पूर्व विधायक पाटिल तार लांघ कर पहुंचे हेलिपैड, पुलिस जवानों ने निकाला बाहर



मंदसौर। सोमवार को मंदसौर ओर नीमच के बाढ़ पीड़ितों से मिलने पहूंचे मुख्यमंत्री कमलनाथ से उन्हीं की पार्टी के पूर्व विधायक नवकृष्ण पाटिल को नहीं मिलने दिया गया


प्रशासन को कांग्रेस ने मुख्यमंत्री से मिलने वालों की जो लिस्ट दी उसमें पाटिल साहब का नाम नहीं होने से पुलिस कर्मी ने उन्हें अंदर नहीं जाने दिया।


पर, पूर्व विधायक भी कहा मानने वाले थे, वे नुकीले तारो के नीचे से होते हुए हेलीपैड पहुंचे, लेकिन पुलिस के जावन ने मुख्यमंत्री के पास जाने से पहले उनको हाथ पकड़ कर बाहर का रास्ता दिखा दिया।


हेलीपैड तक पहूंचने में पूर्व विधायक पाटिल पेर फिसलने की वजह से गिर तक गए, परंतु फिर भी मुख्यमंत्री से नहीं ही मिल पाए। पूर्व विधायक के साथ हुई इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया में खूब शेयर हुआ। विपक्षी नेता भी इस मुद्दे पर चुटकी लेने से बाज नहीं आए।


भरोसेमंद सूत्र बताते है कि पाटिल साहब का पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजयसिंह के करीब होना उनके लिए परेशानी का कारण बना है। वरना जिला कांग्रेस से इनती बड़ी चूक कैसे हो सकती है? हालांकि यही हाल कयामपुर के दौरे में भी हुआ। वहां के कुछ नेताओं को हेलीपैड पर नहीं जाने दिया गया। जिससे वो नाराज हुए और यह तक बोल गए अब आने दो वोट लेने इन को। मंदसौर हेलीपैड पर नहीं जाने देने से नाराज कार्यकताओं ओर नेताओं ने कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रकाश रातड़िया मुर्दाबाद के नारे लगाए। पूरे मामले में पूर्व विधायक पाटिल साहब के साथ हुआ व्यवहार दुःखद है। एक र्पूव विधायक को उसी की पार्टी की सरकार होते हुए, कैसे मुख्यमंत्री से नहीं मिलने दिया गया?

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति