मप्र की सीमा पर महाराष्ट्र से आ रहे यूपी के मजदूरों ने पुलिस के रोकने पर घंटों किया हंगामा, एसडीएम के पहुंचने पर निकलने दिया



दतिया। शिवपुरी-झांसी हाईवे पर मप्र की जौहरिया सीमा पर महाराष्ट्र से आ रहे उप्र के मजदूरों ने तीन घंटे जमकर हंगामा किया। उप्र पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। मजदूर अपने घर उप्र के सिद्धार्थ नगर व बेहराइच जा रहे थे। लेकिन उन्हीं के प्रदेश की पुलिस ने रोक लिया। जिले की सीमा पर हो रहे हंगामा की सूचना पर मौके पर दतिया एसडीएम वीरेंद्र रघुवंशी पहुंचे। उन्होंने झांसी डीएम से बात की। दोपहर 12 बजे मौके पर झांसी कलेक्टर पहुंचे। इसके बाद मजदूरों को निकलने दिया गया


उप्र पुलिस की दादागिरी देखिए कि उन्होंने 10 बसों को भी रोक लिया। यह बसें गुजरात व राजस्थान से आई थी। इनमें भी उप्र के लोग थे। सभी बसों के पास अनुमति थी। लेकिन उप्र के रक्षा थाना पुलिस ने इनकी अनुमति को अनदेखा कर दिया। शिवपुरी झांसी हाईवे पर रक्सा थाना के पास सुबह गुजरात व राजस्थान में फंसे उप्र के लोगों को लेकर 10 बसें पहुंची। रक्सा थाना पुलिस ने इन बसों को उप्र की सीमा में प्रवेश नहीं करने दिया। बसों के पास अनुमतियां भी थी। लेकिन पुलिस ने उनकी अनदेखी कर दी। बसों में फंसे लोग परेशान थे।


उसी दौरान महाराष्ट्र में फंसे उप्र के लगभग 2 हजार से अधिक मजदूर माल वाहनों (टाटा 407, आयसर,ट्रक ) में भर कर सीमा पर पहुंचे। उप्र की पुलिस ने इन्हें भी जिले की सीमा जौहरिया पर रोक दिया। मजदूरों को सिद्धार्थ नगर व बहराइच जाना था। पहले तो मजदूरों ने पुलिस से बहुत गुहार लगाई। लेकिन जब पुलिस ने नहीं मानी तो वाहनों से नीचे उतर कर मजदूरों ने हंगामा शुरू कर दिया। उप्र पुलिस के साथ उप्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। सुबह 9 बजे से हंगामा शुरू हुआ दोपहर 12 बजे तक चलता रहा।


झांसी में मिला कोरोना पॉजिटिव, सीमाएं सील: दतिया जिले से 30 किमी दूर उप्र के झांसी शहर में कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी है। ओरछा गेट पर एक 59 वर्षीय बुजुर्ग में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई। झांसी में मरीज की पुष्टि होते ही जिले की झांसी से लगी सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है। सीमा पर आने जाने वालों से सख्ती के साथ पूछताछ की जा रही है। झांसी से दतिया का चिरूला, जिगना, सरसई, उनाव और भांडेर थाने की सीमा लगती हैं। सभी थानों की पुलिस सीमाओं पर तैनात की है।


बाहर से आ रहे मजदूर, सीधे जा रहे जीएनएम सेंटर: लॉकडाउन 2 के 14 दिन बाद भी बाहर से प्रवासी मजदूर पलायन कर घर लौट रहे हैं। सोमवार को जिगना पुलिस ने मंदसौर से आए 10 प्रवासी मजदूरों को रोककर डॉक्टरों को बुलाया। पुलिस ने नुनवाहा तिराहे पर सभी मजदूरों की स्क्रीनिंग कराई, 14 दिन के लिए जीएनएम सेंटर में क्वारेंटाइन किया गया। एसडीएम पहुंचे तब सुलझा मामला: जिले की सीमा में हंगामे की खबर के बाद मौके पर एसडीएम वीरेंद्र सिंह बघेल पहुंचे। उन्होंने वहां से एसएसपी झांसी व कलेक्टर झांसी से चर्चा की। चर्चा के बाद मौके पर लगभग 11 बजे कलेक्टर झांसी पहुंचे। मजदूरों के पूछताछ के बाद उन्हें अपनें गंतव्य की ओर रवाना किया गया।


वेब खबर

वेब खबर



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति