कमलनाथ का आरोप: कहा- जल संकट के लिए पूर्ववर्ती भाजपा सरकार दोषी



भोपाल । मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश में व्याप्त जल संकट के लिए पूर्ववर्ती भाजपा सरकार के 15 साल के कार्यकाल को दोषी बताया है। उन्होंने कहा कि 15 साल में भाजपा की सरकारों ने न योजनाएं बनाईं और न ही काम किया


इससे प्रदेश में पानी की समस्या भयावह रूप ले रही है। नाथ बोले कि उनकी प्राथमिकता में अब कृषि और नौजवान हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पत्रकारों से चर्चा में कहा कि लोकसभा सदस्य के रूप में कई बार शपथ ली, लेकिन पहली बार विधानसभा सदस्य की शपथ ली है।


दोनों लोकतंत्र के पवित्र मंदिर हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि विधायक बनने के बाद उनकी पहली प्राथमिकता कृषि क्षेत्र है, जिसमें सरकार ने क्रांतिकारी कदम उठाए। प्रदेश की 70 फीसदी आबादी कृषि व्यवस्था से जुड़ी है। इसमें सुधार की आवश्यकता है।


उनका लक्ष्य है कि किसान का सम्मान बढ़े। उन्हें उपज का सही दाम मिले और वे आत्मनिर्भर व कर्जमुक्त बनें। साथ ही प्रदेश के नौजवानों को रोजगार उपलब्ध हो और उनका भविष्य सुरक्षित रहे।


केंद्र-राज्य के बीच समन्वय बनाने का प्रयास मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका प्रयास होगा कि केंद्र और राज्य सरकार के बीच समन्वय स्थापित रहे। इसी दृष्टि से उन्होंने पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात भी की थी। उन्होंने आश्वासन भी दिया है कि प्रदेश हित के सारे काम प्राथमिकता से पूरे किए जाएंगे। सीएम ने कहा कि आने वाले सप्ताह में पीएम से फिर मुलाकात होगी, जिसमें प्रदेश के कई मुद्दों पर चर्चा होना है। 

loading...

रत्नाकर  त्रिपाठी

रत्नाकर त्रिपाठी

रत्नाकर त्रिपाठी की गिनती प्रदेश के उन वरिष्ठ पत्रकारों में होती है जिन्हें लेखनी का धनी माना जा सकता है। राष्ट्रीय सहारा, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर सहित कई अखबारों और ई टीवी तक अपनी विशिष्ट छाप छोड़ने वाले रत्नाकर प्रदेश के उन गिने चुने संपादकों में से एक है जिनकी अपनी विशिष्ट पहचान उनकी लेखनी से है।



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति