होम रंजन गोगोई
former-cji-gogoi-nominated-to-rajya-sabha-for-verd

राम मंदिर पर फैसला सुनाने वाले पूर्व सीजेआई गोगोई को राष्ट्रपति ने राज्यसभा के लिए किया नॉमिनेट

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राम मंदिर पर फैसला सुनाने वाले पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई को सोमवार को राज्यसभा के लिए नॉमिनेट किया। वे 13 महीने तक सीजेआई रहे और 17 नवंबर 2019 को रिटायर हुए थे। उन्होंने अयोध्या के रामजन्म भूमि विवाद पर लगातार सुनवाई करके निपटारा किया था। राफेल लड़ाकू विमान की खरीद के मामले में केंद्र सरकार को क्लीन चिट दी थी। इससे पहले पूर्व जस्टिस रंगनाथ मिश्रा भी कांग्रेस से जुड़कर संसद सदस्य बन चुके हैं। वहीं, पूर्व सीजेआई पी.सतशिवम को मोदी सरकार ने केरल का पहला राज्यपाल बनाया था।  आगे पढ़ें

justice-bobde-sworn-in-as-74th-judge-of-supreme-co

सुप्रीम कोर्ट के 74वें न्यायाधीश पद की जस्टिस बोबडे ने ली शपथ, 17 महीने का है कार्यकाल

जस्टिस शरद अरविंद बोबडे ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के 47वें मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ ली। उन्होंने 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की जगह ली। जस्टिस बोबडे का कार्यकाल 17 महीनों का है। वे 23 अप्रैल 2021 में रिटायर होंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें शपथ दिलाई।  आगे पढ़ें

justice-bobde-to-take-oath-as-74th-judge-of-suprem

जस्टिस बोबड़े आज सुप्रीम कोर्ट के 74वें न्यायाधीश पद की लेंगे शपथ

जस्टिस शरद अरविंद बोबडे सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के 47वें मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ लेंगे। वे 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की जगह लेंगे। जस्टिस बोबडे का कार्यकाल 17 महीनों का होगा। वे 23 अप्रैल 2021 में रिटायर होंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उन्हें मुख्य शपथ दिलाएंगे।  आगे पढ़ें

after-the-temple-mosque-in-ayodhya-now-it-is-the-t

अयोध्या में मन्दिर मस्जिद के बाद अब 'राष्ट्र मन्दिर' के निर्माण की बारी

अयोध्या में मंदिर निर्माण जल्द से जल्द प्रारंभ किए जाने के लिए साधु संतों के जमावड़े ने सरकार से कई बात कानून बनाने अथवा अध्यादेश जारी करने की मांग की गई थी। तब भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्पष्ट कहा था कि यह मामला सर्वोच्च न्यायालय में विचाराधीन है और सरकार न्यायालय के फैसले की प्रतीक्षा करेगी। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल की शुरुआत के बाद भी अपने रुख को दोहराया। सर्वोच्च न्यायालय का फैसला आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी भूरी -भूरी प्रशंसा की जानी चाहिए कि उन्होंने देश की जनता, साधु संतों और राजनीतिक दलों को इस फैसले की धैर्य पूर्वक प्रतीक्षा करने के लिए मानसिक रूप से तैयार किया।  आगे पढ़ें

the-supreme-court-granted-relief-to-rahul-gandhi-o

चौकीदार चोर है बयान पर सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी को दी राहत, कहा- आप आगे से सावधान रहिए

सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी के चौकीदार चोर है वाले बयान के खिलाफ दर्ज अवमानना मामले को खत्म कर दिया है। शीर्ष अदालत ने राहुल की माफी स्वीकार करते हुए कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि राहुल ने बिना परखे ऐसा बयान दिया, जिससे लगा कि कोर्ट ने कुछ गलत टिप्पणी की है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा, आप आगे से सावधान रहिए। आपने माफी मांगी है इसलिए आपको हम छोड़ रहे हैं। इस बीच राहुल गांधी ने ट्वीट किया- सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस जोसफ ने राफेल मामले की जांच के लिए बड़ा दरवाजा खोल दिया है। इसे तुरंत शुरू किया जाना चाहिए। एक जॉइंट पार्लियामेंट्री कमेटी का गठन होना चाहिए, जो इस घोटाले की जांच करे।  आगे पढ़ें

chief-justice-gogoi-rafale-deal-can-also-decide-in

सेवानिवृत होने से पहले चार और मामलों में फैसला सुना सकते हैं चीफ जस्टि गोगोई, राफेल डील भी शामिल

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को सेवानिवृत्त होने से पहले चार और महत्वपूर्ण मामलों में फैसला सुना सकते हैं। इसमें राजनीतिक रूप से संवेदनशील राफेल डील से जुड़ा केस भी शामिल है। इससे पहले शनिवार को उनकी अध्यक्षता वाली पीठ ने 134 साल पुराने अयोध्या जमीन विवाद पर ऐतिहासिक फैसला सुनाया था।  आगे पढ़ें

supreme-courts-supreme-judgment-ram-temple-to-be-b

सुप्रीम कोर्ट का सुप्रीम फैसला: विवादित जमीन पर बनेगा राम मंदिर, मुस्लिमों को मस्जिद के लिए जमीन मिले

134 साल पुराने अयोध्या मंदिर-मस्जिद विवाद पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुआई वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने सर्वसम्मति से यह फैसला सुनाया। इसके तहत अयोध्या की 2.77 एकड़ की पूरी विवादित राम मंदिर निर्माण के लिए दे दी। शीर्ष अदालत ने कहा कि मंदिर निर्माण के लिए 3 महीने में ट्रस्ट बने और इसकी योजना तैयार की जाए। चीफ जस्टिस ने मस्जिद बनाने के लिए मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ वैकल्पिक जमीन दिए जाने का फैसला सुनाया, जो कि विवादित जमीन की करीब दोगुना है। चीफ जस्टिस ने कहा कि ढहाया गया ढांचा ही भगवान राम का जन्मस्थान है और हिंदुओं की यह आस्था निर्विवादित है।  आगे पढ़ें

ayodhya-dispute-supreme-court-will-give-verdict-of

अयोध्या विवाद: आज 10.30 बजे सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों की बेंच सुनाएगी सुप्रीम फैसला, 6 राज्यों में स्कूल-कॉलेज बंद

सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की संविधान पीठ शनिवार को अयोध्या विवाद पर अपना फैसला सुनाएगी। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ सुबह 10.30 पर फैसला सुना देगी। 6 अगस्त से 16 अक्टूबर तक 40 दिन तक हिंदू और मुस्लिम पक्षकारों की दलीलें सुनने के बाद पीठ ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। फैसले के मद्देनजर अयोध्या में सुरक्षा बढ़ा दी गई और धारा 144 लागू कर दी गई है। राज्यों को भी अलर्ट भेजा गया है। उत्तर प्रदेश में 3 दिन तक स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे, लेकिन अयोध्या में रामलला के दर्शनों पर कोई पाबंदी नहीं लगाई गई है। मध्य प्रदेश में भी फैसले के मद्देनजर शनिवार को स्कूल-कॉलेज बंद रहेंगे।  आगे पढ़ें

supreme-court-will-hold-final-hearing-in-ayodhya-m

अयोध्या ममाले में सुप्रीम कोर्ट आज करेगा अंतिम सुनवाई, जानिए बेंच के सामने आज क्या-क्या होगा

सालों से चले आ रहे देश के बेहद अहम और पुराने मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में अंतिम सुनवाई हो सकती है। मंगलवार को हिंदू पक्ष की सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय ने के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा था कि हम चाहते हैं इसे सुनवाई करे 40वें दिन पूरा किया जाएगा। अगर ऐसा होता है तो अयोध्य जमीन विवाद मामले में सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई का आज आखिरी दिन होगा। ऐसे में सवाल यह है कि आज अंतिम दिन सर्वोच्च न्यायालय की पांच जजों की बेंच के सामने क्या-क्या होगा। बता दें कि पहले कोर्ट ने सुनवाई खत्म करने के लिए 18 अक्टूबर और फिर बाद में 17 अक्टूबर का वक्त दिया था लेकिन मंगलवार को यह एक दिन और कम हो गई। आईए हम आपको बताते हैं कि आज जो सुनवाई होगी उसमें क्या होने वाला है।  आगे पढ़ें

security-agencies-have-expressed-concern-over-the-

सुरक्षा एजेंसियों ने चीफ जस्टिस की कमजोर सुरक्षा व्यवस्था पर जताई चिंता, पुख्ता इंतजात के निर्देश

चीफ जस्टिस की सुरक्षा से जुड़ी सभी एजेंसियों से उनके काफिले को सुरक्षित पार्किंग उपलब्ध कराने, निकटवर्ती सुरक्षा टीम तैनात करने और नजदीकी सुरक्षा घेरा बनाने के निर्देश दिए गए हैं। दिल्ली पुलिस की तरफ से जारी एजवाइजरी में वर्तमान हालात के मद्देनजर सभी सुरक्षा एजेंसियों को अतिरिक्त सावधानी बरतने को कहा गया है, ताकि महत्वपूर्ण व्यक्तियों की सुरक्षा में कोई चूक न रहे। हाल ही में कुछ ऐसी घटनाएं सामने आई हैं, जब भीड़ में मौजूद लोगों ने चीफ जस्टिस के करीब पहुंचकर उनके साथ सेल्फी लेनी शुरू कर दी थी। इसके बाद सुरक्षा को लेकर यह उच्च स्तरीय बैठक बुलाई गई थी  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति