सुकमा में मुठभेड़ के दौरान जब पुलिसकर्मी भाई और नक्सली बहन हुए आमने-सामने



सुकमा। छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में बीते दिनों एक नक्सल मुठभेड़ के दौरान आपरेशन में शामिल एक जवान अपनी उस बहन से मिल गया, जो कि कुछ वक्त पहले नक्सली बन गई थी। सुकमा की इस मुठभेड़ के दौरान दोनों भाई बहन उस वक्त आमने-सामने आ गए, जब दोनों ओर से भारी गोलीबारी की जा रही थी


यह पूरा वाकया 29 जुलाई को हुआ, जब छत्तीसगढ़ पुलिस के जवान वेट्टी रामा एक नक्सल विरोधी आॅपरेशन के लिए इस क्षेत्र में भेजे गए थे। जानकारी के मुताबिक, पूर्व में नक्सली संगठनों के साथी रहे वेट्टी रामा ने बीते साल छत्तीसगढ़ पुलिस का हाथ थाम लिया था।


रामा काफी वक्त से पुलिस और सीआरपीएफ के साथ नक्सल विरोधी अभियानों में काम कर रहे थे। इसी बीच 29 जुलाई को रामा की टीम को सुकमा के एक इलाके में नक्सलियों की मौजूदगी की जानकारी मिली।


इस सूचना के बाद शुरू हुए एक तलाशी अभियान के दौरान ही वेट्टी रामा की मुलाकात अपनी बहन वेट्टी कन्नी से हुई जो कि इस इलाके में नक्सलियों के साथ रह रही थी। मुठभेड़ में दो साथी नक्सली ढेर: वेट्टी कन्नी को यहां देखकर रामा के साथियों ने उसके दल पर फायरिंग शुरू कर दी।


एसएसपी शलभ सिन्हा ने बताया कि इस कार्रवाई में किसी तरह वेट्टी कन्नी को भागने में सफलता मिल गई, लेकिन उसके दो साथियों को सुरक्षाबलों ने मौके पर ही मार गिराया गया।; रक्षाबंधन पर बहन से मांगा तोहफा: एसएसपी ने बताया कि रामा ने नक्सलियों का साथ छोड़कर पुलिस की सेवा जॉइन की थी। रामा ने कई बार अपनी बहन को भी नक्सल गतिविधियों का रास्ता छोड़ने के लिए पत्र लिखे लेकिन फिर भी कोई सफलता नहीं मिल सकी। रामा ने कहा कि इस बार रक्षाबंधन के तोहफे के रूप में उन्होंने अपनी बहन से इस गलत रास्ते को छोड़कर वापस आने की मांग की है। रामा ने कहा, 'भले ही मेरी बहन बहन त्योहारों को मनाने में विश्वास ना रखती हो, लेकिन मुझे उम्मीद है कि वह मेरी गुजारिश को इस बार जरूर स्वीकार करेगी।

loading...

वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति