उद्धव के बेटे आदित्य ठाकरे का राजनीतिक भविष्य संवारने में जुटे ‘पीके’, पहुंचाएंगे सीएम की कुर्सी तक!



मुंबई। चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (पीके) अब शिवसेना यूथ विंग के मुखिया और उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे के राजनीतिक करियर को संवारने में जुट गए हैं। पार्टी सूत्रों के मुताबिक राजनीति में आदित्य को आगे बढ़ाने के लिए प्रशांत ने कई तरह की रणनीति तैयार की है। विधानसभा चुनाव से पहले आदित्य ठाकरे की तरफ से जन आशीर्वाद यात्रा निकालना भी इसी रणनीति का एक हिस्सा है


  दरअसल, लोकसभा चुनाव से पहले फरवरी में ही प्रशांत किशोर ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और उनके बेटे आदित्य से मुलाकात की थी। हालांकि तब बीजेपी और शिवसेना के बीच संबंध सहज नहीं थे और चर्चा थी कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के कहने पर जेडीयू उपाध्यक्ष और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर उद्धव और आदित्य से मिले हैं।


पर, राजनीतिक विश्लेषकों ने माना था कि शिवसेना ने 'पीके' को साथ लाकर एक खास प्लान पर काम करना शुरू कर दिया है।  आदित्य को संवाने में जुटे प्रशांत  ऐसे में अब जिस तरह से प्रशांत किशोर आदित्य को संवारने में जुटे हैं, तो यह साफ हो गया है कि उस समय उनकी मुलाकात का मकसद आने वाले विधानसभा में शिवसेना के लिए रणनीति तैयार करने का था। इसी रणनीति को अब प्रशांत जमीन पर उतार रहे हैं।


  बता दें कि हाल ही में यह चर्चा भी तेज हुई है कि शिवसेना के इतिहास में पहली बार होगा जब आदित्य ठाकरे सीधे चुनावी मैदान में होंगे और वह पार्टी की तरफ से मुख्यमंत्री उम्मीदवार भी हो सकते हैं। पार्टी ने भी पिछले दिनों कहा था कि गठबंधन (बीजेपी के साथ) सरकार में इस बार मुख्यमंत्री का पद उसके हिस्से में आना है। ऐसे में शिवसेना इस पूरे चुनाव के दौरान आदित्य ठाकरे को एक परिपक्व नेता के रूप में जनता के सामने पेश करना चाहती है।


इसमें प्रशांत किशोर की भूमिका काफी अहम रहने वाली है।  प्रशांत की रणनीति से इन्हें हुआ फायदा  बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में प्रशांत किशोर ही बीजेपी के रणनीतिकार थे। उन्हीं के कारण नरेंद्र मोदी भारी बहुमत से सरकार बनाने में सफल रहे थे। इतना ही नहीं बिहार में जब बीजेपी और जेडीयू एक-दूसरे के खिलाफ चुनावी मैदान में थे, प्रशांत ही थे जिन्होंने नीतीश और लालू यादव की जोड़ी को सत्ता तक पहुंचा दिया था। हालिया आंध्र प्रदेश विधानसभा चुनाव में भी प्रशांत ने जगन मोहन रेड्डी के लिए रणनीति तैयार की और उसका परिणाम काफी सुखद रहा। ना सिर्फ जगन की पार्टी वाईएसआर कांग्रेस बड़ी जीत दर्ज कर सकी बल्कि जगन सीएम की कुर्सी तक भी पहुंचे।  

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति