सरकार के खिलाफ घंटानाद आंदोलन के बहाने सड़कों पर उतरी भाजपा, पुलिस ने राकेश सिंह को किया गिरफ्तार



भोपाल। कांग्रेस सरकार बनने के 9 महीने बाद भाजपा घंटानाद आंदोलन के जरिए कमलनाथ सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरी। प्रदेश के सभी जिलों में कलेक्ट्रेट का घेराव किया गया। भाजपा कार्यकर्ताओं ने घंटे-घड़ियाल और झांझ -मंजीरा बजाकर सरकार को जगाया और मध्यप्रदेश बचाओ-कांग्रेस सरकार भगाओ के नारे लगाए। कलेक्ट्रेट के बाहर भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह और अन्य कार्यकर्ताओं पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और केंद्रीय जेल ले गई। जहां पर बाद में उन्हें छोड़ दिया गया


यहां भी भाजपा कार्यकतार्ओं ने सरकार की सद्बुद्धि के लिए केंद्रीय जेल के सामने रघुपति राघव राजाराम का भजन गाया। भोपाल में आंदोलन का नेतृत्व कर रहे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने कहा- कांग्रेस की निकम्मी सरकार ने मप्र के हित सूली पर चढ़ा दिए हैं। सोयाबीन में अफलन हैं, लेकिन मुख्यमंत्री तो दूर। मंत्री भी किसानों से मिलने नहीं गए। हमने इनकी नींद खोलने के लिए घंटानाद आंदोलन किया। अगर ये नींद से नहीं जागे तो हम जनता के लिए आगे और मजबूती से लड़ेंगे।


इस बार ज्ञापन नहीं देने के सवाल पर कहा कि लगातार ज्ञापन और शिकायत करके हमने जगाने की कोशिश की। लेकिन, वह नहीं जागी। इसलिए इस बार ज्ञापन नहीं देंगे। घंटानाद आंदोलन पूरे प्रदेश में किया गया। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान विदिशा में आंदोलन में शामिल हुए। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने जबलपुर, ग्वालियर में भूपेंद्र सिंह ने आंदोलन का नेतृत्व किया।


इंदौर में ये आंदोलन पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान और सागर में पार्टी उपाध्यक्ष प्रभात झा के नेतृत्व में किया गया। प्रदेश की कानून व्यवस्था बिगड़ी, अराजकता : भाजपा का दावा है कि पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था बिगड़ने से अराजकता की स्थिति है। किसान परेशान है, कर्जमाफी के नाम पर किसानों से छलावा किया गया। अब उन पर 14 फीसदी जुमार्ने के साथ कर्ज के भुगतान का दबाव बनाया जा रहा है। तबादलों ने गवर्नेंस को चौपट कर दिया।


भोपाल में महापौर आलोक शर्मा, विधायक रामेश्वर शर्मा और विश्वास सारंग के साथ हजारों भाजपा कार्यकर्ता हाथों में शंख, घंटे और मंजीरे लेकर कलेक्टर कार्यालय पहुंचे और विरोध किया। भाजपा ने 15 साल में प्रदेश को बदतर हालत में पहुंचाया: कांग्रेस: प्रदेश कांग्रेस की मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने कहा कि भाजपा ने 15 साल में प्रदेश की जो स्थिति बना दी। इसके बाद उसे कांग्रेस सरकार के अब तक के कार्यकाल में हुए कार्यों के बारे में जवाब मांगने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में से चर्चा के दौरान कहा कि पिछले 15 साल में राज्य में महिलाओं के खिलाफ अपराध लगातार बढ़े। रोजगार की स्थिति बदतर हो गई और कुपोषण एवं गरीबी को लेकर प्रदेश चचार्ओं में रहा।

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति