aur-majadur

मजबूर सिस्टम, मगरूर सरकारें और मजदूर

बात सही भी है, लेकिन व्यावहारिक नहीं। क्योंकि जो ट्रेन में चढ़े, वे भूखे-प्यासे इस सफर को पूरा करने के लिए मजबूर हैं। किसी स्टेशन पर पीने के पानी या खाने के सामान का यात्रियों द्वारा लूट लिया जाना यकीनन गलत है, किन्तु इस गलत की विवेचना करें तो साफ है कि ऐसा अभावों के चलते किया गया। मजबूरी में किया गया है। इन मजदूरों के बातें मीडिया में आ रही हैं। वे बताते हैं कि उन्हें रास्ते भर यूं दुतकारा जा रहा है, जैसे कि वे कोरोना के पीड़ित या संवाहक हों। यात्री गाड़ियों में उनके लिए भोजन तो दूर, पानी तक का बंदोबस्त नहीं किया गया है। इन ट्रेनों में लोग दम तोड़ रहे हैं। रोग, शोक और भय के चलते। अफसोस की बात यह भी कि इस कष्ट भरे सफर के बावजूद उन्हें घर पहुंचकर राहत मिलने की कोई उम्मीद नहीं है। read more  आगे पढ़ें

after-getting-corona-infected-in-raj-bhavan-there-

राजभवन में कोरोना संक्रमित मिलने के बाद परिसर में निवासरत परिवारों को बाहर जाने पर रहेगा प्रतिबंध, कर्मचारियों को 'वर्क फ्रॉम होम' के निर्देश

राजभवन परिसर में कोरोना संक्रमण के मद्देनजर जरूरी सावधानियों की प्रतिदिन उच्चस्तरीय समीक्षा की जाएगी। यहां निवास करने वाले कर्मचारियों और उनके परिजन में से सात लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए हैं, जिन्हें कल ही अस्पताल में भर्ती कराया गया है। परिसर के कर्मचारियों के आवास क्षेत्र को कोविड 19 प्रभावित कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित करके 'स्टैंडर्ड आॅपरेटिंग प्रोसीजर' (एसओपी) को सुनिश्चित किया गया है। राजभवन परिसर में निवासरत सभी परिवारों को मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर तीन दिवस तक बाहर जाने पर प्रतिबंध रहेगा। इसके साथ परिसर में स्थित विभिन्न कार्यालयों को आगामी आदेश तक के लिए बंद कर दिया गया है।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति