turant-kuchaliye-is-samp-ka-phan

तुरंत कुचलिये इस सांप का फन

देश में धार्मिक उन्माद के रह-रहकर सामने आते किस्सों के बावजूद इस घटनाक्रम ने मुझे भीतर तक झकझोरकर रख दिया है। क्योंकि कट्टरता में ऐसी मूर्खता का तड़का शायद पहली बार देख रहा हूं। मैं ने वह मुस्लिम परिवार देखा है, जिसके बुजुर्ग बच्चों को स्नान किये बगैर रामानंद सागर कृत रामायण देखने नहीं देते थे। इस धारावाहिक का ऐसा जुनून की रविवार की सुबह उस परिवार के बच्चे खुद ही जल्दी नहाकर टीवी के सामने डट जाते थे। मैं अपने तमाम उन हिंदू मित्रों को देखता हूं, जो बताते हैं कि उनके लिए लेखन के समय हिंदी की अपेक्षा उर्दू का प्रयोग ज्यादा आसान रहता है। मैं उस अल्पसंख्यक युवक का भी दोस्त रह चुका हूं, जो अपनी जवानी में उर्दू के कठिन से कठिन शब्दों के हिंदी के सरल से सरल अर्थ की तलाश करता रहता था। मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड में मैं ने उन अल्पसंख्यक ...... को देखा है, जो रामचरित मानस का पाठ करते समय साक्षात गोस्वामी तुलसीदास के सदृश नजर आने लगते थे।   आगे पढ़ें

फर्स्ट कॉलम (प्रकाश भटनागर) और भी

राज्य और भी

new-system-of-distribution-of-nutritious-food-thro

जल्द लागू होगी स्व सहायता समूहों के माध्यम से पोषण आहार वितरण की नई व्यवस्था, सरकार ने वापस ली पुनरीक्षण याचिका

प्रदेश की आंगनवाड़ियों में स्व सहायता समूहों के माध्यम से पोषण आहार वितरण की नई व्यवस्था जल्द लागू हो सकेगी। पोषण आहार वितरण को लेकर हाईकोर्ट की इंदौर बेंच द्वारा दो साल पहले दिया गया फैसला बरकरार रहेगा। दरअसल, इस फैसले को लेकर जबलपुर हाईकोर्ट में दाखिल पुनरीक्षण याचिका राज्य सरकार ने गुरुवार को वापस ले ली है। जस्टिस सुजय पॉल और जस्टिस अंजुली पालो की खंडपीठ ने सरकार की अपील स्वीकार करते हुए मामला बंद कर दिया।   आगे पढ़ें

chief-minister-sushyan-sanjivani-yojana-to-start-i

प्रदेश में 20 जिलों के 89 अधिसूचित विकासखंडों में शुरू होगी मुख्यमंत्री सुषेण संजीवनी योजना, शीत सत्र में पेश होगा राईट-टू-हेल्थ विधेयक

मंत्री सिलावट ने बताया है कि चिकित्सकों और चिकित्सालय से जुड़े स्टाफ की कमी को प्राथमिकता से पूरा किया जा रहा है। प्रदेश में अब तक 600 संविदा एनएचएम चिकित्सकों, 1002 बन्ध पत्र चिकित्सकों और 547 पीएससी बैकलॉग चिकित्सकों की नियुक्ति की गई है। सेवानिवृत्त 100 चिकित्सकों की सीधी भर्ती प्रक्रियाधीन है। प्रदेश में 1033 स्टाफ नर्सों की नियुक्ति की गई है और 760 स्टाफ नर्सों की भर्ती प्रकिया चल रही है। उन्होंने बताया कि 1550 कम्युनिटी हेल्थ आॅफिसर की नियुक्ति की गई है तथा 2019 एएनएम की भर्ती की प्रक्रिया चल रही है।   आगे पढ़ें

राजनीति और भी

bjp-made-an-attack-on-congress-on-making-electoral

चुनावी बांड्स को मुद्दा बनाने पर भाजपा ने कांग्रेस पर बोला हमला, कहा- वहीं लोग विरोध कर रहे हैं, जो कालेधन पर विश्वास करते हैं

कांग्रेस के चुनावी बॉन्ड्स को मुद्दा बनाने पर बीजेपी ने जोरदार हमला बोला है। सत्तारूढ़ पार्टी ने गुरुवार को कहा कि हताश और भ्रष्ट नेताओं का गठबंधन चुनाव में साफ-सुथरा पैसा आने नहीं देना चाहता है। केंद्रीय मंत्री और पार्टी के वरिष्ठ नेता पीयूष गोयल ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस नेताओं को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि चुनावी बॉन्ड्स का सिर्फ वही लोग विरोध कर रहे हैं, जो काले धन में विश्वास करते हैं और जिन्हें चुनाव में काला धन इस्तेमाल करने की आदत पड़ गई है। आपको बता दें कि कांग्रेस ने आरोप लगाए हैं कि चुनावी बॉन्ड से भ्रष्टाचार बढ़ा है।   आगे पढ़ें

the-picture-of-forming-a-new-government-in-maharas

महाराष्ट्र में नई सरकार बनाने की तस्वीर हो रही साफ, शिवसेना का सीएम और कांग्रेस-एनसीपी से 2 डेप्युटी सीएम पर बनी सहमति!

महाराष्ट्र में चुनाव नतीजों के ऐलान के करीब एक महीने बाद नई सरकार की तस्वीर अब करीब-करीब साफ हो चुकी है। एनसीपी और कांग्रेस के बीच पिछले 2 दिनों तक चले मंथन के बाद शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने पर सहमति बन चुकी है। सूत्रों के मुताबिक सूबे में मुख्यमंत्री शिवसेना का होगा। इसके अलावा 2 डेप्युटी सीएम होंगे जो एनसीपी और कांग्रेस से होंगे। हालांकि, एनसीपी का जोर रोटेशनल सीएम पर है यानी पार्टी शिवसेना के बाद ढाई साल तक अपना मुख्यमंत्री चाहती है। 2 डेप्युटी सीएम की सूरत में शिवसेना का जोर पूरे 5 साल तक के लिए सीएम पद पर होगा। स्पीकर पद कांग्रेस के पास जा सकता है लेकिन एनसीपी की भी इस पद पर नजर है। आज मुंबई में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के बीच इन मुद्दों पर भी सहमति बन सकती है। सबकुछ सही रहा तो सोमवार को महाराष्ट्र में नई सरकार का गठन हो सकता है।   आगे पढ़ें

सियासी तर्जुमा

jnu-ke-andolan-kee-yah-taiming

जेएनयू के आंदोलन की यह टाइमिंग

जेएनयू प्रबंधन ने होस्टल तथा मैस के चार्ज में वृद्धि की। छात्र-छात्राएं इसके खिलाफ सड़क पर आ गये। वृद्धि का कुछ हिस्सा वापस लिया गया। लेकिन आंदोलन जारी रहा। कई अचानक इसका स्वरूप और उग्र करने की कोशिश की गयी। उस समय, जबकि संसद का शीतकालीन सत्र आरम्भ हो रहा था। क्या यह किसी खास टाइमिंग के हिसाब से किया गया? क्यों ऐसा हुआ कि संसद के नजदीक आते सत्र के पहले ही जेएनयू परिसर में लगी स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा के आसपास आपत्तिजनक और भड़काऊ नारे लिखे गये? क्या यह किसी खास षड़यंत्र का हिस्सा नहीं है कि इसी संस्थान से संबद्ध एक महिला कुछ दिन पहले योग से सैक्स बेहतर है वाले वाक्य की टी-शर्ट पहनकर अपना फोटो सोशल मीडिया पर वायरल करती है। ध्यान रखिए कि जेएनयू में प्रभावी असर रखने वाली मानसिकता ही वह है, जो योग जैसे विज्ञान को भी हिंदू धर्म से जोड़कर इसका विरोध करती आ रही है। तब भी, जबकि दुनिया के कई देश भारत के इस ज्ञान का लोहा मानकर उसे अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बना चुके हैं।   आगे पढ़ें

who-will-conquer-in-rampur

एक सीट, दो नारी, कौन पड़ेगी भारी...?

सपा विधायक मोहम्मद आजम खां के लोकसभा के लिये निर्वाचित होने के बाद रिक्त हुयी रामपुर विधानसभा सीट पर कन्नौज की पूर्व सांसद डिंपल यादव के उतरने के कयास लगाये जा रहे हैं,   आगे पढ़ें

शख्सियत और भी

मंदसौर खबर और भी

नज़रिया और भी

atank-kee-rah-se-hate-pakistaan-varna-tabahi-tay

आतंक की राह से हटे पाकिस्तान वर्ना तबाही तय

केंद्र में मोदी सरकार के गठन के बाद से पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए तीन बार भारतीय सेना स्ट्राइक कर चुकी है। सितंबर 2016 में उरी में आर्मी हेड क्वार्टर में आतंकी हमले के बाद भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक कर कश्मीर में चल रहे शिविरों को निशाना बनाया गया था। पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों के काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद से पाकिस्तानी सीमा के पांच किलोमीटर घुसकर शक्तिशाली बम बरसा कर बालाकोट में चल रहे आतंकी अड्डों को ध्वस्त कर दिया था। वायु सेना की कार्रवाई से पाकिस्तान की सरकार और सेना इस तरह घबरा उठी कि उसने दुनिया भर में गुहार लगाना शुरू कर दिया ,लेकिन उन्हें कहीं भी सहानुभूति हासिल करने में सफलता नहीं मिली। इसके बाद उम्मीद की जा रही थी कि अब थका हारा पाकिस्तान अपने गिरेबान में झांकने की जरूरत महसूस करेगा, परंतु ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। सीमा पर उसकी नापाक हरकतों का जवाब देने के लिए भारतीय सेना ने इस बार तो तोपखाने का इस्तेमाल कर उसे हक्का-बक्का कर दिया। read more   आगे पढ़ें

nanihal-between-nasha-and-nangai

नशा और नंगई के बीच नौनिहाल

कई बहुप्रतिष्ठित अखबारों पर यह आरोप लग चुका है कि वे यूजर्स, लाईक,हिट्स बढ़ाने के लिए पोर्न सामग्री का इस्तेमाल करते हैं। क्योंकि यूजर्स की संख्या के आधार पर ही विग्यपन मिलते हैं। यानी कि वर्जनाओं को वैसे ही फूटने का मौका मिला जैसे कि बाढ़ में बाँध फूटते हैं। सारी नैतिकता इसके सैलाब में बह गई। कमाल की बात यह कि साँस्कृतिक झंडाबरदारी करने वाली सरकार ने इस पर दृढता नहीं दिखाई। इंदौर हाईकोर्ट के वकील कमलेश वासवानी की जनहित याचिका में सुप्रीम कोर्ट ने 850 पोर्नसाईटस पर प्रतिबंध लगाने को कहा। सरकार ने दृढ़ता के साथ कार्रवाई शुरू तो की लेकिन जल्दी ही कदम पीछे खींच लिए।   आगे पढ़ें

विश्लेषण और भी

after-the-temple-mosque-in-ayodhya-now-it-is-the-t

अयोध्या में मन्दिर मस्जिद के बाद अब 'राष्ट्र मन्दिर' के निर्माण की बारी

अयोध्या में मंदिर निर्माण जल्द से जल्द प्रारंभ किए जाने के लिए साधु संतों के जमावड़े ने सरकार से कई बात कानून बनाने अथवा अध्यादेश जारी करने की मांग की गई थी। तब भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्पष्ट कहा था कि यह मामला सर्वोच्च न्यायालय में विचाराधीन है और सरकार न्यायालय के फैसले की प्रतीक्षा करेगी। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल की शुरुआत के बाद भी अपने रुख को दोहराया। सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी भूरी -भूरी प्रशंसा की जानी चाहिए कि उन्होंने देश की जनता, साधु संतों और राजनीतिक दलों को इस फैसले की धैर्य पूर्वक प्रतीक्षा करने के लिए मानसिक रूप से तैयार किया।   आगे पढ़ें

is-this-the-time-for-mahi-to-quit-cricket

क्या ये माही की पिच से विदाई का समय है?

प्रसाद का कहना है कि धोनी अब टीम में पहली स्वाभाविक पसंद नहीं रह गये हैं और उन्हें अपने स्थान के बारे में खुद विचार करना होगा।   आगे पढ़ें

फोटो गैलरी और भी