महंगाई का विरोध: पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ सड़कों पर उतरी कांग्रेस, दुकानें बंद कराने कांग्रेसियों के ही छूटे पसीनें



भोपाल। पेट्रोल-डीजल, गैस सिलेंडर के लगातार बढ़ते दामों और अन्य वस्तुओं की बढ़ती कीमतों के खिलाफ आधे दिन के बंद के लिए कांग्रेसी शनिवार को सड़कों पर उतरे। प्रदेश में आज बंद कराने में कांग्रेसियों का पसीना छूट गया। लोगों ने कई जगह कांग्रेस का साथ नहीं दिया। भोपाल में कांग्रेसी कार्यकर्ता कुछ दुकानें जबरन बंद कराने लगे, तो पुलिस ने पूर्व मंत्री पीसी शर्मा समेत 11 कांग्रेसियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। जबलपुर में बंद के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने रांझी क्षेत्र में कपड़ा व्यापारी के साथ मारपीट की। इंदौर और उज्जैन में भी बंद कराने निकले कांग्रेसियों का दुकानदारों ने विरोध किया। उज्जैन में एक दुकानदार को कांग्रेसियों ने 1000 रुपए दिए, तब जाकर उसने दुकान बंद की। वहीं, ग्वालियर में मिला-जुला असर रहा, यहां पेट्रोल पंप ही खुले रहे। वहीं, सागर में भी बंद का मिला-जुला असर रहा


चुनाव बैलेट पेपर पर होने पर मोदी का अहंकार धरातल पर आ जाएगा: प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शनिवार को बेबाक बयान दिए. उन्होंने कहा कि वे कंगना रनौत को नहीं जानते। उन्होंने ये भी कहा भाजपा ने जिस दिशा रवि को टूलकिट केस की आरोपी बनाया है, उसका कुसूर क्या है? दरअसल दिग्विजय शनिवार को कांग्रेस बंद के तहत लोगों से दुकाने बंद करने की अपील कर रहे थे। इस दौरान जब मीडिया ने उनसे विधायक सुखदेव पांसे और कंगना के विवाद के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा- कौन है ये कंगना रनौत? उन्होंने कहा- दिशा रवि का क्या कसूर है, सिर्फ इतना कि उसने किसानों पर पोस्ट डाली और उस पर केस लगा दिया गया, ये क्या देशद्रोह है? पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पीएम मोदी का अहंकार उस दिन धरातल पर आ जाएगा, जिस दिन देश में चुनाव बैलेट पेपर पर होने लगेंगे।


उन्होंने पूछा- भाजपा के ध्रुव सक्सेना और पूरी टीम पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी करक के लिए जासूसी कर रही थी, उन पर देश द्रोह का केस क्यों नहीं लगा? कहां गई इखढ की देशभक्ति? उन्होंने शिवराज सरकार से सवाल किया कि क्या होशंगाबाद का नाम बदलने से महंगाई और बेरोजगारी चली जाएगी? मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह व कांग्रेस नेता ने ट्वीट करते हुए कहा कि जिस प्रकार से युवा चाहिए या कलाकारों में जहरीले नशे का प्रयोग बढ़ रहा है, वह वाकई में चिंताजनक है। ऐसे में बीजेपी को सोचना चाहिए कि ऐसे युवा-युवतियों को पद पर रखना नहीं। शहडोल में कांग्रेस का बंद रहा बेअसर: शहडोल जिले में कांग्रेस के बंद का कोई असर नहीं दिखा। शहडोल जिला मुख्यालय में ही दुकानें खुली नजर आईं। पेट्रोल पंप भी चलते रहे इसके साथ ही बाजार में अन्य दिनों की तरह ही रौनक दिखाई दी। गोहपारू से पैदल मार्च का भी कांग्रेसियों ने आयोजन किया था, यह पैदल मार्च गोहपारू से जिला मुख्यालय के गांधी चौक तक किया गया है।


कांग्रेस जिला अध्यक्ष आजाद बहादुर सिंह के नेतृत्व में पदयात्रा निकाली जा रही है जो गांधी चौक में समाप्त होगी। डिंडौरी में कांग्रेस नेताओं ने बंद करवाई दुकानें: डिंडौरी में सुबह कुछ दुकानें खुली लेकिन कांग्रेसियों द्वारा अपील कर दुकान बंद कराई गई। कांग्रेस द्वारा गांधी चौक में सभा का आयोजन किया जा रहा है। इसमें कांग्रेस के जिला अध्यक्ष सहित ब्लाक अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारी शामिल हुए। दमोह में नहीं दिखा कांग्रेस के बंद का असर: दमोह में कांग्रेस के बंद का कुछ असर नहीं दिखाई दिया क्योंकि 12 बजे तक ही शहर का मार्केट खुलता है। सुबह से ही हर रोज की तरह आज भी सुबह दुकानें बंद रही और जैसे ही 12 बजे बजे मार्केट पूरा खुल गया। हालांकि कांग्रेस के द्वारा 12 बजे तक ही यह बंद बुलाया गया था जिसके तहत कांग्रेस पदाधिकारियों ने व्यापारियों से इस बंद में सहयोग करने का आह्वान किया था। इसीलिए व्यापारी भी अपने तय समय पर ही अपने प्रतिष्ठान खोलने पहुंचे।


बंद को लेकर पूरे शहर में पुलिस बल तैनात किया गया था शहर के सभी ब्प्रमुख चौराहो पर जिला पुलिस के साथ सशस्त्र पुलिस बल तैनात था। जिससे यदि कहीं कोई विवाद की स्थिति बने तो उसे निपटा जा सके। विदिशा में तैनात रही पुलिस: महंगाई के विरोध में कांग्रेस के आव्हान पर शनिवार को पूरी तरह से विदिशा बंद रहा। विदिशा बंद को लेकर कहीं कोई अप्रिय घटना नहीं हो इसके लिए जगह-जगह पुलिस तैनात की गई है। इसके अलावा पुलिस के वरिष्ठ अफसर स्वयं शहर का जायजा ले रहे हैं। बस स्टैंड पर चाय नाश्ता की दो दुकानों पर जरूर हल्की बहस हुई तो कांग्रेसियों ने उन्हें माला पहनाकर स्वागत किया। ज्यादातर व्यापारियों ने स्वेच्छा से अपनी दुकान और प्रतिष्ठान बंद रखें। उज्जैन : बंद के नाम पर खानापूर्ति: यहां बंद के नाम पर खानापूर्ति रही। सुबह 6 बजे ही कांग्रेसी बाजार बंद कराने निकल पड़े। इस दौरान करीब 50 कार्यकर्ता ही मौजूद रहे। करीब 3 घंटे तक बाजार में घूमने के बाद सुबह करीब 11 बजे कांग्रेस जिलाध्यक्ष महेश सोनी ने बंद की समाप्ति की घोषणा कर दी। यहां बाजार पूरी खुल गए। सागर: बंद के दौरान चार जगह बहस: शहर में बाजार, तीनबत्ती, भगवानगंज, नया बाजार समेत कई जगह कांग्रेसियों और दुकानदारों के बीच बंद को लेकर जमकर बहस हुई। मामला पुलिस के हस्ताक्षेप के बाद शांत हुआ। कांग्रेसियों ने पूरे शहर में घूमकर बंद कराया। वहीं, मकरोनिया में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी ने पेट्रोल-डीजल और गैस सिलेंडर के बढ़ते दामों के विरोध में साइकिल पर गैस सिलेंडर रखकर पैदल रैली निकाली। दुकानदारों से बाजार बंद करने की अपील की गई। हालांकि बंद का सभी जगह मिला-जुला असर रहा। कांग्रेसियों के जाते ही लोगों ने दुकान खोल लीं।


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति