होम सीबीआई
p-chidambarams-night-in-cbi-officers-cabin-will-be

सीबीआई अधिकारी के कैबिन में गुजरी पी चिदंबरम की रात, राउज एवेन्यू कोर्ट में आज होंगे पेश

चिदंबरम को रातभर सीबीआई के उसी मुख्यालय में रखा गया जिसका उन्होंने ही 2011 में केंद्रीय गृहमंत्री के रूप में उद्घाटन किया था। खबरों के अनुसार जब चिदंबरम को हवालात में रखने की बात आई तो उन्होंने कहा कि उन्हें हवालात में डर लगता है और इसे देखते हुए उन्हें सीबीआई अधिकारी के कैबिन में रात गुजारने की मोजूरी दी गई। खबर यह भी है कि चिदंबरम से पूछताछ की जा रही है और सीबीआई ने उनसे एक दर्जन से ज्यादा लेकिन वो इसमें सहयोग नहीं कर रहे हैं। कोई भी सवाल पूछे जाने पर उल्टा सवाल कर रहे हैं।  आगे पढ़ें

on-cbi-action-rahul-said-central-government-is-con

सीबीआई की कार्रवाई पर राहुल ने कहा- चिदंबरम की छबि खराब करने केन्द्र सरकार कर रही साजिश

आईएनएक्स मीडिया केस में पी चिदंबरम के खिलाफ ईडी और सीबीआई की कार्रवाई को पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र की साजिश बताया है। राहुल ने बुधवार को कहा कि केंद्र सरकार चिदंबरम की छवि खराब करने के लिए एजेंसियों और बिना रीढ़ की मीडिया के एक वर्ग का इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने कहा कि मैं ताकत के इस गलत इस्तेमाल की निंदा करता हूं। दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी। इसके बाद देर रात ईडी और सीबीआई चिदंबरम के घर पहुंची थी, लेकिन वे नहीं मिले।  आगे पढ़ें

p-chidambaram-arrested-after-the-anticipatory-bail

अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद पी चिदंबरम गिरफ्तार, दीवार फांदकर अंदर घुसी सीबीआई

चिदंबरम ने कांग्रेस मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा- आईएनएक्स मीडिया केस में मुझ पर या परिवार के किसी सदस्य पर कोई आरोप नहीं लगाया गया है। चार्जशीट भी दाखिल नहीं की गई है। एफआईआर में ऐसा कुछ नहीं कहा गया है जो यह कहता हो कि मैंने गलत किया है। पहले मुझे हाईकोर्ट ने मुझे गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दी थी। फिर मेरी अग्रिम जमानत याचिका हाईकोर्ट ने खारिज कर दी। उन्होंने कहा- मेरे वकीलों ने मुझे सुप्रीम कोर्ट जाने की सलाह दी। मुझ पर कानून से बचने का आरोप लगाया गया, इंसाफ से भागने का आरोप लगाया गया। मेरे वकीलों ने मुझे बताया कि मेरी याचिका की सुनवाई शुक्रवार को होनी है। तब तक मैं मैं अपना सिर उठाकर चलूंगा। मैं कानून का सम्मान करता हूं। आजादी के नाम पर मैं केवल प्रार्थना करता हूं कि जांच एजेंसियां भी कानून का पालन करेंगी।  आगे पढ़ें

cbi-files-case-against-kamal-naths-nephew-ratul-pu

354 करोड़ के बैंक घोटाले में कमलनाथ के भांजे रतुल पुरी के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज किया मुकदमा

अधिकारी ने बताया कि कंपनी के निदेशक संजय जैन, विनीत शर्मा और अन्य अज्ञात सरकारी कर्मचारियों और अन्य व्यक्तियों के खिलाफ भी आपराधिक साजिश रचने का मामला दर्ज किया गया है। सेंट्रल बैंक आॅफ इंडिया के उप महाप्रबंधक मुरली छेत्री की शिकायत पर इन सभी के खिलाफ शनिवार को मामला दर्ज किया गया। छेत्री ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि आरोपियों ने बैंक के साथ 354.51 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की।  आगे पढ़ें

question-of-cji-to-chief-justice-when-a-case-does-

सीबीआई से चीफ जस्टिस का सवाल- जब किसी मामले का राजनीतिक रंग नहीं होता तो अच्छा काम क्यों नहीं करते

सीजेआई ने कहा- सीबीआई के कानूनी अधिकारों को इस तरह मजबूत किया जाना चाहिए, जिसमें संस्थागत ढांचे, कार्यप्रणाली का तरीका, सीमित ताकत, जिम्मेदारी जैसे पहलुओं का ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा कि जैसा कि सीबीआई का नियंत्रण दिल्ली स्पेशल पुलिस स्टेब्लिशमेंट एक्ट 1946 के तहत किया जाता है, ऐसे में उसका राजनीतिक औजार के तौर पर इस्तेमाल होने की संभावना बनी रहेगी।  आगे पढ़ें

sengar-accused-in-unnao-case-said-it-will-be-diffi

उन्नाव केस के आरोपी सेंगर ने कहा- मुश्किल होगा कोर्ट में आरोप साबित करना

रविवार रात आठ बजे सीतापुर जेल से दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में पेश करने के लिए ले जाने के दौरान सेंगर ने पत्रकारों से छोटी सी मुलाकात के दौरान यह बात कही। सेंगर के साथ ही उन्नाव रेप कांड में सह-अभियुक्त शशि सिंह को भी शिफ्ट किया गया। दोनों को अलग-अलग वाहनों से दिल्ली ले जाया गया। एक डीएसपी और दो इंस्पेक्टर सहित 22 पुलिसकर्मियों की सुरक्षा के बीच दोनों को शिफ्ट किया गया था। बताते चलें कि उन्नाव रेप पीड़िता की कार को रायबरेली में एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी। इस हादसे में रेप केस में गवाह उसकी चाची और मौसी की मौत हो गई थी। वहीं, कार में सवार पीड़िता का वकील बुरी तरह घायल हो गया था।  आगे पढ़ें

narottam-mishras-allegation-the-work-doing-under-p

नरोत्तम मिश्रा का आरोप: ईओडब्ल्यू सरकार के दबाव में कर रही काम, कहा- करेंगे सीबीआई जांच की मांग

भोपाल। प्रदेश के बहुचर्चित ई-टेंडरिंग घोटाले में पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने सीबीआई जांच की मांग उठाई है। उन्होंने आरोप लगाया है कि ईओडब्ल्यू सरकार के दबाव में काम कर रही और मेरे कर्मचारियों पर मेरा नाम लेने का दबाव बना रही है। अदालत ने ईओडब्ल्यू को मिश्रा के कर्मचारी रहे निर्मल अवस्थी और वीरेंद्र पांडे से पूछताछ के लिए तीन दिन का रिमांड दे दिया है। अवस्थी के बैंक खातों में 30-35 लाख रुपए मिले हैं। बताया जाता है कि ईओडब्ल्यू पांडे और अवस्थी से पूर्व मंत्री मिश्रा के यहां पदस्थ रहे मुकेश शर्मा के बारे में पूछताछ करना चाहती है। जांच एजेंसी को भरोसा है कि ये दोनों शर्मा के संपर्क में रहे हैं, इसलिए घोटाले के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी मिलेगी। उधर, मुकेश शर्मा फरार बताया गया है। ई-टेंडरिंग घोटाले में आरोपी वीरेंद्र और निर्मल को 31 जुलाई तक न्यायिक रिमांड पर भेजा गया था। जांच एजेंसी ईओडब्ल्यू ने अदालत में दोनों आरोपियों के संबंध में गुरुवार को पांच दिन का रिमांड देने का आवेदन दिया था। न्यायालय ने तीन दिन का रिमांड मंजूर किया है। साथ ही यह हिदायत भी दी है कि इनके स्वास्थ्य का ध्यान रखा जाए और मारपीट न की जाए। उल्लेखनीय है कि ये दोनों पहले से ही न्यायिक अभिरक्षा में चल रहे हैं। नरोत्तम जब मंत्री थे, तब वीरेंद्र पांडे उनके निज सचिव थे, जबकि अवस्थी टेलीफोन आपरेटर के रूप में कार्यरत थे। इनके विरुद्ध जांच एजेंसी को जो साक्ष्य मिले हैं उनके बारे में पूछताछ की जानी है। उधर ईओडब्ल्यू के पुलिस अधीक्षक अरुण मिश्रा ने बताया कि दोनों आरोपितों से अभी पूछताछ बाकी है। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी अवस्थी के 20-22 बैंक खाते मिले हैं, जिनमें करीब 30 से 35 लाख रुपए जमा पाए गए हैं। इसके बारे में उससे पूछताछ की जाएगी, जबकि पांडे क्लास-3 कर्मचारी है, उसके संबंध में जो जानकारियां मिली हैं, उनकी पुष्टि की जाएगी। रिमांड के दौरान इन दोनों का कुछ अन्य अधिकारी-कर्मचारियों से आमना-सामना भी कराया जाएगा। पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि इन कर्मचारियों को ईओडब्ल्यू अब तक अनेक बार पूछताछ कर चुकी है। इन लोगों ने अदालत में भी कहा कि उन पर यह दबाव बनाया जा रहा है कि वे नरोत्तम मिश्रा का नाम लें। उन्होंने कहा कि सरकार में हिम्मत हो तो वह इस मामले को सीबीआई का सौंपे। यदि सरकार ऐसा नहीं करती है तो हम हाईकोर्ट में जाकर सीबीआई जांच की मांग के बारे में विचार करेंगे। उन्होंने दोहराया कि यह सब राजनीतिक प्रतिशोध के तहत किया जा रहा है।   आगे पढ़ें

supreme-court-orders-cbi-court-to-appear-before-co

उन्नाव मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई अफसर को 12 बजे तक कोर्ट में पेश होने का दिया आदेश

इसी बीच सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सीजेआई को बताया कि उनकी लखनऊ में मामले की जांच कर रहे सीबीआई डायरेक्टर से बात हुई है। डायरेक्टर का कहना है कि केस की जांच लखनऊ मे चल रही है, इसलिए रिकार्ड वहीं हैं। ऐसे में जांच अधिकारियों का 12 बजे तक दिल्ली पहुंचना मुमकिन नहीं होगा। मेहता ने मामले की सुनवाई शुक्रवार तक टालने की अपील की, हालांकि सीजेआई ने इससे इनकार कर दिया।  आगे पढ़ें

yogi-sarkar-on-unnao-incident-recommendation-from-

उन्नाव की घटना पर सख्त योगी सरकार, सीबीआई जांच कराने केन्द्र से की सिफारिश

बता दें कि रविवार को उन्नाव के चर्चित रेप कांड की पीड़िता लड़की अपने वकील और परिवार के साथ रायबरेली जेल में बंद अपने चाचा से मुलाकात करने जा रही थी। इसी दौरान रायबरेली के अतौरा इलाके में नेशनल हाईवे नंबर 232 पर एक तेज रफ्तार ट्रक ने उनकी कार को सामने से टक्कर मार दी थी। हादसे में पीड़ित लड़की की चाची और मौसी की मौत हो गई थी और गाड़ी चला रहे वकील महेंद्र सिंह और पीड़ित लड़की घायल हो गए थे। दोनों की हालत गंभीर है और उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम में रखा गया है।  आगे पढ़ें

vyapam-scam-madhya-pradesh-has-been-pending-for-th

व्यापमं घोटाला: मध्यप्रदेश में तीन साल से लंबित है व्यापमं की 32 परीक्षाओं की जांच

सीबीआई ने 320 पेज की इन शिकायतों की मूल प्रति भी मुख्य सचिव को भेज दी थी पर मुख्य सचिव कार्यालय और अन्य विभाग जांच करवाने के बजाए अलग-अलग बहाने बनाकर समय व्यतीत करते रहे। पहले विधि विभाग से सलाह मांगी, अब सरकार ने सीबीआई द्वारा सुझाए जांच के बिंदुओं की जानकारी व्यापमं (अब प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड) से मांगी है। मुख्य सचिव को मिले पत्र पर विधि विभाग ने कहा कि सीबीआई के पत्र में बताए गए बिंदु तथ्यात्मक जांच से संबंधित हैं और इसमें किसी प्रकार की कानूनी बाधा नहीं है। इसका फैसला प्रशासकीय विभाग करे।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति