राहत भरी खबर: इंदौर में कोरोना को मात देकर 71 मरजी हुए स्वस्थ्य, स्टॉफ ने तालियां बजाकर घरों के लिए किया रवाना



इंदौर। तीन अस्पतालों से सोमवार को 71 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे। स्टाफ ने तालियां बजाकर इन्हें अपने घरों की ओर रवाना किया। इन स्वस्थ होने वाले में 88 वर्षीय मुक्ता जैन भी शामिल हैं। जिन्होंने साबित कर दिया कि हौसले बुलंद हो तो किसी भी मुश्किल परिस्थिति में जीत हासिल की जा सकती है। अरबिंदो से 55, इंडेक्स मेडिकल कॉलेज से 14 और चोइथराम अस्पताल से 2 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे


इधर, रविवार रात आई रिपोर्ट में 95 नए मरीजों की पुष्टि होने से संक्रमितों की संख्या 2565 पर पहुंच गई है। वहीं, 101 की अब तक मौत हो चुकी है। अरबिंदो अस्पताल में ठीक हुए चेतन पलाटी, पूर्वी जैन, रीना सोनी ने कहा कि उपचार के दौरान डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ का काफी सहयोग मिला है। उन्होंने अन्य लोगों को सावधानी बरतने की सलाह दी। जूनी इंदौर निवासी आरती गोस्वामी ने बताया यह वक्त सावधानी एवं सतर्कता का है। डॉक्टर्स और नर्सेस ने हमें ठीक किया।


वे भगवान द्वारा भेजे गए दूत के समान हैं, जो अपनी परवाह किए बगैर करोना संक्रमित मरीजों की देखभाल कर रहे हैं। परदेशीपुरा थाना में पदस्थ धर्मेंद्र कुमार जाट कोरोना से स्वस्थ होकर अपने घर रवाना हुए। उन्होंने डॉक्टर, स्टाफ, स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशासन का आभार व्यक्त किया।


कोरोना के उपचार के लिए जून में प्रारंभ होगा 400 बेड का सुपर स्पेशलिटी अस्पताल: कोविड मरीजों के उपचार के लिए शहर के सुपर स्पेशलिटी अस्पताल को जून के पहले सप्ताह तक तैयार होने के लिए एक बड़ा फैसला हो गया है। देश में करीब सौ शहरों में सुपर स्पेशलिटी अस्पताल बन रहे हैं, लेकिन जहां पर अभी तक भवन नहीं बना है और बेड, फर्नीचर आदि सामग्री बुलाने का टेंडर जारी कर दिया है, वहां का सामान अब इंदौर के अस्पताल के लिए डायवर्ट किया जाएगा।


इससे यह अस्पताल एक महीने के भीतर ही तैयार होकर उपचार के लिए तैयार हो सकेगा। केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग द्वारा विविध जिलों के कलेक्टरों की ली गई बैठक में इंदौर में रेड, यलो और ग्रीन अस्पताल कैटेगरी को सही कदम बताते हुए इसमें और सुविधां बढ़ाने की बात कही गई। इस पर कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि सुपर स्पेशलिटी भवन तैयार हो गया है, लेकिन टेंडर करेंगे तो सामग्री, मेडिकल उपकरण आने में लंबा समय लगेगा, जबकि हम इसे मानसून से पहले शुरू करना चाहते हैं। इस पर विभाग की सचिव ने इंदौर प्रशासन के प्रस्ताव पर निर्देश दिए कि अन्य जगह हुए टेंडर के आधार पर सामग्री इंदौर भेजी जाए। इससे यहां पर 400 बेड उपचार के लिए तैयार हो जाएंगे। अस्पताल का काम देख रहे नोडल अधिकारी व अपर कलेक्टर चंद्रमौलि शुक्ला ने बताया इस अस्पताल के तैयार होते ही हमारे पास अतिरिक्त बेड की व्यवस्था करने से 500 से अधिक मरीजों के उपचार की व्यवस्था हो जाएगी। इसमें सौ बेड तो आईसीयू के होंगे।


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति