निसर्ग तूफान का असर: मालवा निमाड़ के सभी जिलों में रात भर हुई बारिश, सड़कें हुई लबालब, नदी-नाले उफने



इंदौर। निसर्ग तूफान का असर मालवा-निमाड़ के करीब-करीब सभी जिलों में दिखाई दे रहा है। इंदौर में बुधवार शाम तेज हवाओं के बाद रातभर से रुक-रुक कर बारिश हो रही है। रातभर में 51 से ज्यादा बारिश हो चुकी है। लगातार बारिश से न्यूनतम तापमान 18 डिग्री पर पहुंच गया है, जो सामान्य से करीब 6 डिग्री कम है। बारिश और हवा के कारण प्रेम नगर में एक पेड़ धराशायी हो गया। बड़वानी में रातभर में 97 मिमी बारिश हुई


वहीं, खंडवा में सबसे ज्यादा 132 मिमी बारिश होने से यहां इलाकों में सड़कें लबालब हो गईं। नाले उफान पर आ गए। उज्जैन में भी देर रात तेज बारिश के बाद सुबह से रिमझिम का दौर जारी है। इंदौर में 4 इंज बारिश का अनुमान: मौसम विभाग के मुताबिक, गुरुवार को दिनभर में 10 सेमी (लगभग 4 इंच) पानी बरस सकता है। बिजली गिरने का खतरा भी बहुत ज्यादा रहेगा। हवा भी 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलेगी। हालांकि सुबह से हल्की हवाएं चल रही हैं।


जिससे मौसम में ठंडक घुल गई है। हालांकि बारिश के कारण कई इलाकों में बिजली गुल है। इंदौर के साथ ही उज्जैन, खरगोन, खंडवा, बड़वानी समेत मालवा निमाड़ के करीब-करीब सभी जिलों में तूफान का असर दिखाई दे रहा है। खंडवा में लगातार बारिश जारी, कई नाले उफाने: निसर्ग तूफान के कारण खंडवा में रातभर से तेज बारिश का दौर जारी है। शहर में बुधवारा, कहारवाड़ी, रेलवे स्टेशन, सिनेमा चौका समेत कई निचले इलाके पानी पानी हो गए हैं। कई नाले उफान पर आ गए हैं।


मौसम विभाग ने भारी बारिश और हवा आंधी चलने की चेतावनी दी है। प्रशासन ने लोगों से घरों में रहने की अपील की है। कहा है लोग पर्यटन स्थलों पर भी न जाएं। इन क्षेत्रों में गुरुवार को 50 किमी की रफ्तार से हवा व आंधी चल सकती है। मौसम विभाग और जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है कि गुरुवार को ओंकारेश्वर, हनुवंतिया, असीरगढ़ सहित किसी भी पर्यटन स्थल पर न जाए। यहां 40-50 किमी की रफ्तार से तेज हवा चलने के साथ बिजली गिरने की संभावना है।


डिप्टी कलेक्टर हेमलता सोलंकी ने बताया कि निसर्ग तूफान से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए भू-अभिलेख कार्यालय में नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। बड़वानी में भी रातभर झमाझम: खंडवा के साथ ही बड़वानी में भी निसर्ग का खासा असर देखने को मिला है। बड़वानी में जहां 97 मिमी बारिश हो चुकी है। वहीं, जिसे सेंधवा में सबसे ज्यादा 104, निवाली में 102 और बरला में 91 मिली बारिश रिकॉर्ड की गई। रातभर हुई बारिश से अंजड भी पानी-पानी हो गया है। नर्मदा पट्?टी से लगे खेतों में पानी भरने से फसलों को नुकसान हुआ है। यहां पाल टूटने से करीब 6 एकड़ में कपास की फसल को काफी नुकसान हुआ है। लगातार बारिश होने से मंडी में रखी उपज भीग गई है।


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति