दिल्ली में बैठकों का दौर जारी, पीएम से मिले शिवराज सिंह; नामों पर सहमति नहीं होने से फिर टला मंत्रिमंडल विस्तार



भोपाल। शिवराज सिंह मंत्रिमंडल का विस्तार मंत्रियों के नाम पर सहमति नहीं बनने से फिर टल गया। अब एक जुलाई तक विस्तार होने की संभावना है। दिल्ली में देर रात तक शिवराज सिंह, नरोत्तम मिश्रा और वीडी शर्मा ने केंद्रीय नेतृत्व से देर रात तक मंथन किया। इससे पहले मध्य प्रदेश में मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर सरगर्मी के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है


दोनों नेताओं के बीच करीब आधे घंटे से ज्यादा समय तक बैठक चली। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के यथार्थवादी सोच की मंत्रिमंडल पर छाप दिखने की पूरी संभावना है। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र तोमर से मिलने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गृह मंत्री से विशेष मंत्रणा की है। समझा जा रहा है कि इस मंत्रिमंडल विस्तार में वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय, ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत अन्य के करीबियों को जगह मिलेगी।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ भेंट के बाद शाम को मप्र के सीएम शिवराज सिंह चौहान के भोपाल जाने का कार्यक्रम टल गयौ। राज्य में सही संदेश देने के लिए उनके साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया भी भोपाल जाने वाले थे। बताया गया कि पहले 25 मंत्रियों के नाम तय किए गए थे लेकिन नरोत्तम मिश्रा के दिल्ली जाने के बाद समीकरण बिगड़ गए और यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन मप्र के राज्यपाल का अतिरिक्त प्रभार संभालने आने वाली थी लेकिन उनका दौरा भी निरस्त हो गया।


डॉ. प्रभुराम चौधरी, इमरती देवी, प्रद्युम्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसोदिया, बिसाहूलाल सिंह, एदल सिंह कंसाना, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, हरदीप सिंह डंग और रणवीर जाटव के नाम भी मंत्री पद की दौड़ में शामिल हैं। यह सभी ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक हैं जो कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हुए हैं। नरोत्तम मिश्रा के दिल्ली पहुंचने के बाद समीकरण बिगड़ गए है बताया गया कि मंत्रियों के नाम और विभागों में कुछ अड़चन है तभी आज होने वाले मंत्रिमंडल विस्तार टल गया है।


ज्योतिरादित्य की बुआ भी हैं कतार में: मंत्री बनने की इच्छा पालने वालों में नए पुराने तमाम दावेदार हैं। शिवराज सिंह चौहान के पिछले मंत्रिमंडल की सदस्य रहीं ज्योतिरादित्य की बुआ यशोधरा राजे सिंधिया की उम्मीद बनी हुई है। शिवराज के करीबी भूपेंद्र सिंह, गोपाल भार्गव, रामपाल सिंह, राजेन्द्र शुक्ला, गिरीश गौतम, केदार शुक्ल जैसे चेहरे दौड़ में शामिल हैं। संजय पाठक ने आपरेशन लोटस में भूमिका निभाई थी। उन्हें भी अपनी भूमिका बढ़ने की उम्मीद है। विश्वास सारंग, रमेश मंदोला, लल्लू राम वैश्य, नीना वर्मा या फिर उषा ठाकुर, अरविंद भदौरिया, रामेश्वर शर्मा मंत्री बनने के प्रमुख दावेदारों में हैं।


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति