भोपाल में कोरोना का कहर: उच्च शिक्षा विभाग में पदस्थ ओएसडी कोरोना पॉजिटिव, सतपुड़ा भवन के तीसरे और पांचवे फ्लोर को किया गया सैनिटाइज



भोपाल। उच्च शिक्षा विभाग में पदस्थ एक ओएसडी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। उन्हें उपचार के लिए चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उच्च शिक्षा विभाग का दफ्तर सतपुड़ा भवन में पांचवें फ्लोर पर है। जब से कार्यालय खुले हैं, तब से ओएसडी दो बार दफ्तर गए थे


आखिरी बार वह 12 मई को कार्यालय गए थे, तभी उनकी तबीयत खराब हुई थी। लू लगने की बात सामने आई थी। इसके बाद उन्होंने कोरोना की जांच के लिए सैंपल दिए थे। सतपुड़ा की तीसरी और पांचवी मंजिल को सैनिटाइज किया जा रहा है। वहीं, चौथी मंजिल पर संचालक तकनीकी शिक्षा विभाग के अफसरों में भी टेंशन है।


कर्मचारी और अधिकारी पूरे सतपुड़ा भवन को कंटेनमेंट एरिया घोषित करने की मांग कर रहे हैं। ओएसडी के कार्यालय में पदस्थ सभी कर्मचारियों को घर पहुंच कर क्वारैंटाइन रहने के निर्देश दिए गए हैं।


संक्रमितों की संख्या 1102 हुई: भोपाल में गुरुवार को कोरोना के 14 नए मामले सामने आए, जिसके बाद यहां संक्रमितों की संख्या 1102 हो गई, जबकि कुल मरने वालों की 40 है। बुधवार को एक मरीज की मौत हुई थी। आज चिरायु अस्पताल से स्वस्थ होने वाले 18 मरीजों अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया।


अब तक भोपाल में कोरोना संक्रमण को मात देने वाले मरीजों की संख्या सात सौ के पार 705 हो गई है। रेड जोन के सरकारी दफ्तरों में 50 फीसदी कर्मचारी अनिवार्य: रेड जोन (कंटेनमेंट क्षेत्र छोड़कर) में आने वाले निजी और शासकीय दफ्तरों में अब 50 फीसदी कर्मचारियों व अधिकारियों की उपस्थिति होगी। सरकारी दफ्तरों के मामले में राज्य सरकार ने आदेश जारी कर दिए कि पचास फीसदी उपस्थिति अनिवार्य है। उल्लेखनीय है कि पहले जारी गाइडलाइन में सरकार ने रेड जोन में किसी भी तरह की गतिविधि को प्रतिबंधित किया था। इस जोन के बाहर सरकारी दफ्तर 100 फीसदी कर्मचारियों के साथ खोलने की अनुमति है।


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति