स्वास्थ्य कर्मियों पर हमले के बाद कोरोना ड्यूटी से कतरा रहे डॉक्टर, सीएम को पत्र लिख मांगी सुरक्षा



सतना। कोरोना ड्यूटी में पूरा स्वास्थ्य अमला तैनात है। संभावित संक्रामितों की जांच से लेकर होम क्वारेंटाइन वालों के घरों तक पहुंच डॉक्टर व मेडिकल टीम कोरोना से बचाने लगातार उनकी जांच कर रही है। अब डॉक्टर कोरोना ड्यूटी से कतरा रहे है। जाहिर है जब बड़े महानगरों में मेडिकल टीम पर जानलेवा हमला किया जाएगा, उग्र भीड़ दरिंदगी पर उतर आएगी, तो जान-जोखिम में डाल भला ड्यूटी कौन करेगा


इंदौर की घटना के बाद सतना के भी चिकित्सक दहशत में हैं। लिहाजा डॉक्टरों का कहना है कि वो संकट के इस दौर में अपना धर्म निभाएंगे। ड्यूटी करते रहेंगे, पर शर्त यह है कि उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जाए। आईएमए की सीएम से मांग: इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष के निर्देश पर आईएमए सतना के अध्यक्ष डॉ. प्रवीण श्रीवास्तव ने इंदौर हिंसा के मामले में सीएम को ई-मेल के माध्यम से पत्र लिखा है।


डॉ. श्रीवास्तव ने डॉक्टरों पर हमले की निंदा करते हुए कहा कि सरकार को इस पर अंकुश लगाना चाहिए। डॉक्टर पूरी लगन के साथ कोरोना से जंग लड़ रहे हैं। अपनी जान की परवाह न करते हुए दूसरों को इस मुसीबत से बचाने खुद को जोखिम में डाल जांच व इलाज कर रहे हैं। बावजूद इसके जिनके लिए डॉक्टर्स ड्यूटी कर रहे, वहीं हिंसा पर उतर आएंगे, तो हिन्दुस्तान यह जंग कैसे जीतेगा।


ये हैं मांग: आईएमए सतना के अध्यक्ष डॉ. प्रवीण श्रीवास्तव ने स्थानीय प्रशासन डीएम व पुलिस कप्तान से यह मांग की है, कि डॉक्टर जो कोरोना ड्यूटी में तैनात हैं। इसके अलावा तमाम सूचनाओं पर जांच-पड़ताल के लिए जा रही मेडिकल टीम को सुरक्षा प्रदान की जाए। डॉक्टरोंं को उनके ड्यूटी घण्टों के दौरान सिक्योरिटी मिलनी चाहिए। वहीं संगठन की सीएम से मांग है कि इंदौर हमले में शामिल दोषियों के विरूद्ध कार्रवाई की जाए।


इन हिंसक हमलों के अपराधियों के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम या इस तरह के अन्य उपयुक्त आतंकवादी विरोधी अधिनियम के तहत कार्रवाई की जाए। तब बच गया था सतना: डॉक्टरों का मानना हैं कि बेशक- इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की मांग जायज है। कुछ दिनों पूर्व रीवा रोड स्थित एक फूड प्लाजा में कोरोना की स्क्रीनिंग करने पहुंचे डॉक्टर एसपी तिवारी ऐसी हिंसा का सामना कर चुके है, हालांकि बड़ी घटना नहीं हुई और डॉ. तिवारी की समझाइश के बाद हालात सामान्य हो गए। बता दें कि तो विदेशी महिलाओं की स्क्रीनिंग को लेकर दोनों महिलाएं भड़क गई थी। इसके अलावा सतना स्टेशन में पूना से आया एक युवक जांच कराने से परहेज करने लगा था और गाली-गलौज भी की थी।


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति