sabak-dene-vale-kaarravai-hi-jaruri

सबक देने वाली कार्रवाई ही जरूरी......

मरकमज में धार्मिक समागम का आयोजन 1 से 15 मार्च, 2020 के बीच हुआ। वह अवधि, जब चीन के अलावा शेष दुनिया सहित भारत में भी कोरोना वायरस के पैर पड़ चुके थे। भारत में कोरोना का पहला मामला केरल में जनवरी की आखिरी तारीख को सामने आ चुका था। चीन के वुहान में पढ़ने वाला छात्र भारत लौटा था। फरवरी में ही केरल सरकार ने हैल्थ इमरजेंसी लागू करने की बात शुरू कर दी थी। मार्च की शुरूआत तक देश में पचास से ज्यादा मामले कोरोना पाजिटीव के सामने आ चुके थे और दुनिया भर के देशों में यह पैर पसार चुका था। इसी तारिख में मरकज ने 'जोड़' नामक धार्मिक आयोजन दिल्ली में किया। देश और बाहर से करीब पांच हजार लोग इसमें शामिल हुए। मलेशिया और इंडोनेशिया सहित कई मुस्लिम देशों के लोग इस धार्मिक आयोजन में शामिल हुए।   आगे पढ़ें

फर्स्ट कॉलम (प्रकाश भटनागर) और भी

राज्य और भी

cm-shivraj-gave-gratitude-to-all-the-people-involv

इंदौर में आम जनता को कोरोना वायरस से बचाने में लगे सभी व्यक्तियों को सीएम शिवराज ने दिया साधुवाद

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज इंदौर में आम जनता को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए दी जारी रही सेवाओं के लिए वहां कार्यरत चिकित्सकों, समाजसेवियों, राजस्व और नगर निगम के अधिकारियों-कर्मचारियों, प्रशासनिक अधिकारियों, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को साधुवाद दिया। उन्होंने इस बड़ी विपदा के समय सेवा कर रहे लोगों की सराहना भी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि आप निरंतर पीड़ित मानवता की सेवा कर रहे हैं। आपके इस जज्बे को मैं प्रणाम करता हूँ। इस महामारी से निपटने में आप जुटे रहें, मैं भी आपके साथ हूँ। आप लोगों से इंदौर आने पर मिलूंगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सब मिलकर कोरोना को पराजित कर देंगे। मानवता के विरूद्ध कोरोना द्वारा छेड़े गए युद्ध में हमारी विजय होगी। चौहान आज मंत्रालय से इंदौर में कोरोना की स्थिति के बारे में विभिन्न वर्गों से टेलीफोन पर बात कर रहे थे।   आगे पढ़ें

corona-transition-narottam-mishra-serving-cows-in-

कोरोना संक्रमण: गौ शाला में गायों की सेवा कर रहे नरोत्तम मिश्रा, खाना बनाने में व्यस्त कैलाश विजयवर्गीय

पोता-पोती के साथ खेलने का वीडियो सामने आने के बाद भाजपा के वरिष्ठ विधायक नरोत्तम मिश्रा का एक और वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में नरोत्तम मिश्रा भोपाल में अपने घर के पीछे बनी गौ शाला में गायों की सेवा करते नजर आ रहे हैं। बताया जा रहा है कि उनकी गौ सेवा दैनिक दिनचर्या में शामिल है। उधर, इंदौर में भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने खाली समय में सालों बाद घर की जिम्मेदारी संभाल ली है। कैलाश का भी एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है जिसमें वे शिमला मिर्च की सब्जी बनाते नजर आ रहे हैं।   आगे पढ़ें

राजनीति और भी

home-minister-in-west-bengal-attacked-mamta-said-p

पश्चिम बंगाल में गृहमंत्री ने ममता पर बोला हमला, कहा- सीएए के खिलाफ अल्पसंख्यकों को भड़काया

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ममता बनर्जी पर अयोध्या में राम मंदिर का विरोध करने का आरोप लगाया। कोलकाता में 'हम अन्याय नहीं सहेंगे' अभियान की शुरूआत करते हुए रविवार को उन्होंने कहा- ममता दीदी ने कांग्रेस, सपा, बसपा, वामपंथियों के साथ मिलकर राम मंदिर का विरोध किया। ममता ने अनुच्छेद 370 हटाने का विरोध किया और नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ अल्पसंख्यकों को भड़काया। इस बीच, राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि दिल्ली कुछ दिनों से जल रही है। उन्होंने कहा- केंद्र की सत्ताधारी पार्टी दिल्ली चुनाव नहीं जीत सकी इसलिए उसने सांप्रदायिकता फैलाकर समाज को बांटने की कोशिश की।   आगे पढ़ें

the-union-minister-again-gave-the-statement-said-t

केन्द्रीय मंत्री ने फिर दिया बयान, कहा- पूर्वजों से गलती हो गई। मुसलमान भाइयों को 1947 में ही पाकिस्तान भेज दिया जाना चाहिए था

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एक बार फिर विवादित बयान दिया। बुधवार को बिहार के पूर्णिया में मीडिया से बातचीत के दौरान सिंह ने कहा- हमारे पूर्वजों से गलती हो गई। मुसलमान भाइयों को 1947 में ही वहां (पाकिस्तान) भेज दिया जाना चाहिए था। सिंह के मुताबिक, 1947 के पहले हमारे पूर्वज आजादी की लड़ाई लड़ रहे थे, उसी वक्त मोहम्मद अली जिन्ना इस्लामिक स्टेट की योजना बना रहे थे। गिरिराज के इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। सिंह ने ये भी कहा कि पूर्वजों की गलती का खामियाजा हमें आज उठाना पड़ रहा है।   आगे पढ़ें

सियासी तर्जुमा

shivrajs-heartbreaking-hearts-talk

शिवराज की मायनाखेज दिल की बात

विद्यार्थी परिषद के मामूली छात्र नेता से लेकर सांसद, विधायक और मुख्यमंत्री पद तक पहुंचे शिवराज की यही यूएसपी है कि चेहरे के भावों से वे जितना समझ में आते हैं, उतना उनके भीतर की बात को समझना टेढ़ी खीर से कम नहीं है। अब इस यूएसपी को आप चाहे अच्छा कहें या बुरा, लेकिन सच यही है कि भाजपा के इस नेता ने पेट में दाढ़ी वाले हुनर को चेहरे पर दाढ़ी न हुए बगैर भी खूबसूरती से खुद में कायम रखा है। और मुझे लग रहा है कि अब वे एक नहीं, बल्कि दो-दो दाढ़ी वालों से हिसाब चुकता करने की मुद्रा में आ गये लगते हैं।read more   आगे पढ़ें

bjp-ki-oohapoh

भाजपा की ऊहापोह....

शिवराज सिंह चौहान की अतिसक्रियता मुझे भ्रम में डालती है। भ्रम यह है कि क्या वाकई भाजपा ने तय कर लिया है कि अगले पांच साल उसे किस भूमिका में रहना है? अगर उसे विपक्ष की भूमिका निभानी है तो विपक्ष के तेवर और धार तो ट्विटर छोड़ कर सड़क पर संघर्ष से ही सामने आएंगे। और अगर भाजपा नेताओं के जेहन में है कि कमलनाथ सरकार को कभी भी चलता करना है तो फिर उसे तय करना होगा कि उसका अगला नेतृत्व क्या होगा? क्या शिवराज सिंह चौहान वाकई कमलनाथ सरकार के खिलाफ हैं? या फिर तब तक उनकी रस्मी खिलाफत ऐसी ही चलती रहेगी, जब तक यह तय नहीं हो जाता कि इस बार भी मौका उनके ही हाथ आएगा। कांग्रेस या भाजपा के एक-दो विधायक कम-ज्यादा हो जाने से सरकार की स्थिरता और अस्थिरता को लेकर ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। फर्क अगर पड़ेगा तो इससे कि भाजपा के नेता और खासकर शिवराज अपने लिए कौन सी भूमिका तय करने के इच्छुक हैं? read more   आगे पढ़ें

शख्सियत और भी

मंदसौर खबर और भी

नज़रिया और भी

the-countries-left-from-this-old-dhapli-and-tan

इस पुरानी ढपली और तान से बचे देश.....

पिछले कुछ समय से जो चीजो भारत में हो रही हैं, चाहें वो सीएए का हिंसक विरोध हो, ट्रम्प के भारत दौरे के समय दिल्ली में हुए दंगे हों, जेएनयू और जामिया की सामने आई सच्चाई हो या फिर कोरोना से लड़ने की कोशिशे हों, एक जमात जो खुद को बुद्धिजीवी कहती है, ने हर बार यह साबित किया है कि देश की सबसे बड़े दुश्मनों में वो शुमार हैं। read more   आगे पढ़ें

atank-kee-rah-se-hate-pakistaan-varna-tabahi-tay

आतंक की राह से हटे पाकिस्तान वर्ना तबाही तय

केंद्र में मोदी सरकार के गठन के बाद से पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए तीन बार भारतीय सेना स्ट्राइक कर चुकी है। सितंबर 2016 में उरी में आर्मी हेड क्वार्टर में आतंकी हमले के बाद भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक कर कश्मीर में चल रहे शिविरों को निशाना बनाया गया था। पुलवामा में सीआरपीएफ के जवानों के काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद से पाकिस्तानी सीमा के पांच किलोमीटर घुसकर शक्तिशाली बम बरसा कर बालाकोट में चल रहे आतंकी अड्डों को ध्वस्त कर दिया था। वायु सेना की कार्रवाई से पाकिस्तान की सरकार और सेना इस तरह घबरा उठी कि उसने दुनिया भर में गुहार लगाना शुरू कर दिया ,लेकिन उन्हें कहीं भी सहानुभूति हासिल करने में सफलता नहीं मिली। इसके बाद उम्मीद की जा रही थी कि अब थका हारा पाकिस्तान अपने गिरेबान में झांकने की जरूरत महसूस करेगा, परंतु ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। सीमा पर उसकी नापाक हरकतों का जवाब देने के लिए भारतीय सेना ने इस बार तो तोपखाने का इस्तेमाल कर उसे हक्का-बक्का कर दिया। read more   आगे पढ़ें

विश्लेषण और भी

lat-sahab-gussa-jayaj-par-aap-bhee-dakaiton-ka-sat

लाट साहब!! गुस्सा जायज पर आप भी डकैतों का साथ देने वालों का सजदा छोड़ें

बढ़िया है बाबू जी! बाबू शब्द ब्यूरोक्रेसी के लिए दशकों से इस्तेमाल हो रहा है। सम्भवतः अंग्रेजों के समय से जब लगान इत्यादि राजस्व संग्रहण के लिए इस सर्विस का गठन हुआ था। गुस्सा आना भी चाहिए, लेकिन सिर्फ एक पक्ष पर? घटिया मानसिकता वाले बयान पर नाराजगी जायज है, लेकिन क्या मध्यप्रदेश में कोई ऐसा अफसर भी है, जिसने राज्य मंत्री पद पर रहते समय सामने पड़ने पर बद्रीलाल यादव को सलाम न ठोका हो? यदि है तो गुस्सा जायज है। साल भर पहले तक मुख्यमंत्री रहे शिवराज सिंह चौहान या मंत्री रहे उनकी पार्टी नेताओं की जी हजूरी न की हो? आपने अपनी डिग्निटी के लिए तमाम सियासी बिरादरी को डकैत और घपलेबाज का तमगा देकर उनकी डिग्निटी को चुनौती दी है। अब आप कैसे वर्तमान सत्ताधारी नेताओं के सम्मान में मुश्कें कस कर सजदा करेंगे?read more   आगे पढ़ें

after-the-temple-mosque-in-ayodhya-now-it-is-the-t

अयोध्या में मन्दिर मस्जिद के बाद अब 'राष्ट्र मन्दिर' के निर्माण की बारी

अयोध्या में मंदिर निर्माण जल्द से जल्द प्रारंभ किए जाने के लिए साधु संतों के जमावड़े ने सरकार से कई बात कानून बनाने अथवा अध्यादेश जारी करने की मांग की गई थी। तब भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्पष्ट कहा था कि यह मामला सर्वोच्च न्यायालय में विचाराधीन है और सरकार न्यायालय के फैसले की प्रतीक्षा करेगी। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल की शुरुआत के बाद भी अपने रुख को दोहराया। सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी भूरी -भूरी प्रशंसा की जानी चाहिए कि उन्होंने देश की जनता, साधु संतों और राजनीतिक दलों को इस फैसले की धैर्य पूर्वक प्रतीक्षा करने के लिए मानसिक रूप से तैयार किया।   आगे पढ़ें

फोटो गैलरी और भी