चुनाव हारने के बाद लालू की बेटी ने करोड़ों की परियोजना की मंजूरी ली वापस, विपक्ष ने कसा तंज



पटना। राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती ने अपनी सांसद निधि से 15 करोड़ रुपये की परियोजना की मंजूरी वापस ले ली। मीसा के फैसले से योजना विभाग के अधिकारी परेशान हैं। एक अधिकारी ने बताया कि उनके विभाग को परियोजना के लिए 6 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई थी और अब वापस लिए जाने पर उन्हें कागजी कार्रवाई पर काफी समय और ऊर्जा खर्च करनी पड़ेगी। विपक्ष ने भी मीसा के इस फैसले को लेकर उन पर निशाना साधा है


  खबर के मुताबिक, आम चुनावों से ठीक पहले मीसा ने पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र के तहत आने वाले पटना के ग्रामीण इलाकों में विकास कार्य के लिए अपने फंड से पैसे मंजूर किए थे। चुनाव में बीजेपी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री राम कृपाल यादव से हारने के बाद उन्होंने गुरुवार को परियोजनाओं को दी गई मंजूरी वापस ले ली। मीडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, राज्यसभा सांसद के बतौर अपने कार्यकाल के शुरूआती वर्षों में उन्होंने सांसद निधि का इस्तेमाल नहीं किया था।


  परेशान हैं योजना विभाग के अधिकारी  योजना विभाग के एक अधिकारी ने नाम का खुलासा नहीं करने की शर्त पर बताया कि अचानक लिए गए फैसले के कारण वह परेशानी में पड़ गए हैं। अधिकारी ने कहा, 'परियोजना के लिए 15 करोड़ रुपये की मंजूरी दी गई थी। इसमें से लगभग 6 करोड़ रुपए उनके विभाग को स्वीकृत किए गए थे। अब मंजूरी वापस लिए जाने पर हमें बहुत सारी कागजी कार्रवाई पर समय और ऊर्जा खर्च करनी होगी।' आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इस बारे में उन्हें पूरी जानकारी नहीं है इसलिए अभी वह इस मामले में कुछ नहीं कह सकते।


  विपक्ष ने की आलोचना  वहीं बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता संजय सिंह 'टाइगर' ने कहा कि इससे जनता के बीच बहुत गलत संदेश जाता है। किसी विशेष क्षेत्र के लोगों ने आपके लिए वोट किया है या नहीं, इसके आधार पर भेदभाव अलोकतांत्रिक है। जेडीयू के प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि यह लोकतांत्रिक परंपराओं के खिलाफ है। एक निर्वाचित प्रतिनिधि उन लोगों का भी प्रतिनिधित्व करता है जिनके वोट उसे नहीं मिले। चुनावी हार के कारण परियोजनाओं को वापस लेना उचित नहीं है।


  आरजेडी की सहयोगी पार्टी कांग्रेस के विधान पार्षद प्रेम चंद्र मिश्रा ने भी मीसा के इस निर्णय को अस्वीकार करते हुए कहा कि एक बार परियोजना को मंजूरी मिल जाने के बाद इसे लागू किया जाना चाहिए। अनुमोदन को वापस लेना उचित नहीं। हालांकि, मीसा इस पर अपनी प्रतिक्रिया के लिए उपलब्ध नहीं हो सकीं। गौरतलब है कि किसी सांसद को अपने निर्वाचन क्षेत्र में विकास कार्य करने के लिए सांसद निधि योजना के तहत हर साल 5 करोड़ रुपए आवंटित किए जाते हैं।  पाटलिपुत्र से हारी थीं मीसा भारती  साल 2008 के परिसीमन से अस्तित्व में आई पाटलिपुत्र लोकसभा सीट लालू परिवार के लिए हमेशा प्रतिष्ठा का मुद्दा बनी रही है। आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद खुद 2009 में इस सीट पर अपने पुराने विश्वासपात्र और जेडीयू उम्मीदवार रंजन यादव के हाथों पराजित हो गए थे। साल 2014 में लालू द्वारा अपनी बड़ी पुत्री मीसा भारती को इस सीट से उम्मीदवार बनाए जाने पर बगावती रुख अपनाते हुए उनके विश्वासपात्र रहे रामकृपाल यादव बीजेपी में शामिल हो गए और इस सीट से चुनाव लड़कर मीसा को पराजित किया था।  

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति