मिड इंडिया अंडरब्रिज निर्माण...भाजपा और कांग्रेस नेताओं में मची श्रेय लेने की होड़



मन्दसौर। नगर पालिका परिषद मंदसौर द्वारा मिड इंडिया रेलवे अंडरब्रिज (151बी) के निर्माण कार्य की राशि एक करोड़ रुपए रेलवे विभाग को बुधवार को जमा करवाई गई। पूर्व में उक्त फाटक पर रेलवे द्वारा अंडर ब्रिज बनाए जाने की स्वीकृति दी गई थी और रेलवे द्वारा एक पत्र नगर पालिका परिषद मंदसौर को भी मिला था


जिसमें ब्रिज निर्माण की आधी राशि 3 करोड़ 30 लाख रुपए जमा करवाने को कहा गया था। इस पर क्षेत्रीय विधायक श्री यशपाल सिसौदिया की मांग पर तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा चार करोड़ रुपए की राशि अंडरब्रिज निमार्ण के लिए दिए जाने की घोषणा की गई थी। जिसमें से एक करोड़ की राशि नगर पालिका को प्राप्त हो चुकी हैं।


नगर पालिका मंदसौर ने उक्त राशि को आरटीजीएस के माध्यम से रेलवे विभाग को ट्रांसफर कर दिया है। रेलवे अंडरब्रिज निर्माण संघर्ष समिति द्वारा विगत 15 वर्षों से लगातार अंडरब्रिज निर्माण की मांग की जा रही थी। जो अब पूरी होती नजर आ रही है। नपा द्वारा रेलवे को राशि देने के बाद भाजपा और कांग्रेस के नेताओ में श्रेय लेने की होड़ शुरू हो गई है।


एक तरफ जहां नपाध्यक्ष हनीफ शेख का स्वागत सत्कार हो रहा था वही दूसरी और भाजपा के वार्ड 5 में पार्षद प्रतिनिधि आशीष गौड़ इसे सांसद और विधायक की उपलब्धि गिना रहे है। ऐसे में अब देखना ये होगा के ये लड़ाई आगे कहा तक जाती है और कब तक क्षेत्रवासियो को फाटक की समस्या से छुटकारा मिलता है।


 गीताभवन अंडरब्रिज की तरह मुसीबत ना बने अभिनंदन अंडरब्रिज इस वर्ष हुई भारी वर्षा के बाद हमने देखा है कि कैसे गीताभवन अंडरब्रिज वहां के रहवासियों के लिए मुसीबत बना। बारिश का पानी भरने से कितने ही दिन अंडरब्रिज बंद रहा। आस पास के नागरिको के घरों को जलमग्न होता समूचे शहर ने देखा। ऐसा अभिनंदन अंडरब्रिज में ना हो इस का ध्यान नगरपालिका के कर्ताधर्ताओ के साथ ही रेलवे के इंजीनयर को देना होगा। पानी निकासी की क्या व्यवस्था हो इस का पूरा ध्यान रखना होगा, जिससे यह अंडरब्रिज आमजन के लिए मुसीबत का सबब ना बने।

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति