कांग्रेस में अध्यक्ष को लेकर गहराए संकट पर सिंधिया ने जताई चिंता, कहा-ऐसी स्थिति संगठन में कभी नहीं दिखी



भोपाल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस में अध्यक्ष पद को लेकर गहराए संकट पर चिंता जताई है। उन्होंने पत्रकारों से चर्चा में कहा कि सात सप्ताह हो चुके हैं लेकिन अध्यक्ष नहीं है


ऐसी स्थिति कांग्रेस संगठन में कभी नहीं दिखी। सिंधिया ने कहा कि पार्टी में अध्यक्ष के रूप में ऐसी शख्सियत को मौका दिया जाना चाहिए जो कांग्रेस में नई ऊर्जा पैदा कर सके।


पार्टी का नया अध्यक्ष कौन होगा, इस सवाल पर उन्होंने कहा कि पार्टी संयुक्त रूप से निर्णय लेती है। मेरा कहना है कि निर्णय जल्द हो। नए अध्यक्ष का निर्णय जल्दी और संयुक्त रूप से होना चाहिए।


उन्होंने स्पष्ट किया कि मेरी दौड़ सत्ता और कुर्सी के लिए नहीं बल्कि जनता की सेवा के लिए है। मेरा जनता से जुड़ाव है, कुर्सी और सत्ता से कोई जुड़ाव नहीं है।


एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि भाजपा मध्यप्रदेश में सत्ता हासिल करने और मुंगेरीलाल के सपने देखना छोड़ दे। सरकार में पीछे के दरवाजे से घुसने के सपने देखना बंद करे। कांग्रेस में सभी विधायक अपनी जवाबदारी समझते हैं। कांग्रेस मजबूत है और सरकार पूरे पांच साल चलेगी। कांग्रेस में गुटबाजी के सवाल पर उन्होंने कहा कि सरकार में कोई बंटवारा और टकराव नहीं है। सभी मंत्री विधायक और मुख्यमंत्री भी अपनी जवाबदेही समझते हैं।  

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति