होम राहुल गांधी
rahul-gandhi-reached-the-violence-affected-areas-o

दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाकों में पहुंचे राहुल गांधी, कहा- राजधानी में दंगे होते हैं तो दुनिया में भारत की प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचती है

कांग्रेस नेता राहुल गांधी बुधवार को दिल्ली के हिंसा प्रभावित इलाके के दौरे पर पहुंचे। बृजपुरी इलाके में जलाए गए स्कूल को देखने के बाद उन्होंने कहा- हिंसा से किसी का फायदा नहीं। जब देश की राजधानी में हिंसा होती है तो दुनियाभर में भारत की प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचती है। यहां पर न सिर्फ स्कूल जलाया गया है, हमारे देश के भाईचारे और प्यार को जलाया गया है। इस प्रकार की हिंसा से हिन्दुस्तान और भारत माता को नुकसान हुआ है।  आगे पढ़ें

ye-rishta-kya-kahalata-hai

ये रिश्ता क्या कहलाता है..!

दिल्ली दरबार में संजय गांधी से लेकर राहुल गांधी तक किसी ने भी कमलनाथ को कभी गुस्सा नहीं दिलाया। यहां तक कि पंजाब के प्रभारी महासचिव पद से नाथ की बहुत जल्दी हुई रुखसती भी शालीनता के साथ उठाया गया वह कदम था। जिसमें उनके अहं का पूरा-पूरा खयाल रखा गया था। जब तक वह दिल्ली की सियासत में सक्रिय रहे, तब तक मध्यप्रदेश में कांग्रेस की कमान संभालने वाले किसी भी गुट के नेता की हिम्मत नहीं हुई कि कार्यकारिणी में उनके लोगों की उपेक्षा की जाए। किसी भी पदाधिकारी ने यह हिमाकत नहीं करी कि विधानसभा या लोकसभा के टिकट वितरण में उनके खेमे को पर्याप्त प्रतिनिधित्व न मिले। मुख्यमंत्री कोई भी रहा हो, नाथ के विधायक मंत्रिमंडल में सम्माजनक स्थान हमेशा से पाने में सफल रहे। ऐसे में किसी नाराजगी की स्थिति ही कहां बन पायी। read more  आगे पढ़ें

responding-to-the-discussion-on-the-presidents-add

राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए पीएम ने राहुल की तुलना की ट्यूब लाइट से, राहुल ने भी किया पलटवार

संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को राहुल गांधी और कांग्रेस पर कई तंज कसे। भाषण के बीच जब राहुल खड़े होकर कुछ बोलने लगे तो मोदी ने उनकी तुलना 'ट्यूब लाइट' से की। प्रधानमंत्री ने कहा- मैं पिछले 30-40 मिनट से बोल रहा हूं। इन तक (राहुल) करंट पहुंचने में इतना वक्त लग गया। बहुत सी ट्यूब लाइट ऐसी ही होती हैं। इस पर राहुल ने कहा कि मोदी लोगों को असली मुद्दों से भटकाते हैं। वे कांग्रेस और पाकिस्तान की बात करते हैं, लेकिन बेरोजगारी पर एक शब्द नहीं बोलते।  आगे पढ़ें

rahul-said-in-the-election-meeting-modi-ji-is-givi

चुनावी सभा में राहुल ने कहा- मोदी जी आज भाषण दे रहे हैं, 6 महीने बाद घर से बाहर नहीं निकल पाएंगे

दिल्ली चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी ने बुधवार को मटिया महल विधानसभा के हौज काजी इलाके में रैली की। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी आज जो भाषण दे रहे हैं। 6 महीने बाद वे घर से नहीं निकल पाएंगे। हिंदुस्तान का युवा इन्हें ऐसा डंडा मारेंगे, इनको समझा देंगे कि रोजगार दिए बिना देश आगे नहीं बढ़ सकता। राहुल ने कहा- देश में बेरोजगारी दर बीते 45 साल में सबसे ज्यादा है। लेकिन, न तो बजट और न ही राष्ट्रपति के अभिभाषण में इस पर कुछ कहा गया। देश का हर युवा रोजगार मांग रहा है। यही हकीकत है।  आगे पढ़ें

ghar-mein-nahin-hain-dane-aur-amma-chalee

घर में नहीं हैं दाने और अम्मा चली.....

इंदौर में होने जा रहे आईफा-2020 का आउटडोर स्वरूप तो सब के सामने आ ही रहा है। अब इसके इनडोर वाले मायावी पक्ष की चर्चा भी बहुत जरूरी हो गयी है। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इसके जरिये धनपशुओं की विभिन्न प्रजातियों को खुश करने का बंदोबस्त कर दिया है। इनमें आयोजक सहित उनकी पैरवी करने वाली कांग्रेसी एवं सरकारी अफसरान सहज रूप से शामिल हैं। ऐसा करने का महत्वपूर्ण पक्ष है कि नाथ ने राहुल गांधी की नाराजगी को लगभग धता बताते हुए आईफा के तौर पर करोड़ों रुपए फूंकने का पुख्ता बंदोबस्त कर दिया है। वह रुपए, जिनके न होने की दलील देते हुए ही प्रदेश के किसानों का कर्ज माफ करने की गांधी की घोषणा को अमली जामा नहीं पहनाया जा सका है। नाथ सरकार के एक साल पूरे होने के बावजूद ज्यादातर किसान टुकुर-टुकर उस दिन की राह देख रहे हैं, जब सरकार बनने के दस दिन के भीतर कर्ज माफी की घोषणा से वशीभूत होकर उन्होंने कांग्रेस को वोट दिया था। read more  आगे पढ़ें

to-phir-kahe-ke-kamalanath

तो फिर काहे के कमलनाथ

2019 में लोकसभा की करारी हार के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेसाध्यक्ष का पद भले ही जिद करके छोड़ दिया हो लेकिन पर्दे के पीछे से कठपुतलियों की डोर अभी उनके ही हाथ में है। अगर इस समिति पर नजर डालेंगे तो साफ समझ आएगा कि सब कुछ राहुल गांधी के इशारे पर ही हुआ है। समिति में मुख्यमंत्री कमलनाथ और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को छोड़ दिया जाए तो बाकी सब पर राहुल गांधी की छाप साफ नजर आएगी। समिति में पूर्व प्रदेशाध्यक्ष के तौर पर इकलौते अरूण यादव शामिल किए गए। अरूण के कांटेक्ट सीधे सोनिया और राहुल दोनों तक हैं। बाकी कांतिलाल भूरिया और सुरेश पचौरी को इस लायक नहीं समझा गया। जाहिर है एक की नजदीकी केन्द्र में लंबे समय तक मंत्रिपद पर रहने के बाद दिग्विजय सिंह तक सीमित है तो दूसरे की पार्टी के राजनीतिक प्रबंधक अहमद पटेल तक। पर शायद अहमद पटेल सोनिया गांधी के दाएं-बाएं हो लेकिन राहुल से उनका वास्ता बेपटरी ज्यादा है।  आगे पढ़ें

on-caa-nrc-sonia-gandhi-said-pm-and-home-minister-

सीएए-एनआरसी पर सोनिया गांधी ने कहा- पीएम और गृहमंत्री लोगों को कर रहे गुमराह, राहुल गांधी ने भी दी चुनौती

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सीएए-एनआरसी पर सोमवार को विपक्षी पार्टियों की बैठक बुलाई थी, जिसमें 15 दलों के नेता शामिल हुए। हालांकि, बसपा, तृणमूल, आप और शिवसेना इस बैठक में शामिल नहीं हुए। सोनिया ने बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर सीएए-एनआरसी के मुद्दे पर लोगों को गुमराह करने का आरोप लगाया जबकि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री को आर्थिक मुद्दों और बेरोजगारी पर युवाओं से बात करने की चुनौती दी है। सोनिया ने कहा- मोदी और शाह अपने पहले दिए गए बयानों से पलट गए। दोनों भड़काऊ बयान देते रहे। मोदी-शाह ने दोनों ही मुद्दों पर लोगों को गुमराह किया और ये लोग सरकारी दमन और हिंसा को मूकदर्शक बनकर देखते रहे। लोगों की हिफाजत करने में नाकाम रहने पर मोदी-शाह का असली चेहरा उजागर हो गया है।  आगे पढ़ें

mayane-sindhiya-ke-kathan-ke

मायने सिंधिया के कथन के

वैसे कांग्रेस में सिंधिया जैसे कद और विरसे में मिली राजनीति वाले लोगों को बिना मांगे ही सब मिलता रहा है। ये तो लंबी परम्परा है। तो अब कांग्रेस में सिंधिया के समर्थक तथा विरोधियों के बीच इस कथन को लेकर, अश्वत्थामा हत: इति नरो वा कुंजरो वा वाले भ्रम का कुहासा गाढ़ा हो गया है। एक तरह से आप मान सकते हैं कि सिंधिया ने अपनी पीड़ा को अहं के तौर पर सामने रखा है। दूसरी तरह से यह भी माना जा सकता है कि मामला विशिष्ट तरह के मेहमानों का हो सकता है। वे जो किसी के घर में भोजन का निमंत्रण मिलते ही कहते हैं कि यूं तो उनका पेट भरा हुआ है, किंतु मेजबान इतना आग्रह कर रही रहा है तो वे कुछ और भोजन कर सकते हैं।  आगे पढ़ें

bjps-reply-on-rahuls-charge-said-gandhi-became-the

राहुल के आरोप पर भाजपा का जवाब, कहा- गांधी झूठों के सरदार, असम में डिटेंशन सेंटर तब बने, जब राज्य और केन्द्र में कांग्रेस की सरकार थी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने गुरुवार को एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर डिटेंशन सेंटर को लेकर झूठ बोलने का आरोप लगाया। उन्होंने ट्वीट किया- आरएसएस का प्रधानमंत्री भारत माता से झूठ बोलता है। राहुल ने इस ट्वीट के साथ एक वीडियो भी पोस्ट किया जिसमें असम के डिंटेंशन सेंटर का जिक्र किया गया है। इस पर भाजपा ने जवाब दिया कि राहुल झूठों के सरदार हैं। असम में डिटेंशन सेंटर तब बने, जब राज्य और केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी। मोदी ने पिछले दिनों एनआरसी को लेकर डिटेंशन सेंटर बनाए जाने की बात को झूठ कहा था।  आगे पढ़ें

congress-protests-at-rajghat-in-protest-against-ci

नागरिकता कानून के विरोध में कांग्रेस ने राजघाट पर किया प्रदर्शन, राहुल ने मोदी पर बोला हमला

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और नेशनल रजिस्टर आॅफ सिटिजन (एनआरसी) के विरोध में कांग्रेस ने राजघाट पर प्रदर्शन किया। राहुल गांधी ने कहा, नरेंद्र मोदी जी जब आप छात्रों पर गोलियां चलवाते हैं, जब आप उन पर लाठीचार्ज करवाते हैं या जब आप पत्रकारों को धमकाते हैं तो आप देश की आवाज को दबाते हैं। प्रधानमंत्री पर तंज कसते हुए राहुल ने कहा- जब बात कपड़ों की होती है तो पूरा देश आपको ही आपके कपड़ों के कारण जानता है। वह आप ही थे जिन्होंने 2 करोड़ रुपए का सूट पहना था। वह देश के लोगों ने तो नहीं पहना था।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति