होम सीबीआई
investigation-orders-against-four-including-former

विवादों में घिरे रहे सीबीआई के पूर्व स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना, पूर्व डीजीपी लूथरा समेत चार के खिलाफ जांच के आदेश

विवादों में घिरे रहे सीबीआई के पूर्व स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के इशारे पर चंडीगढ़ के एक डॉक्टर से 50 लाख रुपए ऐंठने का प्रयास किया गया। डॉक्टर की शिकायत पर अस्थाना, चंडीगढ़ के पूर्व डीजीपी तेजिंदर सिंह लूथरा, दिल्ली वापस जा चुके डीएसपी सतीश कुमार और इंस्पेक्टर अश्वनी कुमार के खिलाफ जांच के आदेश दिए गए हैं। इसके लिए सीबीआई दिल्ली ने ही यूटी के चीफ विजिलेंस अफसर यानी एडवाइजर मनोज परिदा को लिखा- सारा मामला चंडीगढ़ का है। वहीं पर अफसरों ने पावर का मिसयूज किया है।  आगे पढ़ें

cbi-takes-major-action-in-fraud-case-raids-at-more

धोखाधड़ी मामले में सीबीआई की बड़ी कार्रवाई,190 से अधिक स्थानों पर की छापेमारी

सीबीआई अफसरों के मुताबिक, सबसे अधिक छापेमारी महाराष्ट्र में 58 जगहों पर की गई। इसके बाद पंजाब में 32 जगह, राष्ट्रीय राजधानी में 12, तमिलनाडु-मध्यप्रदेश में 17-17, उत्तर प्रदेश में 15, आंध्र प्रदेश में 5, केरल, तेलंगाना और दादर-नागर हवेली में 4-4, गुजरात और हरियाणा में 5-5, कर्नाटक में छह, चंडीगढ़, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल में 2-2 स्थानों पर कार्रवाई की गई। एनर्गाे इंजीनियरिंग प्रोजेक्ट लि. और उसके डायरेक्टर्स चेयरमैन सुजित दास, दिनेश वी सिंह, मैनेजिंग डायरेक्टर जया िसंह ने फर्जी दस्तावेज लगाकर 1290 करोड़ रुपए की क्रेडिट फैसिलिटी ली।  आगे पढ़ें

former-finance-minister-got-bail-in-one-case-in-ca

पूर्व वित्तमंत्री को एक मामले में मिली जमानत, ईडी द्वारा दायर मामले में अभी 24 अक्टूबर तक रहना होगा जेल में

सुप्रीम कोर्ट ने आईएनएक्स मीडिया केस के सीबीआई मामले में मंगलवार को पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को जमानत दे दी। अदालत ने जमानत का विरोध करने पर सीबीआई से सख्त लहजे में कहा- चिदंबरम के विदेश भागने या गवाहों को धमकाने के सबूत नहीं हैं। जस्टिस आर. भानुमति की अगुआई वाली बेंच ने चिदंबरम को देश न छोड़ने की शर्त और एक लाख रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दे दी। हालांकि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा दायर मामले में उन्हें 24 अक्टूबर तक जेल में ही रहना होगा।  आगे पढ़ें

on-diggis-statement-the-vhp-president-said-if-they

दिग्गी के बयान पर विहिप अध्यक्ष ने कहा- उनके पास कोई जानकारी है तो सीबीआई को करनी चाहिए पूछताछ

सिंह ने रविवार को ट्वीट किया, ''भाजपा-आरएसएस हेडगेवार, गोवलकर या सावरकर जयंती को इतनी धूमधाम से क्यों नहीं मना रहे हैं? वे अपनी विचारधारा को क्यों छिपा रहे हैं, उन्होंने आरएसएस के जन्म के बाद स्वतंत्रता आंदोलन में क्या भूमिका निभाई थी? आप गोडसे को स्वतंत्रता सेनानी घोषित क्यों नहीं करते? भक्तों के लिए हिम्मत दिखाओ, जिन्हें आप सोशल मीडिया पर फॉलो कर रहे हैं।''  आगे पढ़ें

chidambaram-sent-to-tihar-jail-for-14-days-by-inx-

आईएनएक्स मीडिया केस में चिदंबरम को कोर्ट ने 14 दिन के लिए भेजा तिहाड़ जेल

राउस एवेन्यू कोर्ट में सुनवाई के दौरान चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि उनके मुवक्किल प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सामने सरेंडर करने के लिए तैयार हैं। वे ईडी के सामने सरेंडर करेंगे और ईडी उन्हें हिरासत में ले लेगा। चिदंबरम ने भी कहा कि मेरे खिलाफ कुछ नहीं मिला। जब मैं ईडी के सामने सरेंडर को तैयार हूं तो मुझे जेल क्यों जाना चाहिए? इस पर सीबीआई की तरफ से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने भी हमारी दलील मानी है कि चिदंबरम सबूतों से छेड़छाड़ कर सकते हैं।  आगे पढ़ें

chidambaram-arrested-or-jailed-in-inx-media-case-w

आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार चिदंबरम को जमानत या जेल, आज होगा फैसला

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता (एसजी) ने कहा कि कानून की नजर में हर नागरिक एक समान है। उन्होंने दलील दी कि एजेंसी को इस पर नोटिस दिया जाना चाहिए जो कानूनन जरूरी भी है। स्पेशल सीबीआई जज अजय कुमार कुहार को जब सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बारे में सूचित किया गया तो उन्होंने पूछा कि क्या सुप्रीम कोर्ट ने इस मुद्दे पर सोमवार को ही फैसला लिए जाने का कोई निर्देश दिया है। चिदंबरम के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि अगर यह साधारण केस होता तो सॉलिसिटर जनरल खुद यहां न होते।  आगे पढ़ें

cbi-takes-major-action-against-corruption-raids-at

भ्रष्टाचार के खिलाफ सीबीआई की बड़ी कार्रवाई, भोपाल सहित देश के 150 स्थानों पर मारे छापे

जानकारी के मुताबिक ज्वाइंट सप्राइज चैकिंग में मध्यप्रदेश की भोपाल और जबलपुर सीबीआई इकाई ने कार्रवाई की। सूत्रों के मुताबिक भोपाल सीबीआई ने भोपाल रेल मंडल क्षेत्र के रेलवे को बिजली के उपकरणों के 90 लाख रुपए के एक टेंडर को लेकर कार्रवाई की है। इसमें बिजली के उपकरणों की सप्लाई की मात्रा व गुणवत्ता की शिकायत के साथ अनियमितता को लेकर छापे में दस्तावेजों को जब्त किया और परीक्षण किया गया।  आगे पढ़ें

former-finance-minister-will-remain-in-cbi-custody

2 सितंबर तक सीबीआई की कस्टडी में रहेंगे पूर्व वित्तमंत्री, उधर ईडी ने भी कोर्ट में पेश किए दस्तावेज

आईएनएक्स मीडिया केस में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को सीबीआई की विशेष अदालत ने 2 सितंबर तक जांच एजेंसी की कस्टडी में भेज दिया। विशेष जज अजय कुमार कुहार के सामने चिदंबरम को पेश किया गया था। जस्टिस अजय कुमार ने 26 अगस्त को चिदंबरम को 4 दिन की कस्टडी में भेजा था। उधर, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने इस मामले से जुड़े दस्तावेज सीलबंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट में पेश किए। 20 अगस्त को दिल्ली हाईकोर्ट ने चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी। इसके बाद सीबीआई ने चिदंबरम को 21 अगस्त को गिरफ्तार किया था। वह 8 दिन से कस्टडी में हैं।  आगे पढ़ें

justice-rakesh-said-if-exposing-corruption-is-a-cr

जस्टिस राकेश बोले- अगर भ्रष्टाचार को उजागर करना अपराध है, तो मैंने अपराध किया

जस्टिस राकेश कुमार ने कहा, मैंने जो किया है, उसके लिए मुझे कोई भी पछतावा नहीं है। मुझे जो सही लगा, मैंने वही किया। मैंने अपने आदेश में जिन पर आरोप लगाया है, उन्हीं में से कुछ जज चीफ जस्टिस के साथ स्पेशल बेंच में सुनवाई की। मैं अपने स्टैंड पर कायम हूं और किसी भी स्थिति में भ्रष्टाचार से समझौता नहीं करूंगा। अगर चीफ जस्टिस को लगता है कि वे मुझे न्यायिक कार्य से अलग रखकर खुश हैं, तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है। क्योंकि न्यायिक कार्य आवंटित करने का अधिकार उनका है। मैंने केवल अपने संवैधानिक दायित्व का पालन किया है। किसी के प्रति मेरे मन में दुर्भावना नहीं है।  आगे पढ़ें

chidambarams-anticipatory-bail-plea-rejected-in-in

आईएनएक्स मीडिया केस में चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज, 4 दिन बढ़ी रिमांड

चिदंबरम के वित्त मंत्री रहने के दौरान मंत्रालय में ही थीं सिंधुश्री: सिंधुश्री की रिकॉर्ड शीट के मुताबिक, वे 11 अप्रैल 2007 से लेकर 11 सितंबर 2008 तक वित्त मंत्रालय की अतिरिक्त सचिव थीं। इस दौरान चिदंबरम सरकार में वित्त मंत्री थे। अधिकारियों ने बताया कि इसी दौरान मंत्रालय में आईएनएक्स मीडिया घोटाले से जुड़े निर्णय लिए गए थे। इसके बाद सिंधुश्री को विभाग में ही विशेष सचिव बना दिया गया था और वे नवंबर 2008 तक इस पद पर रहीं। जनवरी 2015 में प्लानिंग कमीशन खत्म कर के नीति आयोग बनाया गया और सिंधुश्री इसकी पहली सीईओ नियुक्त की गईं।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति