होम मोदी
vajah-narendr-modi-ke-gusse-ki

वजह नरेंद्र मोदी के गुस्से की

सन 2024 में एक बार फिर सत्ता में वापसी के लिए इस सरकार को जितने सख्त अनुशासन और भारी परिश्रम की दरकार है, वह तब ही संभव हो सकेगा, जब एक-एक सांसद और पार्टी का प्रत्येक पदाधिकारी खुद को अनुशासन एवं नियमों में पूरी तरह आबद्ध कर दे। इसके लिए वैसी ही सख्ती की जरूरत है, जो मोदी ने इस कार्यकाल के आरम्भ से ही दिखाई है। उत्तराखंड के विधायक कुंवर प्रवीण सिंह चैम्पियन को छह साल के लिए पार्टी से निकालना इसी दिशा में एक ऐसा कदम है, जिसका स्वागत किया जाना चाहिए। read more  आगे पढ़ें

in-the-meeting-of-the-parliamentary-party-modi-app

संसदीय दल की बैठक में मोदी ने दिखाई सख्ती, ड्यूटी पर नहीं आने वाले मंत्रियों के मांगे नाम

भारतीय जनता पार्टी की संसदीय दल बैठक मंगलवार को संसद लाइब्रेरी बिल्डिंग में हुई। बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने की। इस दौरान पीएम ने सांसदों से समाज सेवा से जुड़ने के लिए कहा। साथ ही मंत्रियों के काम को लेकर सख्ती भी दिखाई। उन्होंने कहा कि ड्यूटी के बाद भी मंत्रियों के नहीं आने पर विपक्ष शिकायत करता है। उन्होंने ऐसे मंत्रियों के नाम भी मांगे जो ड्यूटी पर नहीं जाते।  आगे पढ़ें

jha-ke-gusse-ki-aisi-taiming

झा के गुस्से की ऐसी टाइमिंग

रामलाल तो वापस संघ में चले गये। रामलाल का भाजपा से संघ में लौटना ही अपने आप में एक बड़ी घटना है। शाह संगठन की बागडोर नड्डा के हाथ सौंपकर गृह मंत्रालय के बिगड़े ग्रह सुधारने में जुट गये हैं। मोदी लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद कांग्रेस मुक्त भारत के सपने को पूरा करने में लग गये हैं। इन सबके बीच किस मुहूर्त में झा ने ऐसा किया है, यह समझ नहीं आ पा रहा। झा पर्याप्त रूप से चतुरसुजान हैं। संबंध एवं संपर्क की ऊष्मा को जिलाये रखने का उनका अपना प्रभावी तरीका है। याददाश्त के धनी हैं। तो ऐसा क्यों नहीं हुआ कि इस तरह की बातें समय रहते ही कह दी गयीं? यदि चंद्रयान-2 के प्रक्षेपण को चंद घंटे पहले यकायक रोका जाना चौंकाता है तो इन मिसाइलनुमा ट्वीट्स के प्रक्षेपण में इतनी देरी भी हैरत में डाल रही है। यदि वाकई संगठन में इतना कुछ गलत हो रहा था, तो झा की यह जिम्मेदारी थी कि उसी समय अपनी बात रखते। वह धाकड़ हैं। पत्रकारिता करते हुए ग्वालियर में बैठकर महल के खिलाफ लिखने तथा कहने का साहस उन्होंने दिखाया था। यदि वह खुलकर पहले ही यह सब कहते तो संभव था कि पार्टी उनकी बात पर विचार कर कुछ सुधारात्मक कदम उठाती। या फिर यह होता कि उन्हें ही उठाकर सुधार देती, लेकिन कुछ न कुछ तो होता ही ना! अब सांप के गुजर जाने के बाद लाठी पीटने का भला क्या औचित्य रह जाता है। read more  आगे पढ़ें

the-proceedings-of-the-lok-sabha-which-started-fro

दोपहर से शुरू हुई लोकसभा की कार्यवाही रात 12 बजे तक चली, 18 साल में पहली बार हुआ ऐसा

विपक्ष के मुताबिक, सरकार आम बजट में रेलवे में सार्वजनिक-निजी साझेदारी (पीपीपी), निगमीकरण और विनिवेश पर जोर देने की आड़ में निजीकरण की ओर ले जा रही है। सरकार की मंशा रेलवे को निजी हाथों में देना है। सरकार को बड़े वादे करने की बजाय रेलवे की वित्तीय स्थिति सुधारना चाहिए। विपक्ष ने एनडीए सरकार पर लोगों को बुलेट ट्रेन जैसे झूठे सपने दिखाने का भी आरोप लगाया।  आगे पढ़ें

kejriwal-soft-towards-pm-is-ready-to-work-with-the

पीएम के प्रति नरम पड़ रहे केजरीवाल, योजनाओं को पूरा करने केन्द्र के साथ मिलकर काम करने को हुए तैयार

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को इस प्रॉजेक्ट के शुरू होने के बाद ट्वीट करके केंद्र सरकार को सहयोग के लिए शुक्रिया कहा। उन्होंने कहा कि मुझे विश्वास है कि हम मिलकर यमुना नदी को जल्द साफ करने में जरूर कामयाब होंगे। इससे पहले केंद्रीय जल मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने भी ट्वीट कर केंद्र और दिल्ली सरकार की इस संयुक्त योजना के बारे में जानकारी दी थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सितंबर 2015 में औपचारिक बैठक हुई थी। पिछले महीने 21 जून को कई साल बाद केजरीवाल और प्रधानमंत्री के बीच बैठक हुई और मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को मोहल्ला क्लिनिक और स्कूलों की विजिट का अनुरोध किया। उस समय भी केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा था कि दिल्ली के विकास के लिए जरूरी है कि दिल्ली सरकार और केंद्र सरकार मिलकर काम करें। उन्होंने कहा था कि दिल्ली सरकार की ओर से प्रधानमंत्री मोदी को पूरे सहयोग का भरोसा दिलाया है।  आगे पढ़ें

pm-modi-reiterated-the-economy-of-5-trillion-in-va

वाराणसी में पीएम मोदी ने 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी का संकल्प दोहराया, कहा- देश अब और इंतजार नहीं कर सकता

पीएम मोदी ने अंग्रेजी कहावत 'साइज आफ द केक मैटर्स' का जिक्र करते हुए कहा कि केक जितना बड़ा होगा, उतना ही लोगों के हिस्से आएगा। इसलिए हमने इकॉनमी के साइज को बढ़ाने का संकल्प लिया है। सीधी से बात है कि परिवार की आमदनी जितनी अधिक होगी, उसी अनुपात में सदस्यों की आय भी अधिक होगी। उन्होंने कहा, 'आज जितने भी विकसित देश हैं, उनमें से ज्यादातर के इतिहास को देखें तो वहां भी एक समय में प्रति व्यक्ति आय बहुत अधिक नहीं होती थी। लेकिन, एक दौर ऐसा आया, जब कुछ ही समय में प्रति व्यक्ति आय ने जबरदस्त छलांग लगाई।  आगे पढ़ें

pm-modi-will-arrive-in-varanasi-in-his-parliamenta

अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे पीएम मोदी, करेंगे भाजपा के राष्ट्रव्यापी सदस्यता अभियान

वाराणसी में प्रधानमंत्री भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रव्यापी सदस्यता अभियान की शुरूआत करेंगे। वह संगठन को नई ऊर्जा देंगे और नए भारत की संकल्पना को लेकर उद्बोधन भी करेंगे। इसके बाद पीएम का काफिला बड़ालालपुर स्थित दीनदयाल हस्तकला संकुल पहुंचेगा जहां वह भाजपा के सदस्यता अभियान की शुरूआत करेंगे। यहां संसदीय क्षेत्र के सभी ग्राम प्रधानों को आमंत्रित किया गया है। यहां भी पीएम का संबोधन होगा।  आगे पढ़ें

ballamar-mla-akash-sent-a-show-cause-notice

बल्लामार विधायक आकाश को भाजपा ने भेजा कारण बताओ नोटिस

दौर से भाजपा के विधायक आकाश विजयवर्गीय को पार्टी ने कारण बताओ नोटिस भेजा है। यह नोटिस इंदौर नगर निगम के कर्मचारियों से दुर्व्यवहार करने और एक अधिकारी को क्रिकेट बैट से पीटने के मामले में भेजा गया है। इससे पहले आकाश के इस कृत्य पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सख्त नाराजगी जताई थी।  आगे पढ़ें

economic-survey-of-the-country-introduced-in-the-p

बजट से एक दिन पहले वित्तमंत्री ने संसद में पेश किया देश का आर्थिक सर्वे

आम बजट से एक दिन पहले आज देश का आर्थिक सर्वे पेश किया गया है। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा संसद में इसे पेश किया गया है। मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का यह पहला आर्थिक सर्वे होगा। बता दें कि अंतरिम बजट 2019 के दौरान आर्थिक सर्वे पेश नहीं किया गया था, क्योंकि इसे पूर्ण बजट के साथ ही पेश किया जाता है।  आगे पढ़ें

kya-kabari-billee-bhagegi

क्या कबरी बिल्ली भागेगी....?

नरेंद्र मोदी का गुस्सा होना जायज था। अपनी पार्टी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के विधायक बेटे आकाश की कारगुजारी पर उन्होंने अप्रसन्नता जतायी। इस विधायक सहित उसके सभी समर्थकों को पार्टी से बाहर करने की बात तक कह दी। मोदी इससे पहले भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पर गुस्साये थे। मामला मोहन दास करमचंद गांधी के हत्यारे नाथुराम गोडसे को देशभक्त बताये जाने का था। मोदी ने कहा कि ऐसे कथन के लिए वह प्रज्ञा को कभी मन से माफ नहीं करेंगे। ऐसा दिखा भी, जिस दिन सभी सांसदों ने मोदी को प्रधानमंत्री बनने की बधाई दी, तब प्रज्ञा ठाकुर की मोदी ने अनदेखी कर दी थी। ताजा मामले में यहीं से एंट्री होती है, भगवती चरण वर्मा के कथानक की। प्रदेश भाजपा की अनुशासन समिति के प्रमुख बाबू सिंह रघुवंशी इंदौर से ही होते हैं शायद इसलिए वे सरकारी बाबू की तरह इन घटनाक्रमों पर जवाब दे रहे हैं।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति