होम विपक्ष
modis-wave-collapsed-ups-equation-maha-coalition-h

मोदी लहर में ध्वस्त हुआ यूपी का समीकरण, महागठबंधन को 15 सीटों पर करना पड़ा संतोष

एसपी और बीएसपी ने बैर को भुलाते हुए साथ चुनाव लड़ने का फैसला किया था, तब इसे बड़े जनाधार को प्रभावित करने वाले गठबंधन के रूप में आंका गया था। आरएलडी के साथ आने से महागठबंधन को और मजबूत माना जा रहा था। इस गठबंधन को फेल होने को लेकर तमाम दावे किए जा रहे हैं, लेकिन समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने फरवरी में ही मायावती के साथ बेटे अखिलेश के गठबंधन पर नाराजगी जाहिर की थी।  आगे पढ़ें

demand-for-22-opposition-parties-including-chandra

चन्द्रबाबू नायडू समेत 22 विपक्षी दलों की मांग: वीवीपैट का मिलान वोटों की गिनती से पहले हो, बाद में नहीं

विपक्षी दलों के नेताओं को एकजुट करने में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और तेदेपा नेता चंद्रबाबू नायडू की भूमिका अहम है। उन्होंने सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी के साथ कोलकाता में उनके सरकारी आवास में बैठक कर केंद्र में गैर राजग सरकार बनाने पर चर्चा की। ममता बनर्जी के साथ 45 मिनट की वार्ता में विपक्षी दलों के महागठबंधन की केंद्र में गैर भाजपा सरकार को लेकर गंभीर गूफ्तगू हुई, जिसमें कांग्रेस समेत अन्य क्षेत्रीय दलों को शामिल करने पर विचार किया।  आगे पढ़ें

naidu-who-is-involved-in-creating-a-new-front-will

नया फ्रंट बनाने में जुटे नायडू, आज विपक्षी नेताओं के साथ करेंगे बैठक, बैठक में बड़े दल रहेंगे नदारद

मतगणना के बाद गैर राजग सरकार के गठन को लेकर विपक्षी नेताओं के बीच विचार-विमर्श होगा। एग्जिट पोल के रुझानों के बाद विपक्षी नेताओं के निशाने पर चुनाव आयोग और ईवीएम आ गई हैं। इस बारे में वे आयोग से मुलाकात में वीवीपैट की गिनती पर जोर देंगे। विपक्षी दलों के नेताओं को एकजुट करने में आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और तेदेपा नेता चंद्रबाबू नायडू की भूमिका अहम है। उन्होंने सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की नेता ममता बनर्जी के साथ कोलकाता में उनके सरकारी आवास में बैठक कर केंद्र में गैर राजग सरकार बनाने पर चर्चा की। ममता बनर्जी के साथ 45 मिनट की वार्ता में विपक्षी दलों के महागठबंधन की केंद्र में गैर भाजपा सरकार को लेकर गंभीर गूफ्तगू हुई, जिसमें कांग्रेस समेत अन्य क्षेत्रीय दलों को शामिल करने पर विचार किया।  आगे पढ़ें

political-stir-up-after-exit-poll-enthusiasm-in-nd

एग्जिट पोल के बाद बढ़ी सियासी हलचल, एनडीए में उत्साह तो विपक्ष ने ईवीएम पर उठाए सवाल

एग्जिट पोल जारी होने के बाद एक तरफ जहां एनडीए खेमे में उत्साह है, वहीं विपक्षी दल एग्जिट पोल को खारिज कर रहे हैं। इस बीच, सियासी हलचल बढ़ गई है। सोमवार को अखिलेश यादव ने मायावती से मुलाकात की। इस बीच, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह 21 मई को एनडीए नेताओं के साथ मुलाकात कर सकते हैं और उनके साथ भोज का आयोजन भी कर सकते हैं। वहीं, चुनाव प्रचार के समय से गैर-भाजपाई दलों को एक जुट करने में जुटे आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री और टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू का अलग-अलग नेताओं से मिलने का क्रम जारी है। वे नतीजों से पहले पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात कर सकते हैं। नायडू इससे पहले राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल, मायावती और अखिलेश यादव से मिल चुके हैं। इस बीच, नाडयू ने मतगणना का प्रक्रिया और ईवीएम पर सवाल उठाया है।  आगे पढ़ें

after-exit-polls-all-opposition-parties-including-

एग्जिट पोल्स के बाद कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दलों में मची हलचल, ईवीएम उठने लगे सवाल

एग्जिट पोल्स को दिल्ली कांग्रेस ने सिरे से नकार दिया है। कांग्रेस प्रवक्ता जितेंद्र कोचर का कहना है कि यह बहुत जल्दी है। नतीजे तो 23 को आएंगे, तब देखेंगे। कोचर ने गत 2004 के एग्जिट पोल का हवाला देते हुए कहा कि उस समय भी भाजपा इंडिया शाइनिंग कर रही थी, एग्जिट पोल भी भाजपा को जिता रही थी। लेकिन हुआ क्या? एग्जिट पोल को धता बताते हुए कांग्रेस ने सरकार बनाई। इस बार भी ऐसा ही होगा। टीवी चैनलों के एग्जिट पोल थोथा साबित होगा और कांग्रेस कहीं अधिक सीटें हासिल करेगी। उन्होंने कहा तीन दिन बाद परिणाम सामने आ जाएगा। अभी कुछ भी कहना जल्दी होगा। कांग्रेस इस एग्जिट पोल को सिरे से नकारती है।  आगे पढ़ें

after-questioning-on-employment-the-pmo-asked-for-

रोजगार पर सवाल उठने के बाद पीएमओ ने खाली पड़े सरकारी पदों का मांगा डेटा

प्रधानमंत्री कार्यालय के इन निर्देशों के बाद मंत्रालयों और विभागों में आंतरिक सर्कुलर जारी किया गया है और वहां पदों की संख्या और खाली पदों के बारे में जानकारी मांगी गई है। इस बारे में 3 मई को जारी किए गए अंडरसेक्रटरी फणी तुलसी के द्वारा जारी किए गए सर्कुलर के मुताबिक, वित्त मंत्रालय को सूचित किया गया है कि जल्द ही इस संबंध में पीएमओ द्वारा एक मीटिंग रखी जाएगी जिसमें विभिन्न विभागों में खाली पदों पर चर्चा की जाएगी। इसमें 30 अप्रैल 2019 तक खाली विभिन्न पदों के बारे में जानकारी मांगी गई है।  आगे पढ़ें

rahuls-tweet-is-the-political-stir-of-fast-said-vi

राहुल के ट्वीट ने तेज की सियासी हलचल, कहा- देश के लिए ठीक नहीं है हिंसा और नफरत

राहुल गांधी ने साफ तौर पर कुछ नहीं लिखा है, लेकिन इसे कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर से जोड़कर देखा जा रहा है। दरअसल, अय्यर ने 2017 में पीएम नरेंद्र मोदी के बारे में दिए गए अपने विवादित बयान 'नीच किस्म का आदमी' को सही ठहराते हुए अब एक लेख लिखा है। गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान अय्यर के दिए इस बयान पर काफी बवाल मचा था और बाद में कांग्रेस नेता को माफी मांगनी पड़ी थी। अब लेख से सफाई के बाद फिर से इसपर विवाद हो गया है।  आगे पढ़ें

starting-from-the-opposition-parties-on-the-possib

विपक्षी दलों से संभावित स्थिति को लेकर अभी से शुरू किया मंथन, नतीजों के बाद तुरंत सरकार बनाने बन रही रणनीति

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और टीडीपी नेता चन्द्रबाबू नायडू तमाम विपक्षी पार्टियों के बीच एक पुल की तरह उभरे हैं। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से बुधवार को दिल्ली में मुलाकात की। पता चला है कि उन्होंने 19 मई को आखिरी चरण की वोटिंग और 23 मई को नतीजों से पहले 21 मई को 22 बीजेपी विरोधी पार्टियों की बैठक बुलाने की योजना पर चर्चा की। मीटिंग के बाद नायडू कोलकाता रवाना हो गए जहां उन्होंने टीएमसी चीफ ममता बनर्जी के साथ एक रैली को संबोधित किया। गुरुवार को वह ममता से चर्चा करेंगे।  आगे पढ़ें

pm-speaks-in-muzaffarpur-attack-said-opposition-ca

मुजफ्फरपुर में पीएम ने बोला हमला, कहा-विपक्ष मजबूत सरकार को नहीं कर पा रहा बर्दाश्त

मोदी ने आगे कहा कि, जिन्होंने बिहार की पहचान बदली थी, वो इस चुनाव में केंद्र में अपनी सरकार बनाने के लिए नहीं लड़ रहे, वो किसी भी तरह से अपने सदस्य बढ़ाने के लिए छटपटा रहे हैं। उनकी ताकत बढ़ाने का मतलब है बिहार में लूट-पाट, अपहरण, भ्रष्टाचार के दिन वापस लाना। उनकी ताकत बढ़ाने का मतलब है बेटियों का अपहरण, गुंडागर्दी, हत्याएं, हर योजना में भ्रष्टाचार। उनकी ताकत बढ़ाने का मतलब है, सूरज ढलने के बाद अपने ही घर मे कैद हो जाना, घुट-घुट के जीना, पलायन के लिए मजबूर होना। फिर से ये लोग बिहार में गिद्ध दृष्टि जमाए हैं। ये बिहार को जाति, समाज के आधार पर बांटकर अपना स्वार्थ सिद्ध करना चाहते हैं। अपने भ्रष्टाचार, काले कारनामों को छिपाना चाहते हैं। उनका लक्ष्य है कि दिल्ली में कमजोर सरकार बने ताकि ये फिर से मनमानी कर सके।  आगे पढ़ें

shiv-sena-chief-spoke-on-the-opposition-attack-sai

शिवसेना प्रमुख ने विपक्ष पर बोला हमला, कहा- पीएम पद का नहीं उम्मीदवार, कर रहे बड़े-बड़े दावे

ठाकरे ने कहा, 'हमारे पास प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी जैसा मजबूत उम्मीदवार है। लेकिन आप विपक्ष से पूछेंगे कि उनका उम्मीदवार कौन है तो वह कहेंगे कि पहले वोट दें, हम बाद में देखेंगे।' मावल क्षेत्र में एक अन्य चुनावी रैली के दौरान ठाकरे ने कहा कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) प्रमुख शरद पवार ने लोकसभा चुनाव में टिकट बंटवारे के दौरान सिर्फ अपने परिवार के बारे में सोचा है। पवार की बेटी सुप्रिया सुले बारामती से चुनाव लड़ रही हैं। ठाकरे ने पवार पर तंज कसते हुए कहा, 'मैं नहीं तो मेरा बेटा। अगर मेरा बेटा नहीं, तो भतीजा। क्या दूसरों के बच्चें नहीं हैं'  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति