असम में नागरिकता संशोधन विधेयक का छात्र संगठन ने किया विरोध, समर्थन में बंद रहे बाजार, प्रदर्शन के दौरान आगजनी



दिसपुर। आल असम स्टूडेंट यूनियन (आसु) ने मंगलवार को गुवाहाटी में 12 घंटे का बंद बुलाया। इसका वजह सोमवार रात लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक का पास होना है


छात्र संगठन के विरोध के समर्थन में बाजार बंद रहे, जबकि डिब्रूगढ़ और जोरहाट में प्रदर्शन के दौरान आगजनी भी हुई।


इससे पहले लोकसभा में सोमवार रात 12.04 बजे हुई वोटिंग में बिल के पक्ष में 311 और विपक्ष में 80 वोट पड़े। बिल पर करीब 14 घंटे तक बहस हुई।


बिल का भारतीय मुस्लिमों से कोई लेना-देना नहीं: शाह: विपक्षी दलों ने इस बिल को धर्म के आधार पर भेदभाव करने वाला बताया। गृह मंत्री अमित शाह ने जवाब में कहा कि यह बिल यातनाओं से मुक्ति का दस्तावेज है।


भारतीय मुस्लिमों का इससे कोई लेना-देना नहीं है। यह बिल केवल 3 देशों से प्रताड़ित होकर भारत आए अल्पसंख्यकों के लिए है। इन देशों में मुस्लिम अल्पसंख्यक नहीं हैं, क्योंकि वहां का राष्ट्रीय धर्म ही इस्लाम है। यह विधेयक धार्मिक आधार पर भेदभाव करने वाला: विपक्ष: वहीं, कांग्रेस समेत 11 विपक्षी दलों ने बिल को धार्मिक आधार पर भेदभाव करने वाला बताया। एआईएमआईएम सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने बिल की कॉपी भी फाड़ दी। हालांकि, इसे सदन की कार्यवाही से बाहर निकाल दिया गया।

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति