मप्र का बजट सत्र: व्यापमं की घाटी ने नहीं चढ़ पाई कांग्रेस विधायकों की साइकिल, पीसी-जीतू कार से पहुंचे विधानसभा



भोपाल। मध्यप्रदेश का बजट सत्र सोमवार से शुरू हो गया है। पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के विरोध में साइकिल लेकर निकले अधिकतर कांग्रेस विधायकों को बीच रास्ते में व्यापमं के पास साइकिल से उतरना पड़ गया। चढ़ाई होने की वजह से पूर्व मंत्री व विधायक पीसी शर्मा, जीतू पटवारी साइकिल से उतरकर अपने वाहन से विधानसभा गए। कांग्रेस कार्यकर्ता साइकिलें लेकर लौट आए


वहीं विधायक आरिफ मसूद, कुणाल चौधरी विधानसभा तक साइकिल से पहुंचे, लेकिन वे भी बीच रास्ते में साइकिल को धक्का देते नजर आए। इसके पहले पुलिस ने पीईबी के सामने बैरिकेड्स लगाकर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को रोक दिया। सिर्फ कांग्रेस विधायकों को ही विधानसभा जाने दिया था।


सुबह साढ़े नौ बजे पूर्व मंत्री व विधायक ढउ शर्मा, जीतू पटवारी, संजय यादव, कुणाल चौधरी समेत अन्य विधायक शिवाजी नगर 6 नंबर बस स्टॉप पर पहुंच गए थे। विधानसभा से निकलने के बाद विधायक आरिफ मसूद भी साइकिल से पहुंचे। चूंकि विधायक अपनी गाड़ियों से पहुंचे थे, इसलिए कार्यकतार्ओं की साइकिलें लेकर उनको दी गईं।


इससे पहले कांग्रेस ने पेट्रोल-डीजल और महंगाई बढ़ने के विरोध में शनिवार को आधे दिन का बंद बुलाया था। पूर्व मंत्री और विधायक पीसी शर्मा ने बताया कि पेट्रोल और डीजल करीब 100 रुपए लीटर हो गया है। घरेलू गैस सिलेंडर की कीमत भी करीब 800 रुपए है। शर्मा बोले, 2014 के चुनाव में अंतरराष्ट्रीय मार्केट में क्रूड आॅयल 112 डालर प्रति बैरल बिक रहा था।


उस समय कांग्रेस की सरकार थी। तब पेट्रोल 60 और डीजल 55 रुपए प्रति लीटर था। घरेलू गैस सिलेंडर की कीमत 400 रुपए के करीब थी। उस वक्त भाजपा के नेता कह रहे थे कि हमारी सरकार बनेगी तो पेट्रोल-डीजल को सस्ता करेंगे और नारा लगा रहे थे कि बहुत हुई महंगाई की मार.. अबकी बार मोदी सरकार। आज अंतरराष्ट्रीय मार्केट में क्रूड आॅयल की कीमत 51 डालर प्रति बैरल है। जबकि पेट्रोल और डीजल के दाम 100 रुपए के आसपास पहुंच चुके हैं। पीसी शर्मा बोले- अब हमारा नारा है कि बहुत हुई महंगाई की मार, अब काहे की मोदी सरकार।


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति