मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा पर बोला हमला, मांगे सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत, कहा- इंदिरा के समय 90 हजार पाक जवानों ने किया था समर्पण



छिंदवाड़ा। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपाइयों पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा- इन्हें (भाजपा) ध्यान नहीं कि इंदिरा सरकार के समय 90 हजार पाकिस्तानी जवानों ने समर्पण किया था। ये उसकी बात नहीं करेंगे। ये कहते हैं कि मैंने सर्जिकल स्ट्राइक की, कौन सी सर्जिकल स्ट्राइक की? कब और कहां सर्जिकल स्ट्राइक? इसके बारे में देश को खुलकर बताइए


छिंदवाड़ा में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर भी हमला किया। उन्होंने कहा कि शिवराज श्रेय की राजनीति करते हैं। उनका मुंह बहुत चलता है और झूठ बोलने के लिए चलता है। कमलनाथ इससे पहले भी बेरोजगारी, अर्थव्यवस्था समेत कई मुद्दों को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी पर हमला बोल चुके हैं।


इसके पहले सागर जिले में कमलनाथ ने कहा था कि मोदीजी ध्यान मोड़ने के लिए कभी राष्ट्रवाद की बात करेंगे, कभी पाकिस्तान की बात करेंगे, लेकिन नौजवानों और किसानों की बात नहीं करेंगे। मुंह चलाने में और देश चलाने में बहुत अंतर होता है। इसके साथ ही कमलनाथ नागरिकता संसोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) को मप्र में नहीं लागू करने का बयान दे चुके हैं।


शिवराज सरकार पर लगाया एक भी गौशाला नहीं बनाने का आरोप :कमलनाथ ने भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले 15 वर्षो से गौमाता की बात करने वालों ने प्रदेश में एक भी गौशाला बनाने का काम नहीं किया। मुख्यमंत्री ने जिले के उमरहर गांव में 30 लाख की लागत से निर्मित जिले की पहली गौशाला का उद्घाटन किया।


उन्होंने कहा कि हमने अपने वचनपत्र में प्रदेश की प्रत्येक पंचायत में एक गौ शाला बनाने का वचन दिया था, उसी वचन को पूरा करने के लिए यहां आए हैं। मुख्यमंत्री ने शिवराज सिंह चौहान का जिक्र करते हुए कहा कि हाल ही में चौहान छिंदवाड़ा आए थे, कह रहे थे कि माचागोरा का पानी, मेडिकल कालेज वे लाए। शिवराज सिंह चौहान झूठ बोलते हैं : कमलनाथ ने कहा कि चौहान झूठ बोलते हैं। संप्रग सरकार ने मार्च 2014 में छिंदवाड़ा में मेडिकल कालेज की स्वीकृति दी थी, उस स्वीकृति को नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद चौहान द्वारा निरस्त करवाने का प्रयास किया गया, तब उन्होंने साफ कह दिया था कि अब मेडिकल कालेज निरस्त नहीं होगा।


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति