होम 22 हजार करोड़
recovery-of-banks-will-be-15-per-cent-by-june-if-t

सहकारी बैंकों की वसूली 15 फीसदी, जून तक हालात नहीं सुधरे तो बिगड़ेगी स्थिति

सहकारी बैकों की रिपोर्ट के हिसाब से उन्हें किसानों से नियमित कर्ज के 14 हजार 878 करोड़ और कालातीत कर्ज के आठ हजार 589 करोड़ रुपए लेने हैं। इसके एवज में मार्च के पहले पखवाड़े में नियमित कर्ज के विरुद्ध एक हजार 393 करोड़ और कालातीत कर्ज के हिस्से से दो हजार 75 करोड़ रुपए मिले हैं। इस हिसाब से देखें तो वसूली 15 प्रतिशत से कुछ ज्यादा ही हुई है। सहकारिता विभाग के अधिकारियों का कहना है कि यह पिछले सालों की तुलना में अभी तक की वसूली का 50 फीसदी भी नहीं है। रबी सीजन के कर्ज की अदायगी जून 2019 तक होनी है।  आगे पढ़ें

mp-vidhaanasabha-mein-nahin-huee-charcha-aur-paari

मध्यप्रदेश: विधानसभा में नहीं हुई चर्चा और पारित हो गया 22 हजार करोड़ का अनुपूरक बजट

विधानसभा ने द्वितीय अनुपूरक बजट पर चर्चा के लिए दो घंटे समय तय किया था। उपाध्यक्ष के निर्वाचन को लेकर सदन में चले हंगामे के कारण इस पर चर्चा ही नहीं हो सकी। वित्तमंत्री तरुण भनोत ने द्वितीय अनुपूरक को लेकर प्रस्ताव रखा। जब इस पर बोलने के लिए कोई आगे ही नहीं आया तो द्वितीय अनुपूरक बजट को मंजूरी देते हुए विनियोग विधेयक पारित कर दिया गया।  आगे पढ़ें

mp-vis-mein-pesh-hua-22-hajaar-karod-ka-anupoorak-

मप्र: विस में पेश हुआ 22 हजार करोड़ का अनुपूरक बजट, किसान कर्जमाफी के लिए 5000 हजार करोड़

वित्तमंत्री तरुण भनोत ने मंगलवार को द्वितीय अनुपूरक अनुमान प्रस्तुत किया। इसमें सहकारी बैंकों की वित्तीय स्थिति सुधारने अंशपूंजी के लिए एक हजार करोड़ रुपए, सड़क निर्माण के लिए पौने दो हजार करोड़ रुपए, कृषि क्षेत्र को सवा सात हजार करोड़ रुपए से ज्यादा दिए गए हैं। मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान के लिए 20 करोड़ रुपए, मंत्रियों के स्वेच्छानुदान के लिए एक करोड़ और सहायता अनुदान में 50 लाख रुपए रखे गए हैं।  आगे पढ़ें

Previous 1 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति