होम राजस्थान
manmohan-singh-to-reach-the-rajya-sabha-will-file-

राज्यसभा में पहुंचने मनमोहन सिंह आज भरेंगे नामांकन, सांसद चुनाव जाना तय

पार्टी के विधायकों को एकजुट रखने के साथ ही वे निर्दलीय और बसपा विधायकों से भी संपर्क बनाए हुए हैं। गहलोत ने प्रदेश के सभी कांग्रेसी विधायकों को निर्देश दिए हैं कि सिंह के नामांकन के दौरान सभी विधायक जयपुर में रहें। नामांकन की अंतिम तिथि 14 अगस्त है। उधर, भाजपा ने मंगलवार को प्रदेश पार्टी कार्यालय में विधायक दल की बैठक बुलाई है। इसमें तय होगा कि भाजपा अपना प्रत्याशी उतारेगी या नहीं।  आगे पढ़ें

on-the-question-raised-on-the-descendants-of-lord-

भगवान राम के वंशज पर उठे सवाल पर भाजपा सांसद दीया ने कहा- रायपुर राजघराना है कुश का वंशज

अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय में सुनवाई के दौरान भगवान राम के वंशज के बारे में उठे सवाल पर दीया कुमारी ने कहा, अदालत ने पूछा कि भगवान राम के वंशज कहां है..दुनियाभर में भगवान श्रीराम जी के वंशज हैं। इसमें मैं और मेरा परिवार भी शामिल हैं, हम भगवान श्रीराम के पुत्र कुश के वंशज हैं। उन्होंने कहा, भगवान श्रीराम सबकी आस्था के प्रतीक हैं। राम मंदिर मामले की सुनवाई तेजी से हो और अदालत जल्द अपना फैसला सुनाए, यही हमारी मंशा है। मंदिर जल्द से जल्द बनना चाहिए और इसमें रुकावटें नहीं आनी चाहिए।  आगे पढ़ें

seeing-the-campaign-to-break-the-legislators-congr

विधायकों के टूटने का अभियान देख दूसरे किले बचाने में जुटी कांग्रेस, मप्र और राजस्थान में पार्टी हुई अलर्ट

आपको बता दें कि कमलनाथ सरकार समाजवादी पार्टी, बीएसपी और कुछ निर्दलीयों के समर्थन पर निर्भर है। वहीं, राजस्थान में कांग्रेस सरकार को करीब एक दर्जन निर्दलीय विधायकों ने इस शर्त पर समर्थन दिया है कि अशोक गहलोत ही राज्य के मुख्यमंत्री बने रहें। वैसे, कांग्रेस की स्टेट लीडरशिप अब तक अपनी पार्टी को एकजुट रखने में सफल रही है लेकिन कई नेताओं को लगता है कि आनेवाले दिनों में उनकी चुनौती बढ़ सकती है। कांग्रेस ने यह समझ लिया है कि कर्नाटक और गोवा दोनों राज्यों में उसके विधायकों को जिस अंदाज में तोड़ा जा रहा है, वह पुराने आॅपरेशन लोटस में अपनाए जाने वाले तौर-तरीकों से बहुत आगे की चीज है।  आगे पढ़ें

rain-and-storm-created-religious-program-14-people

वाड़मेर: धार्मिक कार्यक्रम में बारिश और तूफान ने मचाई तबाही, पंडाल गिरने से गई 14 लोगों की जान

दरअसल, बाड़मेर के जसोल गांव में राम कथा चल रही थी और तूफान के कारण आयोजन स्थल पर पंडाल गिर गया। टीवी रिपोर्टों में बताया गया है कि बारिश के दौरान पंडाल गिरने से करंट दौड़ गया, जिससे लोगों की जान चली गई। हालांकि आधिकारिक तौर पर अभी इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी है। बालोतरा के अरढ रतन लाल भार्गव ने बताया कि हादसे में कम से कम 14 लोगों की मौत हो गई और 50 लोग घायल हो गए। उन्होंने बताया कि सैकड़ों की संख्या में लोग इस धार्मिक कार्यक्रम में पहुंचे हुए थे।  आगे पढ़ें

pratapgarhs-shotgun-the-assailants-caught-by-the-v

प्रतापगढ़ में चली गोली, हमलावरों को ग्रामीणों ने पकड़ कर पुलिस को सौपा

रठांजना थाना क्षेत्र के थड़ा में शुक्रवार को बाइक पर आए तीन बदमाशाें ने एक युवक काे गाेली मारने का प्रयास किया। इस दाैरान बीच-बचाव में आए युवक के पिता पर तीन फायर कर दिए, जिसमें से एक गाेली लगने से यह व्यक्ति गंभीर घायल हाे गया। उसे जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया। घटना के दौरान एक हमलावर फरार हो गया, लेकिन माैजूद लाेगाें ने दाे हमलावराें काे पकड़ लिया। इन दोनों की जमकर धुनाई करने के बाद पुलिस को सौंप दिया।  आगे पढ़ें

delhi-scorching-48-hours-due-to-scorching-heat

भीषण गर्मी से झुलसी दिल्ली, पारा 48 के पार, एसी भी हो रहे फेल

गर्मी के चलते जब एसी भी फेल होते दिखें और सड़कों पर निकलना दूभर हो जाए तो क्या करेंगे? ऐसी परिस्थितियों में काम करना मुश्किल होगा। सोमवार को दिल्ली में कुछ ऐसे ही हालात थे, जून के महीने में पहली बार ऐसा हुआ जब पारा 48 डिग्री के पार पहुंच गया। दिल्ली में तापमान दो दशक के उच्चतम स्तर पर था। दिल्ली के साथ-साथ पूरा उत्तर भारत तप रहा है। राजस्थान के चुरू में पारा एक बार फिर 50 के पार जा पहुंचा। यूपी के बुंदेलखंड के बांदा जिले में पारा 49.2 डिग्री सेल्सियस रहा। इस साल हालात काफी खराब हो सकते हैं क्योंकि 'वायु' चक्रवात मॉनसून में बाधा पहुंचा सकता है।  आगे पढ़ें

due-to-the-scorching-heat-the-possibility-of-a-dus

देश के कई राज्यों में जारी रहेगा भीषण गर्मी का दौर, धूल भरी आंधी चलने की आशंका

मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व निदेशक डॉ.डीपी दुबे ने बताया कि इसके पूर्व वर्ष-1995 में भीषण गर्मी पड़ी थी। मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक नौगांव के बाद खजुराहो, रायसेन, दमोह में अधिकतम तापमान 47 डिग्रीसे. रिकार्ड हुआ। वरिष्ठ मौसम विज्ञानी एसके डे ने बताया कि वातावरण में नमी नहीं है, इससे शुष्क हवाएं तापमान में इजाफा कर रही हैं। फिलहाल कोई वेदर सिस्टम सक्रिय नहीं रहने से अभी एक-दो दिन तक गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद नहीं है।  आगे पढ़ें

churu-churned-with-fierce-heat-passing-50-degrees-

भीषण गर्मी से तप रहा चुरू, पारा पहुंचा 50 डिग्री के पार

चुरू की हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में रहने वाले रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी राधे शर्मा ने बताया, 'हमारी मुश्किलों को पावर कट ने और बढ़ा दिया है। बिजली की कटौती 4 बजे से ही शुरू हो जाती है, जब पारा 35 डिग्री के करीब होता है।' आमतौर पर लोग यहां सुबह ही 10 किलो तक बर्फ की खरीददारी कर लेते हैं और उसे अपने वॉटर टैंक और कूलरों में डाल देते हैं ताकि किसी तरह से गर्मी से राहत मिल सके। भीषण गर्मी से चुरू जिले में वॉमिटिंग, डायरिया, लू और स्किन संबंधी बीमारियां बढ़ गई हैं। इसके चलते जिला अस्पताल में मरीजों की भारी भीड़ उमड़ रही है। स्वास्थ्य विभाग ने पूरे जिले को ही हाई अलर्ट पर रखा है और डॉक्टरों की छुट्टियां कैंसल कर दी गई हैं।  आगे पढ़ें

the-crisis-in-mp-karnataka-and-rajasthan-governmen

राहुल के इस्तीफे से बढ़ सकता है मप्र, कर्नाटक और राजस्थान सरकार में संकट

कांग्रेस नेता रजन्ना ने सोमवार को दावा किया कि जी. परमेश्वर प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण तक ही उपमुख्यमंत्री हैं। उसके बाद न वह मंत्री रहेंगे और न ही गठबंधन सरकार रहेगी। रजन्ना ने आरोप लगाया कि तुमकुरु में परमेश्वर के चलते ही गठबंधन प्रत्याशी व पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा को हार का सामना करना पड़ा। परमेश्वर ने तुमकुरु के लिए कुछ नहीं किया। वहीं, खबरों में कहा जा रहा है कि प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने भी दावा किया है कि राज्य सरकार जल्द ही गिर जाएगी। लेकिन सिद्धारमैया ने कहा कि सरकार मजबूत है और उसे कुछ नहीं होने वाला। उन्होंने येदियुरप्पा के गठबंधन के टूटने को लेकर बार-बार किए जा रहे दावे का भी माखौल उड़ाया।  आगे पढ़ें

rajasthan-two-defections-congress-gehlot-anti-farm

राजस्थान: हार के बाद दो खमों में बंटी कांग्रेस, गहलोत विरोधी खेमा सक्रिय, कृषि मंत्री का इस्तीफा

लोकसभा चुनाव में अपने विधानसभा क्षेत्र और खुद के पोलिंग बूथ पर कांग्रेस प्रत्याशी कृष्णा पूनिया की हार की जिम्मेदारी लेते हुए राजस्थान के कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने इस्तीफा दे दिया है। कटारिया ने अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भेज दिया है। इस्तीफे में कटारिया ने लोकसभा चुनाव में हार की जिम्मेदारी स्वीकारने की बात कही है। उल्लेखनीय है कि अपने विधानसभा क्षेत्र झोटवाड़ा और खुद के पोलिंग बूथ पर कांग्रेस प्रत्याशी कृष्णा पूनिया की हार की जिम्मेदारी लेते हुए रविवार रात कांग्रेस नेता ने अपना इस्तीफा सीएम को भेज दिया था। सीएम के निकटस्थ राज्य विधानसभा में सरकारी मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी ने मीडिया से कहा कि जब राहुल गांधी ने हार की जिम्मेदारी ले ली है तो फिर किसी और को जिम्मेदारी लेने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि ना तो सीएम और ना ही किसी मंत्री को इस्तीफा देने की जरूरत है।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति