इंदौर में झमाझम बारिश ने दी मानसून की दस्तक, बालाघाट में आकाशीय बिजली गिरने बच्चों की मौत



इंदौर, बालाघाट। आखिर इंतजार के बाद बदरा बरस ही पड़े। शहर में दोपहर बाद हुई झमाझम बारिश ने मानसून की आमद के संकेत दे दिए। शहर में पहली ही बारिश में कई जगह सड़कों पर पानी बह निकला वहीं कुछ स्थानों पर पेड़ भी गिरने की खबर मिली है। हालांकि मानसून से पहले हुई इस बारिश ने व्यवस्थाओं की पोल भी खोल दी। कई जगह बिजली के तार भी टूट कर सड़कों पर गिर गए


बारिश के कारण शहर में अनेक स्थानों पर बिजली भी गुल हो गई। शहर के साथ ही रतलाम में भी बारिश हुई। बालाघाट जिले के डोंगरगांव के शिव नगर में आकाशीय बिजली गिरने से दो बच्चों की मौत हो गई। घटना रविवार शाम की है। बताया गया है कि अक्षय पिता रवि गोस्वामी 15 वर्ष और आयुष गिरी 10 वर्ष बकरियां चराने के लिए गए हुए थे।


इसी दौरान आकाशीय बिजली गिरने से दोनों उसकी चपेट में आ गए जिससे उनकी मौत हो गई। भीषण तपिश झेल चुके लोगों के लिए बारिश राहत लेकर आई। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक 24 जून को मानसून के प्रदेश में अपनी आमद दर्ज कराने के आसार बन गए हैं। शनिवार दोपहर को मानसून पूर्वी मप्र की सीमा से लगे छत्तीसगढ़ के पेंड्रा तक पहुंच चुका था।


खुशी की बात यह है कि इस बार बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से चला मानसून के प्रदेश में दो तरफ से दाखिल होने के संकेत मिले हैं। इससे जून के अंतिम सप्ताह में झमाझम बरसात होने की संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक बंगाल की खाड़ी से आगे बढ़े मानसून ने शनिवार दोपहर तक पेंड्रा में उपस्थिति दर्ज करा दी । उसके आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल बनी हुई हैं।


इसी क्रम में पूर्वी मप्र में रुक-रुक कर मानसून पूर्व की बरसात होने लगी है। शनिवार को नौगांव में 31,रीवा में 16,सागर में 14,उमरिया में 8,मलाजखंड में 3,सतना में 2 मिमी. बरसात हुई। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी जीडी मिश्रा ने बताया कि अब मानसून के पूर्वी मप्र में दाखिल होने की पूरी संभावना है। उधर अरब सागर से आगे बढ़ा मानसून रत्नागिरी तक पहुंच चुका है। इसके भी 3-4 दिन में मप्र में इंदौर संभाग से प्रवेश करने के आसार हैं। इस वजह से मालवा क्षेत्र में भी मानसून पूर्व की बरसात में तेजी आ गई है।  

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति