होम लालजी टंडन
speculations-of-cabinet-expansion-intensified-in-m

मप्र में मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलें हुई तेज, शिवराज ने राज्यपाल से की मुलाकात, 22 मंत्रियों को दिलाई जा सकती है शपथ

मध्य प्रदेश में शिवराज मंत्रिमंडल के विस्तार को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं। दूसरे विस्तार में 22 मंत्रियों को शपथ दिलाई जा सकती है। इस बीच शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राजभवन जाकर राज्यपाल लालजी टंडन से मुलाकात की है। सूत्र बता रहे हैं कि दोनों के बीच मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चर्चा हुई है। इसके साथ ही सीएम ने राज्यपाल को प्रदेश में कोरोना को लेकर सरकार के प्रयासों के बारे में भी जानकारी दी। संभावना है कि 5 मई को मंत्रिमंडल का विस्तार कर दिया जाए।  आगे पढ़ें

the-governor-gave-the-advice-to-the-speaker-said-a

राज्यपाल ने विधानसभा अध्यक्ष को दी नसीहत, कहा- आपके खिलाफ अविश्वास का प्रस्ताव लंबित है, वैधानिक स्थिति को ध्यान में रखकर काम करें

मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति से अपेक्षा की है कि जब तक उनके (एनपी प्रजापति) खिलाफ पेश अविश्वास प्रस्ताव पर सदन में निर्णय नहीं लिया जाता है, तब तक वे संविधान, विधानसभा नियमावली एवं नैतिकता के आधार पर प्रत्येक विषय की वैधानिक स्थिति का परीक्षण कर काम करें। राज्यपाल टंडन ने विधानसभा सचिवालय के संबंध में राजभवन को 20 और 21 मार्च को प्राप्त पत्रों के संदर्भ में शनिवार को देर रात एक पत्र लिखा है। असल में, भाजपा के ब्यौहारी विधायक शरद कोल के इस्तीफे को लेकर विवाद चल रहा है। स्पीकर ने 20 मार्च को मीडिया को जानकारी दी कि उन्होंने भाजपा विधायक शरद कोल का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। इसके बाद भाजपा ने राज्यपाल से कोल पर दबाव डालने की बात कही थी।  आगे पढ़ें

ubau-hota-hai-yah-intajar

उबाऊ होता है यह इंतजार.....

श्यामला हिल्स, निशात एंक्लेव तथा 74 बंगले आदि जगह के मंत्री निवास साजन बिना सुहागन वाली स्थिति में दिख रहे हैं। कोरोना के नाम पर राज्य का विधानसभा भवन सन्नाटे से घिरा हुआ है। विधायक विश्राम गृह में लोग कम, प्रश्न चिन्ह ज्यादा नजर आने लगे हैं। इस सबके बीच आज सुबह जिस मामले से साक्षात्कार हुआ, वह भीतर तक दहला गया। एक मंत्री बंगले के बाहर सत्तर साल के आदमी को बैठा देखा। परिवेश से वह गरीब, चेहरे से दुर्भाग्यशाली तथा हाव-भाव से परेशान दिख रहा था। मैंने वजह पूछी तो उसने बताया कि छतरपुर से मंत्री से मिलने आया है। बीते चार दिन से रोज वहां आता है। जहां उसे पता चलता है कि माननीय मंत्री जी प्रवास पर हैं।  आगे पढ़ें

attempts-to-cheat-several-mlas-including-gopal-bha

गोपाल भार्गव, रामेश्वर शर्मा समेत कई विधायकों को ठगने का प्रयास, राज्यपाल के नाम से ठग ने 7-7 लाख रुपए आरटीजीएस करने को कहा

नेता प्रतिपक्ष एवं रहली विधायक गोपाल भार्गव, भोपाल के हुजूर विधायक रामेश्वर शर्मा समेत भाजपा के सागर, नरयावली व बीना विधायक को राज्यपाल लालजी टंडन के नाम पर सायबर ठगी के प्रयास का मामला सामने आया है। ओडिशा से एक ठग ने सोमवार को इन विधायकों को अलग-अलग कॉल किए और उनसे 7-7 लाख रुपए आरटीजीएस करने को कहा। विधायकों को ठगी का शक हुआ। इसके बाद राज्यपाल के निज सचिव और एसपी अमित सांघी को जानकारी दी गई। पुलिस की सायबर सेल इसकी जांच कर रही है। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने बताया कि ठग ने उनसे पैसे तो नहीं मांगे, लेकिन भूपेंद्र सिंह का नंबर मांगा था। मुझे कुछ शक हुआ तो मैंने नंबर नहीं दिया। मेरे पास विधायक प्रदीप लारिया का भी इस संबंध में फोन आया था। इसके बाद मैंने एसपी इसकी शिकायत की है।  आगे पढ़ें

in-the-convocation-ceremony-the-governor-said-it-i

दीक्षांत समारोह में राज्यपाल ने कहा-ज्ञान की संपूर्णता के लिए देश की संस्कृति, इतिहास, विरासत को जानना जरूरी

राज्यपाल लालजी टंडन ने जबलपुर में पं. द्वारका प्रसाद मिश्र इंडियन इंस्टीट्यूट आॅफ इन्फार्मेशन टेक्नालॉजी, डिजाइन एण्ड मैनेजमेंट के दसवें दीक्षांत समारोह में कहा कि ज्ञान की संपूर्णता को प्राप्त करने के लिए देश की संस्कृति, इतिहास और समृद्धशाली विरासत को जानना बेहद जरूरी है। उन्होंने छात्र-छात्राओं का आव्हान किया कि वे टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में नये शोध और अनुसंधानों से जुड़कर दुनिया में देश का नाम रोशन करें।  आगे पढ़ें

in-the-convocation-ceremony-the-higher-education-m

दीक्षांत समारोह में उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा- शिक्षा में संस्कार, देशभक्ति और पर्यावरण का एहसास होना जरूरी

राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि जब हम नए भारत के निर्माण की बात करते हैं, तब हमें शिक्षा के अपने पुरातन इतिहास को याद करना होगा, जिसके दम पर दुनिया हमें विश्व-गुरू मानती थी। उन्होंने कहा कि विध्वंसकारी शक्तियों द्वारा समय के साथ हमारी शिक्षा सम्पदा को भी लूटा गया, साहित्य को जलाया गया। इन सब के बावजूद हमारे विद्वानों ने श्रुति और स्मृति के आधार पर शैक्षणिक इतिहास और साहित्य को बार-बार पुनर्जीवित किया। राज्यपाल ने कहा कि हमें पुरातन शिक्षण व्यवस्था की नींव पर नए भारत की इमारत खड़ी करनी होगी। लालजी टंडन ने कहा कि भारत को पुन: विश्वगुरू का दर्जा दिलाने के लिए विश्वविद्यालयों को नालंदा और तक्षशिला की शिक्षण प्रणाली को अपनाना होगा।  आगे पढ़ें

after-getting-relief-from-the-high-court-bjp-will-

हाईकोर्ट से राहत मिलने के बाद लोधी की सदस्यता बहाली के लिए भाजपा राज्यपाल से करेगी गुहार

बर्खास्त विधायक प्रहलाद लोधी को हाईकोर्ट से राहत मिलने के बाद उनकी सदस्यता बहाली के लिए अब भाजपा राज्यपाल के यहां गुहार लगाएगी। एक-दो दिन में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के नेतृत्व में भाजपा विधायक राज्यपाल लालजी टंडन से मिलकर लोधी की सदस्यता बहाल करने की मांग करेंगे। इसे लेकर सोमवार को नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के निवास पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरण शर्मा और पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा के बीच चर्चा हुई। तीनों के बीच इस मामले को लेकर करीब एक घंटे चर्चा हुई।  आगे पढ़ें

bjp-state-president-meets-governor-to-seek-interve

राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था में सुधार के लिए राज्यपाल से मिले भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, की हस्तक्षेप की मांग

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति चौपट हो गयी है। बुधवार को मंदसौर में दिनदहाड़े विश्व हिंदू परिषद के पदाधिकारी युवराज सिंह की हत्या कर दी गयी। इसके पहले मंदसौर में ही नगर पालिका अध्यक्ष की हत्या की गयी थी। इसके अलावा इंदौर में हत्याएं हुई। बुधवार को एक कोच की हत्या इंदौर में की गयी। बच्चों के अपहरण के मामले भी सामने आए हैं।  आगे पढ़ें

elections-will-not-be-held-on-time-due-to-the-new-

नगरीय निकाय चुनाव नई व्यवस्था से कराने पर तय समय पर नहीं होंगे चुनाव

नई व्यवस्था से चुनाव होने की वजह से कई सारे बदलाव होंगे। महापौर व अध्यक्ष को वापस बुलाने खाली कुर्सी, भरी कुर्सी के लिए मतदान अब नहीं होगा। परिसीमन चुनाव से दो माह पहले तक होगा। इसके मायने यह हुए कि नवंबर तक वार्डों का परिसीमन होगा। इसके बाद राज्य निर्वाचन आयोग मतदाता सूची एक जनवरी 2020 की स्थिति में तैयार कराएगा। महापौर और अध्यक्ष पद के लिए आरक्षण 15 फरवरी को होगा। इस हिसाब से तय समय पर चुनाव अब नहीं हो पाएंगे।  आगे पढ़ें

after-the-political-stir-the-governor-approved-the

सियासी हलचल के बाद राज्यपाल ने दी अध्यादेश को मंजूरी, अब पार्षद चुनेंगे महापौर और अध्यक्ष

चार दिन की सियासी हलचल के बाद मंगलवार को राज्यपाल लालजी टंडन ने मप्र नगर पालिक विधि संशोधन अध्यादेश-2019 का अनुमोदन कर दिया। अध्यादेश लागू होने पर नगरीय निकायों में अब करीब 20 साल बाद फिर से जनता के बजाय पार्षद महापौर व अध्यक्ष को चुनेंगे। सरकार का ऐसा मानना है कि महापौर के चुनाव सीधे नहीं होने से करीब 30-35 करोड़ रु. बचेंगे। भोपाल में ही करीब 3 करोड़ रुपए चुनाव में खर्च होने का अनुमान रहता है। उधर, राजनीतिक दलों के खर्चों को भी जोड़ा जाए तो अप्रत्यक्ष तौर पर महापौर के चुनाव में खर्च होने वाली राशि शासकीय खर्च का 5 से 6 गुना होती है। सरकार ने नगरीय निकाय चुनाव से संबंधित दो बिल राज्यपाल की मंजूरी के लिए भेजे थे।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति