पीएम मोदी द्वारा राजीव गांधी पर लगाए गए आरोपो को पूर्व नेवी चीफ ने किया खारिज



नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व पीएम राजीव गांधी द्वारा आईएनएस विराट का 'अपनी टैक्सी' के रूप में इस्तेमाल करने वाले बयान पर सियासी बवाल मचा हुआ है। इस बीच, पूर्व नेवी चीफ ने आगे आकर पीएम मोदी के आरोप को सिरे से खारिज कर दिया है


पूर्व चीफ आफ नेवल स्टाफ ऐडमिरल एल. रामदास (रिटायर्ड) ने बाकायदा बयान जारी कर बिंदुवार तरीके से उस दौरे का जिक्र किया है, जिसके बारे में परिवार के साथ पूर्व पीएम के छुट्टियां मनाने की बात की जा रही है। उन्होंने साफ कहा है कि पीएम और उनकी पत्नी के साथ उस आधिकारिक दौरे पर कोई भी विदेशी नहीं था।


खास बात यह है कि बयान कठर विराट से जुड़े नौसेना के कई अन्य वरिष्ठ अफसरों के इनपुट के आधार पर जारी किया गया है। उधर, नौसेना के एक रिटायर्ड कमांडर पीएम मोदी के दावे के समर्थन में उतर आए हैं।



   ऐडमिरल रामदास ने बयान में कहा है, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल (बुधवार को) दिल्ली के रामलीला मैदान पर एक भाषण दिया, जिसमें उन्होंने कहा कि दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने लक्षद्वीप आइलैंड्स पर भारतीय नौसेना के जहाज विराट का इस्तेमाल 10 दिनों तक अपने पर्सनल क्रूज के तौर पर किया था और राजीव के साथ उनके परिवार और पत्नी सोनिया गांधी के परिवार के लोग मौजूद थे। संभव है कि उनका बयान इंडिया टुडे की अनीता प्रताप की रिपोर्ट पर आधारित हो।'  ऐडमिरल ने आगे बिंदुवार तरीके से स्पष्ट करते हुए कहा कि वास्तव में मामला यह नहीं था। 32 साल पहले जो कुछ हुआ था, उसका क्रम इस प्रकार है और हम उस समय मौजूद थे। ऐडमिरल ने बताया कि वह वाइस ऐडमिरल पसरीचा- तत्कालीन कैप्टन और कमांडिंग आफिसर आईएनएस विराट, ऐडमिरल अरुण प्रकाश- कमांडिंग आईएनएस विंध्यगिरी, जो आईएनएस  विराट के साथ चल रहा था और वाइस ऐडमिरल मदनजीत सिंह- आईएनएस गंगा के कमांडिंग आॅफिसर की लिखित प्रतिक्रियाओं के आधार पर यह जानकारी दे रहे हैं। उन्होंने उस समय लक्षद्वीप आइलैंड्स के नेवल आॅफिसर इन चार्ज के नोट से भी इनपुट लिया है। ऐडमिरल ने यह भी कहा कि जरूरत पड़ने पर ये बयान उपलब्ध हैं।  

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति