आर्च ब्रिज निर्माण में देरी से नाराज महापौर आलोक शर्मा बैठे धरने पर, 72 घंटे का दिया अल्टीमेटम



भोपाल। छोटे तालाब पर आर्च ब्रिज निर्माण में देरी से नाराज महापौर आलोक शर्मा शुक्रवार को धरने पर बैठ गए। महापौर ने चेतावनी दी है कि अगर 72 घंटे में रानी कमलापति की प्रतिमा का लोकार्पण नहीं हुआ तो वह खुद इसका लोकार्पण कर देंगे


महापौर आलोक शर्मा आर्च ब्रिज में भाजपा जिला अध्यक्ष विकास विरानी और निगम परिषद अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान और एमआईसी के सदस्यों के साथ धरने पर बैठ गए हैं। उन्होंने कमलनाथ सरकार पर काम में रोड़ा अटकाने का आरोप लगाया है। असल में, आर्च ब्रिज की एप्रोच रोड में बाधक तीन मकानों के नहीं हटने से इसका काम अटका हुआ है।


महापौर ने कहा कि यदि इस ब्रिज पर ट्रैफिक चालू हो जाए तो कमला पार्क रोड का 15 प्रतिशत ट्रैफिक कम हो जाएगा। लोगों को सुविधा मिलेगी, लेकिन प्रदेश सरकार राजनीति के कारण इसमें रुचि नहीं ले रही है। भोपाल में महापौर आलोक शर्मा का कार्यकाल 18 फरवरी को समाप्त हो रहा है।


कांग्रेस पार्षद ने साबिस्ता जकी ने महापौर का पुतला फूंका : इधर, महापौर आलोक शर्मा के रवैया से नाराज होकर कांग्रेस पार्षद साबिस्ता जकी ने महापौर के धरना स्थल पर पुतला जलाया है। उन्होंने महापौर पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि महापौर ने विकास करने की बजाए भोपाल का विनाश किया है।


साबिस्ता ने कहा कि महापौर आलोक शर्मा चाहे तो अपने सिर का बाल मुड़वाकर घूमे किसी को कोई परवाह नहीं है। स्मार्ट सिटी के खिलाफ प्रदर्शन में शामिल हुए एमआईसी मेंबर: स्मार्ट सिटी के खिलाफ टीटी नगर में चल रहे आंदोलन में गुरुवार को एमआईसी मेंबर कृष्णमोहन सोनी भी शामिल हुए। वे स्मार्ट सिटी बोर्ड में महापौर आलोक शर्मा के प्रतिनिधि हैं। वे बुधवार को बोर्ड बैठक में शामिल हुए थे। टीनशेड पर हुए आंदोलन में व्यापारियों और रहवासियों ने टीनशेड की दुकानों के सामने लगे बैरिकेड हटाने की मांग की गई।/span>


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति