मध्यप्रदेश में उपचुनाव से पहले कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, जयंत मलैया को हराने वाले राहुल लोधी ने कांग्रेस छोड़ी, भाजपा का थामा दामन



भोपाल। मध्य प्रदेश में उपचुनाव से पहले कांग्रेस को एक और बड़ा झटका लगा है। वोटिंग से 8 दिन पहले दमोह से कांग्रेस विधायक राहुल सिंह लोधी ने पार्टी छोड़ दी है। उन्होंने प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा को रविवार सुबह इस्तीफा सौंपा। इसके 1 घंटे बाद ही वह भाजपा में शामिल हो गए। इस्तीफा देने के बाद राहुल लोधी सीधे भाजपा कार्यालय पहुंचे। यहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में वह भाजपा में शामिल हो गए


राहुल लोधी के पार्टी छोड़ने की अटकलें पहले से ही थीं। इसके मद्देनजर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने उनसे मुलाकात भी की थी। राहुल लोधी दमोह सीट से पहली बार विधायक बने थे। भाजपा के जयंत मलैया को हराया था। कांग्रेस विधायक के इस्तीफे पर प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर ने कहा कि राहुल लोधी ने दो दिन पहले इस्तीफा दे दिया था। लेकिन, उन्हें दो दिन का समय दिया था, ताकि विधायकी छोड़ने के पहले वे अच्छे से सोच-विचार कर लें।


दो दिन बाद भी उन्होंने अपना फैसला नहीं बदला। भाजपा प्रत्याशी के चचेरे भाई हैं राहुल: राहुल बड़ामलहरा से भाजपा उम्मीदवार प्रद्युम्न सिंह लोधी के चचेरे भाई हैं। प्रद्युम्न भी कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। तब राहुल ने कहा था कि कांग्रेस ने ही उन्हें राजनीतिक रूप से सक्षम बनाया है, इसलिए वह हमेशा कांग्रेस के साथ रहेंगे। परिस्थितियां कैसी भी आ जाएं, वह कांग्रेस का साथ नहीं छोड़ेंगे।


राहुल लोधी के इस्तीफे के बाद विधानसभा में दलगत स्थिति पार्टीसीट भाजपा107 कांग्रेस87 बसपा2 सपा1 निर्दलीय4 खाली सीट29 भाजपा के विकास कार्यों ने प्रभावित किया: राहुल: भाजपा में शामिल होने के बाद राहुल ने कहा कि उन्होंने सबसे पहला वचन दमोह में मेडिकल कॉलेज खोले जाने का दिया था, लेकिन कमलनाथ ने 15 महीने में कुछ नहीं किया। विकास की तो बात ही नहीं की गई। वह तब भी अडिग थे और आज भी हैं। प्रलोभन की बात नहीं है।


छह महीने में भाजपा सरकार ने जिस तरह से विकास किया है, उसी को देखते हुए वह भाजपा में शामिल हुए हैं। कांग्रेस बोली- भाजपा की सौदेबाजी जारी: राहुल के पार्टी छोड़ने के बाद कांग्रेस ने भाजपा पर पलटवार किया है। कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने कहा- प्रदेश पर 25 उपचुनाव थोपने वाली भाजपा अभी भी बाज नहीं आ रही है। लोकतंत्र की हत्या और सौदेबाजी का खेल लगातार जारी है। भाजपा ने चुनाव में अपनी संभावित हार को देखते हुए खरीद-फरोख्त का खेल फिर शुरू कर दिया है। राहुल सिंह लोधी से पहले कांग्रेस के 25 विधायक भाजपा में शामिल हो चुके हैं।&


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति