सोने के जेवरों में हॉलमार्किंग जरूरी, इसके बिना बेचे तो होगी एक साल की सजा, पांच गुना तक होगा जुर्माने का प्रावधान



नई दिल्ली। सोने के गहनों की हॉलमार्किंग 15 जनवरी 2021 से अनिवार्य होगी। हालांकि, नोटिफिकेशन 15 जनवरी 2020 को जारी हो जाएगा, लेकिन ज्वेलर्स को 1 साल का वक्त मिलेगा। उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने शुक्रवार को ये जानकारी दी


उन्होंने बताया कि इस नियम को लागू करने के लिए एक साल का वक्त इसलिए दिया जाएगा ताकि निजी कारोबारी हॉलमार्किंग सेंटर स्थापित कर सकें, ज्वेलर्स के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी हो जाए और कारोबारी स्टॉक क्लीयर कर सकें। इसके बाद यानी 15 जनवरी 2021 से हॉलमार्किंग अनिवार्य होगी।


एक अधिकारी ने बताया कि पिछले साल पारित बीआईएस कानून के मुताबिक हॉलमार्किंग के नियम तोड़ने वालों पर न्यूनतम 1 लाख रुपए से ज्वेलरी की वैल्यू के 5 गुना तक जुर्मानेऔर एक साल की सजा का प्रावधान है। एक साल में देश के सभी जिलों में हॉलमार्किंग सेंटर शुरू करने का लक्ष्य: पासवान: हॉलमार्किंग सोने की शुद्धता का पैमाना होता है। देश के 234 जिलों में अभी 877 हॉलमार्किंग सेंटर हैं।


सिर्फ 40% ज्वेलरी की हॉलमार्किंग होती है। पासवान ने बताया कि एक साल में सभी जिलों में सेंटर शुरू करने और सभी ज्वेलर को रजिस्टर करने का लक्ष्य है। अभी सिर्फ 26,019 ज्वेलर के पास बीआईएस रजिस्ट्रेशन है। देश में सालाना 700-800 टन सोने का आयात: ब्यूरो आॅफ इंडियन स्टैंडर्ड्स (बीआईएस) द्वारा हॉलमार्क गोल्ड ज्वेलरी पर बीआईएस का निशान होता है।


इससे यह पता चलता है कि लाइसेंसधारक लैब में सोने की शुद्धता की जांच की गई है। बीआईएस की वेबसाइट के मुताबिक यह देश में एकमात्र एजेंसी है जिसे सोने के गहनों की हॉलमार्किंग के लिए सरकार से मंजूरी प्राप्त है। कई ज्वेलर बीआईएस की सेवा लेने की बजाय खुद हॉलमार्किंग करते हैं इसलिए खरीदारी से पहले यह जान लेना चाहिए कि ज्वेलरी बीआईएस हॉलमार्किंग है या नहीं। भारत दुनिया में सबसे ज्यादा सोना आयात करता है। देश में सालाना 700-800 टन सोना आयात होता है। सोने की शुद्धता की जांच के क्षेत्र में रोजगार बढ़ेंगे: वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल: वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल, इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर सोमसुंदरम पी आर ने दैनिक भास्कर को बताया कि ये एक बेहतरीन कदम है, जो काफी समय से लंबित था। इससे गोल्ड इंडस्ट्री में भरोसा लौटेगा। उपभोक्ताओं के साथ ही व्यापारियों को भी फायदा होगा। हॉलमार्किंग अनिवार्य होने से सोने की शुद्धता की जांच के क्षेत्र में रोजगार बढ़ेंगे।

loading...

एडमिन

एडमिन



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति