बेरोजगार युवा 10 लाख से 2 करोड़ तक ले सकते हैं ऋण



 मंदसौर। जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र महाप्रबंधक ने बताया कि मप्र शासन द्वारा बेरोजगार युवाओं को स्वयं के नवीन उद्यमों की स्थापना हेतु 10 लाख से दो करोड़ रुपए तक की वित्तीय सहायता के लिए मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना क्रियान्वित की जा रही है। इसमें आवेदक को 10 वीं कक्षा उत्तीर्ण एवं 18-40 वर्ष आयु वर्ग का होना आवश्यक है


योजना में सामान्य वर्ग के आवेदकों को पूंजीगत लागत का 15 प्रश अधिकतम 12 लाख रुपए, बीपीएल हेतु 20 प्रश अधिकतम 18 लाख रुपए तथा पूंजीगत लागत पर पांच प्रतिशत प्रतिवर्ष व महिला उद्यमियों हेतु 6 प्रश ब्याज अनुदान, अधिकतम 7 वर्षों तक पांच लाख रुपए प्रतिवर्ष का भी प्रावधान है।


शासन द्वारा विभाग के माध्यम से कृषक पुत्र/पुत्रियों जिनके माता-पिता या स्वयं के पास कृषि भूमि हो तथा आयकरदाता न हो, इनके लिए भी मुख्यमंत्री कृषक उद्यमी योजना का क्रियान्वयन किया जा रहा है। इसमें पात्रताएं मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के समान हैं।


महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र मंदसौर ने बताया कि प्रदेश के युवाओं को एमएसएमई इकाइयों में रोजगार के अवसरों की जानकारी के लिए तथा आवेदन की सुविधा के लिए एमएसएमई विभाग द्वारा पोर्टल तैयार किया गया है।


पोर्टल का उद्देश्य रोजगार के इच्छुक युवाओं एवं रोजगार प्रदान करने वाली औद्योगिक इकाइयों के मध्य संवाद स्थापित करना है ताकि युवाओं को रोजगार के अधिक से अधिक अवसर प्राप्त हो सके। पोर्टल पर शिक्षित बेरोजगार युवा निर्धारित प्रपत्र अनुसार स्वयं का विवरण दर्ज करते हुए पंजीकरण कर सकते हैं। ताकि पोर्टल के माध्यम से उनके विवरण का अवलोकन जॉब प्रदाता औद्योगिक इकाइयां कर सके। पोर्टल में एमएसएमई इकाइयां स्वयं को जॉब प्रदाता के रूप में पंजीकृत कर सकती है। जॉब प्रदाता औद्योगिक इकाइयां अपनी आवश्यकता के अनुरूप रोजगार के इच्छुक युवाओं के बायोडाटा का अवलोकन कर, उन्हें प्रक्रिया अनुसार रोजगार के अवसर प्रदान कर सकते हैं। शिक्षित बेरोजगार युवा इस पोर्टल पर स्वयं का विवरण दर्ज करते हुए पंजीकरण कराएं।

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति