ताज़ा ख़बरमध्यप्रदेश

सीएम शिवराज की अपील- कोरोना का संकट विकट है, सभी को एकजुट होकर लड़ना होगा

  • संक्रमण की चेन तोड़ना आवश्यक, 30 अप्रैल तक अनावश्यक रूप से घर से बाहर न निकलें

  • कोई भी लक्षण होने पर तुरंत जांच कराकर इलाज लें, पूरा विश्वास है कोरोना शीघ्र हारेगा हम जीतेंगे

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने कहा है कि कोरोना (Corona) का संकट अत्यंत विकट है, यह एक युद्ध है, जिसमें सबको सारे मतभेद भुलाकर एकजुट होकर लड़ना पड़ेगा। सरकार अपने स्तर पर पूरे प्रयास कर रही है, परन्तु जब तक समाज का पूरा सहयोग नहीं मिलेगा, हम कोरोना को शीघ्र नियंत्रित नहीं कर पाएंगे। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बीमारी के थोड़े भी लक्षण दिखने पर तुंरत जाँच करवायें तथा होम आइसोलेशन (Home isolation) अथवा कोविड केयर सेंटर (Covid Care Center) में रहकर इलाज लें। यहाँ सरकार द्वारा दवाओं, डॉक्टर का परामर्श आदि की पूरी व्यवस्था की गई हैं।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बढ़ते कोरोना संक्रमण (Corona infection) को देखते हुए संक्रमण की चेन को तोड़ना बहुत आवश्यक है। उन्होंने जनता से अपील की कि आगामी 30 अप्रैल तक कोई भी अनावश्यक रूप से घर से बाहर न निकले। गाँव, मोहल्लों, कॉलोनियों, बिल्डिंग्स आदि में लोग जनता कर्फ्यू (Public Curfew) लगाएँ। इस दौरान आवश्यक वस्तुएँ दो-चार व्यक्ति जाकर ले आएँ। बाहर जाते समय मास्क अनिवार्य रूप से लगाएँ। सामाजिक दूरी रखें तथा अन्य कोरोना संबंधी सावधानियों का पालन करें।





मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि सभी के सहयोग से हम इस लड़ाई को जल्दी जीतेंगे। कोरोना शीघ्र हारेगा। उन्होंने कोरोना के विरुद्ध लड़ाई में सभी धार्मिक, सामाजिक, राजनैतिक तथा अन्य संगठनों एवं जन-सामान्य से पूरा सहयोग करने की अपील की।

होम आइसोलेशन में सभी सुविधाएं
मुख्यमंत्री ने कहा कि (Home isolation) में सरकार की ओर से कोरोना के इलाज की सभी सुविधाएं दी जा रही हैं। आवश्यकता होने पर अस्पताल ले जाने के लिए एंबुलेंस (Ambulances) का इंतजाम किया जा रहा है। जिन मरीजों के घर में जगह कम है, वे कोविड केयर सेंटर में रहें। वहां पर दवाई के अलावा भोजन, चाय-नाश्ता आदि की व्यवस्था भी की गई है। सभी जिलों में कोविड केयर (Covid Care Center) सेंटर चालू हो गए हैं।





बेड की संख्या बढ़ाई जा रही है
मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार अस्पतालों में बेड की संख्या लगातार बढ़ाई जा रही है। जहां 01 अप्रैल को कुल 21 हजार 159 बेड उपलब्ध थे, वहीं अब बढ़कर ये 40 हजार 784 हो गए हैं। पिछले तीन दिनों में लगभग 3 हजार बेड्स बढ़े हैं। इसे 30 अप्रैल तक 50,000 बेड करने का लक्ष्य है।

कोरोना वॉलंटियर्स बनें
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वॉलंटियर्स (Corona Volunteers) कोरोना के नियंत्रण में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। सेवा का इच्छुक कोई भी व्यक्ति 181 पर कॉल कर कोरोना वॉलंटियर बन सकता है। प्रदेश में अभी तक 97 हजार 500 कोरोना वॉलंटियर्स रजिस्टर्ड हुए हैं।

यह भी पढ़ें: मप्र में कोरोना की तेज रफ्तार: एक दिन में 12 हजार से अधिक मिले संक्रमित मरीज, 66 ने तोड़ा दम

30 अप्रैल तक 50 हजार बिस्तर करेंगे
मुख्यमंत्री ने आॅक्सीजन (Oxygen) की आपूर्ति को लेकर भी आश्वस्त किया कि प्रदेश में आॅक्सीजन की कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने कहा, 8 अप्रैल को आॅक्सीजन की आपूर्ति 130 मीट्रिक टन थी, जो 12 अप्रैल को बढ़कर 267 मीट्रिक टन हो गई। इसके बाद लगातार आपूर्ति बढ़ती गई। 30 अप्रैल तक ये मात्रा 700 मीट्रिक टन हो जाएगी।

इंजेक्शन के लिए प्राइवेट कंपनियों से चर्चा
मुख्यमंत्री ने कहा कि रेडमेसिविर इंजेक्शन के लिए केंद्र सरकार और प्राइवेट कंपनियों से चर्चा की जा रही है। इंजेक्शन और बाकी दवाओं की कमी न हो, इसके प्रयास किए जा रहे हैँ।

Web Khabar

वेब खबर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button