होम संकट
big-gift-to-farmers-shivraj-released-crop-insuranc

किसानों को बड़ी सौगात: शिवराज ने जारी की 1 लाख 72 हजार किसानों को फसल बीमा और 1 लाख 75 हजार किसानों को कल्याण निधि

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कृषि को लाभ का धंधा बनाकर किसानों की जिन्दगी बदलने और आत्मनिर्भर भारत के निर्माण की दिशा में मध्यप्रदेश सरकार निरंतर सक्रिय है। किसानों को राहत, सहयोग और प्रोत्साहन लगातार जारी रहेगा। कोरोना के कारण आर्थिक संकट जरूर है पर जरूरत होने पर किसान को सहयोग करना पड़ा तो उधार लेकर भी राहत पहुंचायी जाएगी। किसानों का सुरक्षा कवच बना रहेगा।  आगे पढ़ें

shivrajs-instructions-on-meeting-kharif-procuremen

खरीफ उपार्जन संबंधी बैठक शिवराज के निर्देश, खरीफ फसलों की समर्थन मूल्य पर खरीदी की हों उत्कृष्ट व्यवस्थाएं, किसानों को दें पर्याप्त समय

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में धान आदि फसलों की समर्थन मूल्य पर किसानों से खरीदी के लिए उत्कृष्ट व्यवस्थाएं की जाएं। इस बार मध्यप्रदेश ने गेहूँ उपार्जन में पूरे देश में आदर्श स्थापित किया है, खरीफ फसलों के उपार्जन में भी किसी प्रकार की कोई कमी न रहे। किसानों को अपनी फसलों को समर्थन मूल्य पर बेचने के लिए पर्याप्त समय दिया जाए। साथ ही कोविड संकट के चलते खरीदी केन्द्रों पर सभी आवश्यक सावधानियां सुनिश्चित की जाएं।  आगे पढ़ें

shivraj-said-to-flood-victims-be-patient-dont-worr

बाढ़ पीड़ितों से शिवराज ने कहा-धैर्य रखें, बिल्कुल चिंता न करें आपका ‘मामा’ हर समय आपके साथ है, हर व्यक्ति को मिलेगा मुआवजा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बाढ़ आपदा की इस घड़ी में सरकार पूरी तरह बाढ़ प्रभावितों के साथ है। बाढ़ प्रभावित हर व्यक्ति को फसल, मकान, सामान आदि के नुकसान का भरपूर मुआवजा दिलवाया जाएगा। कोरोना संकट के चलते प्रदेश की वित्तीय स्थिति खराब है परन्तु बाढ़ राहत कार्य तथा जनता की मदद में राशि की बिल्कुल भी कमी नहीं आने देंगे। आप धैर्य रखें, बिल्कुल चिंता न करें आपका 'मामा' हर समय आपके साथ है। प्रशासन आपको हरसंभव मदद देने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगा।  आगे पढ़ें

chief-ministers-message-to-the-people-of-the-state

मुख्यमंत्री का प्रदेशवासियों के नाम संदेश: चिंतित न हों, विचलित न हों - सरकार साथ है, अतिवर्षा और बाढ़ में सतर्कता व सावधानी जरूरी

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संकट के बीच अतिवर्षा का एक और संकट आया है। प्रदेश के बड़े हिस्से में बाढ़ जैसी स्थितियां निर्मित हो रही हैं। मां नर्मदा जी और उनकी सहायक नदियाँ इस समय उफान पर हैं। बाँधों से चूंकि लगातार पानी छोड़ा जा रहा है, जिससे तेजी से जलस्तर बढ़ रहा है। होशंगाबाद में तो नर्मदा जी 973 फीट पर हैं। खतरे का निशान 964 फीट है और अभी 48 घंटे भारी वर्षा की आशंका है। लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है। इस घड़ी में चिंतित न हो, विचलित न हो। जहां-जहां जरूरी है वहां राहत के, सुरक्षा के, बचाव के सारे कार्य किए जाएंगे।  आगे पढ़ें

shivraj-said-we-have-to-start-the-business-of-stre

शिवराज ने कहा- हमें हर हाल में पथ विक्रेताओं का काम-धंधा चालू करना है, योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में बनेगा अव्वल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संकट के चलते लॉकडाउन के कारण पथ विक्रेता छोटे-छोटे व्यवसाइयों का कार्य बुरी तरह प्रभावित हुआ है। हमें हर हालत में उनका काम-धंधा चालू करना है। इसके लिए प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर स्वनिधि योजना से शहरी पथ विक्रेताओं एवं मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रता योजना के माध्यम से ग्रामीण पथ विक्रेताओं को काम-धंधे के लिए 10 हजार रुपए का ब्याजमुक्त ऋण सरकार उपलब्ध करा रही है। शहरी पथ विक्रेता योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में अव्वल है, जहां देश के 47 प्रतिशत प्रकरण स्वीकृत किए गए हैं।  आगे पढ़ें

former-chief-minister-digvijay-gave-the-edict-to-p

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय ने नसीहत देते हुए पायलट को कहा- कांग्रेस में भविष्य उज्जवल है, उन्हें सिंधिया का अनुकरण नहीं करना चाहिए

राजस्थान में जारी सियासी संकट के लिए भाजपा को दोषी ठहराते हुए मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने रविवार को सचिन पायलट से कहा कि वह देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी को न छोड़ें। उन्होंने पायलट को नसीहत देने के अंदाज में कहा कि उनके लिए कांग्रेस में उज्जवल भविष्य है, इसलिए उन्हें पार्टी छोड़ भाजपा में गये पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का अनुकरण नहीं करना चाहिए।  आगे पढ़ें

pm-modi-started-self-reliant-uttar-pradesh-employm

पीएम मोदी ने की आत्मनिर्भर उत्तरप्रदेश रोजगार अभियान की शुरूआत, कहा- हम सभी अगर अपने जीवन के बारे में सोचें तो हमने अनेक उतार और चढ़ाव देखे हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 'आत्मनिर्भर उत्तरप्रदेश रोजगार अभियान' की शुरूआत की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि हम सभी अगर अपने जीवन के बारे में सोचें तो हमने अनेक उतार और चढ़ाव देखे हैं। हमारे गांव और शहरों में कई तरह की मुश्किलें आती रहती हैं। कल उत्तर प्रदेश और बिहार में बिजली गिर गई। कई जानें चली गईं।  आगे पढ़ें

shivraj-took-a-big-decision-for-the-students-admis

शिवराज ने छात्रों के लिए लिया बड़ा निर्णय: स्नातक प्रथम, द्वितीय वर्ष तथा स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर के परीक्षाथियों को अगली कक्षा में दिया जाएगा प्रवेश

कोरोना संकट के मद्देनजर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के उच्च शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा महाविद्यालयीन विद्यार्थियों के हित में बड़ा निर्णय लिया है। अब स्नातक प्रथम एवं द्वितीय वर्ष तथा स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर के परीक्षार्थियों को बिना परीक्षा दिए उनके गत वर्ष/सेमेस्टर के अंकों/आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अगली कक्षा/सेमेस्टर में प्रवेश दिया जाएगा। साथ ही स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर के परीक्षार्थियों के पूर्व वर्षों/ सेमेस्टर्स में से सर्वाधिक अंक प्राप्त परीक्षा परिणाम को प्राप्तांक मानकर अंतिम वर्ष/सेमेस्टर के परीक्षा परिणाम घोषित किये जाएंगे।  आगे पढ़ें

the-central-government-increased-the-limit-of-borr

केन्द्र सरकार ने राज्यों की वित्तीय राहत देने के कर्ज लेने की सीमा 3 से बढ़ाकर 5 फीसदी किया, अब मप्र ले सकेगा 14 हजार करोड़ का अतिरिक्त कर्ज

कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार ने राज्यों को वित्तीय राहत देने के लिए कर्ज लेने की सीमा 3 प्रतिशत से बढ़ाकर 5 फीसदी कर दी है। इस दो प्रतिशत की वृद्धि में 0.5 फीसदी (4 हजार 746 करोड़) कर्ज राज्य सरकार बिना किसी शर्त के बाजार से उठा लेगी, लेकिन बाकी के 1.5 फीसदी कर्ज के लिए उसे चार सुधार करने होंगे। अभी तक राज्य सकल घरेलू उत्पाद (एसजीडीपी) का तीन फीसदी तक ही मप्र सरकार कर्ज ले पाती थी।  आगे पढ़ें

on-the-political-rhetoric-on-the-corona-crisis-the

कोरोना संकट पर जारी सियासी बयानबाजी पर गुजरात हाईकोर्ट ने की तल्ख टिप्पणी, कहा- यह संक्रमण इंसानी संकट है, ना कि सियासी; आलोचना से मर्ज ठीक नहीं हो जाएगा

कोरोनावायरस महामारी के संबंध में दायर एक पीआईएल पर रविवार को हाईकोर्ट ने गुजरात सरकार को निर्देश दिए कि हर श्रेणी के मरीज के लिए जो भी जरूरी स्वास्थ्य निर्देश दिए गए हैं, उनका सख्ती से पालन किया जाए। लापरवाही और गैर-जिम्मेदाराना रवैये की वजह से एक भी जान नहीं जानी चाहिए।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति