अयोध्या विवाद: राजधानी में लागू धारा 144 को किया और कड़ा, बाजार की सभी सेवाएं रहेंगी बहाल



भोपाल। अयोध्या मामले में शनिवार को आने वाले फैसले के मद्देनजर पहले से लागू धारा 144 के आदेश को और कड़ा कर दिया गया है। इसके तहत भोपाल जिले में पांच या पांच से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर पूरी तरह रोक रहेगी। आतिशबाजी और पटाखे फोड़ने पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है। कलेक्टर ने कहा है कि स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे, लेकिन बाजार और दफ्तर खुलें रहेंगे। लोग अपने सभी कार्य सामान्य रूप से कर सकते हैं। कहीं भी कोई तनाव की स्थिति निर्मित होती है तो उसकी सूचना तत्काल पुलिस-प्रशासन को दें


इसके अलावा दूध, ईंधन, पब्लिक ट्रांसपोर्ट और एंबुलेंस जैसी सभी तमाम सेवाएं भी आम दिनों की तरह ही जारी रहेंगी। कलेक्टर ने एक अन्य आदेश में सभी पेट्रोल-डीजल पंप संचालकों को निर्देश दिए हैं कि खुली बॉटल या अन्य किसी बर्तन में पेट्रोल-डीजल न दें। इसके अलावा सभी पेट्रोल पंप न्यूनतम 2000 लीटर पेट्रोल और 3000 लीटर डीजल का रिजर्व स्टॉक सुनिश्चित करें। धर्म गुरुओं और व्यापारी संगठनों के साथ अफसरों ने की बैठक: कलेक्टर तरुण पिथोड़े और डीआईजी इरशाद वली ने शुक्रवार शाम धर्मगुरुओं और व्यापारी संगठनों के साथ बैठक की।


सभी ने शांति व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग का भरोसा दिलाया। प्रभारी मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने शांति बनाए रखने की अपील का वीडियो जारी किया। संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने भी शांति व्यवस्था के लिए पर्याप्त इंतजाम के निर्देश दिए। 140 की-वर्ड के जरिए सोशल मीडिया के हर मैसेज पर नजर: भोपाल पुलिस की वाट्सएप मॉनिटरिंग सेल सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक संदेश प्रसारित करने वालों पर नजर रखे हुए है। एएसपी संदेश जैन ने बताया कि बीते एक महीने के भीतर 19 लोगों के खिलाफ केस दर्ज करवाए हैं, जिन्होंने आपत्तिजनक संदेश प्रसारित किए हैं।


पुलिस ने 140 ऐसे की-वर्ड तैयार किए हैं, जिन पर नजर रखी जा रही है सांची दूध सप्लाई में बाधा नहीं...भोपाल दुग्ध संघ के सीईओ शमीमुद्दीन ने बताया क शनिवार को रोजाना की तरह सांची दूध सप्लाई होगा। सहकारी समितियों से दूध भी आएगा। शहर के हर रुट पर दूध एवं प्रोडक्ट सप्लाई किए जाएंगे। शहर काजी सैयद मुश्ताक अली नदवी ने कहा कि भोपाल अमन का टापू है। यहां की गंगा-जमुनी तहजीब एक मिसाल है। इसे कायम रखने की अपील करते हुए उन्होंने कहा है कि आपसी भाईचारा बनाए रखें। सांप्रदायिक सौहार्द्र हमारी पहचान है।


कायम रहे परंपरा: गुफा मंदिर के महंत चंद्रमादास त्यागी ने अपील की है कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला हो, उसका सम्मान करें। सभी वर्ग भोपाल शहर में शांति, भाईचारे और सद्भाव की परंपरा को कायम रखकर एक बार फिर मिसाल पेश करें। आर्च बिशप डॉ. लियो कार्नेलियो ने भी अपील की है कि फैसले का सभी वर्ग के लोगों को सम्मान करना चाहिए। फैसला किसी के भी पक्ष में हो, शांति और भाईचारा बनाए रखें। फैसले का सम्मान करें:  सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का सम्मान करें। कानून व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस-प्रशासन का साथ दें। आपत्तिजनक गतिविधि नजर आती है तो तत्काल नजदीकी थाने या कंट्रोल रूम में सूचना दें। इरशाद वली, डीआईजी भोपाल

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति