होम मुख्यमंत्री कमलनाथ
shivraj-retaliated-on-former-cm-said-kamal-nath-go

पूर्व सीएम पर शिवराज ने किया पलटवार, कहा- भ्रष्टाचार में डूबी रही कमलनाथ सरकार, गरीबों की सुविधाएं चुन-चुनकर छीन ली थीं, सभी वर्ग परेशान हो गए थे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर आज पलटवार करते हुए कहा कि लगभग डेढ़ वर्ष के कांग्रेस के शासनकाल में राज्य के सभी वर्ग परेशान हो गए और तत्कालीन कमलनाथ सरकार भ्रष्टाचार में डूबी रही। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में जब डेढ़ साल बाद फिर से भाजपा की सरकार बनी, गरीब, किसान और मजदूर का भाग्य उदय हुआ है। वहीं पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने गरीबों की सुविधाएं चुन चुनकर छीन ली थीं और उन्हें दर दर की ठोकरें खाने के लिए मजबूर किया गया।  आगे पढ़ें

there-was-an-end-to-political-upheaval-in-mp-kamal

मप्र में सियासी उठापटक का हुआ अंत: कमलनाथ ने दिया इस्तीफा, भाजपा को जमकर कोसा

मध्य प्रदेश का सियासी ड्रामा 17 दिन पहले शुरू हुआ था। भाजपा और कांग्रेस के बीच जारी खींचतान सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गई थी और शीर्ष अदालत ने शुक्रवार शाम 5 बजे तक फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया था। हालांकि, इससे 4:30 घंटे पहले ही मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इस्तीफा दे दिया। वे शुक्रवार दोपहर 12.30 बजे मीडिया के सामने आए। करीब 25 मिनट बोले। 15 महीने पुरानी अपनी सरकार की 20 उपलब्धियां गिनाईं और 16 बार कहा कि भाजपा को हमारे काम रास नहीं आए। उन्होंने कहा- भाजपा सोचती है कि वह मेरे प्रदेश को हराकर जीत सकती है। वह न मेरे प्रदेश को हरा सकती है और न मेरे हौसले को हरा सकती है।  आगे पढ़ें

dava-ka-vakt-gujara-duaon-kee-hee-jarurat

दवा का वक्त गुजरा, दुआओं की ही जरूरत

महिला शिक्षक और मुख्यमंत्री कमलनाथ में ज्यादा अंतर नजर नहीं आ रहा है। मुख्य सचिव पद पर एम गोपाल रेड्डी की नियुक्ति, राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष के तौर पर शोभा ओझा के नाम की घोषणा। पिछड़ा वर्ग आयोग में जेपी धनोपिया और अनुसूचित जनजाति आयोग में गजेन्द्र सिंह राजूखेड़ी की नियुक्ति। इनके साथ ही नये डीजीपी विवेक जौहरी का कार्यकाल दो साल बढ़ाना। पिछले तीन दिन में कमलनाथ सरकार के ऐसे निर्णय मुझे उस महिला शिक्षक की ही याद दिला रहे हैं। सरकार पर गंभीर संकट आते ही नाथ ना काहू से दोस्ती... वाली छवि को तोड़कर खुद को काम करने वाला बताने में जुट गये हैं। बगैर इस बात का ध्यान रखे कि हाल-फिलहाल उनकी मुख्य ड्यूटी दनादन नियुक्तियां करने की नहीं है। बल्कि उनका प्रमुख कर्तव्य यह है कि बीते डेढ़ साल से सरकार नामक संस्था में पनप चुकी घुन को बाहर निकाला जाए।  आगे पढ़ें

mla-bisahulal-returned-to-bhopal-after-six-days-me

छह दिन बाद भोपाल लौटे विधायक बिसाहूलाल ने सीएम की मुलाकात, कहा- मैं तीर्थ यात्रा पर गया था

बेंगलुरू में बीते छह दिन से जमे तीन कांग्रेसी विधायकों में से एक बिसाहूलाल सिंह रविवार को भोपाल लौट आए। यहां आते ही उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ से मुलाकात की और इसके बाद कहा- मैं तो तीरथ करने गया था। मुझे किसी ने बंधक नहीं बनाया। मैं कांग्रेस में ही रहूंगा। जब मीडिया ने उनसे पूछा कि बेंगलुरू में आपके साथ विधायक हरदीप सिंह डंग और रघुराज कंसाना भी थे? तो बिसाहू चुप्पी साध गए। हालांकि गृह मंत्री बाला बच्चन ने दावा किया कि दोनों से संपर्क में हूं, वे जल्द भोपाल पहुंचेंगे। बिसाहू को बेंगलुरू से लाए मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल से जब मीडिया ने पूछा- बिसाहू बेंगलुरू में कहां मिले। उन्होंने कहा- वहीं मिले।  आगे पढ़ें

chief-minister-approves-budget-of-230-lakh-crore-a

मप्र में गरमाई सियासत के बीच मुख्यमंत्री ने 2.30 लाख करोड़ के बजट का किया अनुमोदन

मध्यप्रदेश में मचे सियासी घमासान के बीच मुख्यमंत्री कमलनाथ ने 2.30 लाख करोड़ के बजट का अनुमोदन किया है। कैबिनेट की बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री ने मंत्रियों से बजट को लेकर सुझाव भी मांगे हैं। इसके अलावा बजट सत्र में प्रस्तुत होने वाले राज्यपाल के अभिभाषण को भी अनुमोदित किया गया। राज्यपाल लालजी टंडन 16 मार्च को विधानसभा में अभिभाषण देंगे।  आगे पढ़ें

cabinet-expansion-formula-can-bring-kamal-nath-to-

सियासी संकट से उबरने कमलनाथ ला सकते हैं मंत्रिमंडल विस्तार का फार्मूला, भाजपा ने अपनाई कर्नाटक की नीति

मप्र में सियासी ड्रामे के बीच संकट से उबरने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ मंत्रिमंडल विस्तार का फार्मूला ला सकते हैं। मौजूदा हालातों में पूरी कमान कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने अपने हाथ में ले ली है। मुख्यमंत्री निवास रणनीति का केंद्र है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, गुलामनबी आजाद और कपिल सिब्बल उन्हें मदद कर रहे हैं। कांग्रेस का फार्मूला भाजपा की तुलना में आसान है, क्योंकि अब भी उसके पास विधायकों की संख्या थोड़ी ज्यादा दिखाई दे रही है। उसका पहला काम अपने विधायकों में विश्वास बनाए रखना है, दूसरी रणनीति भाजपा के लोग तोड़ने की है।  आगे पढ़ें

political-turmoil-is-not-stopping-some-mlas-may-re

नहीं थम रहा सियासी भूचाल, हरदीप सिंह डंग के बाद कुछ विधायक आज भी दे सकते हैं इस्तीफा, कांग्रेस ने भाजपा में की सेंधमारी की कोशिश

एक दिन पहले तक माना जा रहा था कि कमलनाथ सरकार ने डैमेज कंट्रोल कर लिया है, लेकिन गुरुवार को हालात फिर बदल गए। कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग ने विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष के साथ मुख्यमंत्री कमलनाथ को भी भेजा है। सूत्रों के मुताबिक शुक्रवार तक कुछ और विधायक इस्तीफा दे सकते हैं। इनमें विधायक ऐंदल सिंह कंसाना, रघुराज कंसाना, रणवीर जाटव, कमलेश जाटव, बिसाहूलाल सिंह, गोपाल सिंह और विक्रम सिंह नातीराजा के नाम सियासी गलियारों में खासे चर्चा में हैं।  आगे पढ़ें

kamal-nath-said-bjp-has-been-trying-to-establish-t

कमलनाथ ने कहा- भाजपा पिछले कई दिनों से माफियाओं के साथ मिलकर सरकार को अस्थित करने का कर रही प्रयास

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्य में चल रहे सियासी घटनाक्रमों के बीच आज कहा कि भारतीय जनता पार्टी माफियाओं के साथ मिलकर राज्य की कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने का असफल प्रयास पिछले कई दिनों से कर रही है। कमलनाथ ने एक बयान में कहा कि सरकार पिछले कई समय से संगठित भू-माफिया, संगठित अपराध माफिया, नकली दवाओं के व्यापार और अन्य तरह के माफियाओं के खिलाफ लगातार अभियान चला रही है। उन्होंने कहा कि यह सभी माफिया भाजपा के संरक्षण में पिछले 15 साल में पनपे हैं। मध्यप्रदेश की जनता को इन माफियाओं से मुक्त कराने का व प्रदेश को माफिया मुक्त बनाने का अभियान भाजपा को रास नहीं आ रहा हैं। इन माफियाओं के धनबल के दम पर वह साजिश-षड़यंत्र रच कर आलोकतांत्रिक तरीके से सत्ता में आने के मंसूबे पाल रही है।  आगे पढ़ें

on-horse-trading-kamal-nath-said-i-agree-with-digg

हॉर्स ट्रेडिंग पर कमलनाथ ने कहा- मैं दिग्गी के बयान से सहमत, मैं पूछना चाहता हूं कि इतना पैसा आया कहां से

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मध्य प्रदेश में हॉर्स ट्रेडिंग पर कहा कि मैं दिग्विजय सिंह के बयान से पूरी तरह सहमत हूं। भाजपा डरी हुई है, क्योंकि आने वाले दिनों में उनके 15 साल के शासनकाल में हुए घोटालों का खुलासा होने वाला है। विधायक मुझे कह रहे हैं कि हमें पैसा देने की बात की जा रही है। पहले तो मैं पूछता हूं कि इतना पैसा आया कहां से और अगर विधायकों को मुफ्त में पैसा में मिल रहा है तो उन्हें ले लेना चाहिए। मीडिया के सरकार गिरने के सवाल पर नाथ ने कहा कि कोई चिंता की बात नहीं है।  आगे पढ़ें

mp-flags-black-flags-to-cm-for-criticizing-bjp-gov

भाजपा सरकार के 15 साल के कार्यकाल की आलोचना करने पर सीएम को सांसद ने दिखाए काले झंडे, 23 गिरफ्तार

दिल्ली दंगों और भाजपा सरकार के 15 साल के कार्यकाल की आलोचना करने पर सोमवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ को भाजपा सांसद महेंद्र सिंह सोलंकी व अन्य नेताओं ने काले झंडे दिखाए। पुलिस ने सांसद समेत 23 भाजपा नेताओं को धारा 151 (शांति भंग) में गिरफ्तार किया। बाद में मुचलके पर छोड़ दिया। इससे पहले कमलनाथ और सांसद सोलंकी एक मंच पर बैठे थे। जैसे ही मुख्यमंत्री ने भाजपा सरकार के खिलाफ बोलना शुरू किया, सांसद विरोध जताते मंच छोड़कर चले गए थे। सीएम यहां 686 करोड़ के विकास कार्यों का भूमिपूजन, लोकार्पण और कर्जमाफी वितरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। भाषण के बाद सीएम कलेक्टोरेट भवन का लोकार्पण करने जा रहे थे तो छावनी नाके पर सांसद और भाजपा नेताओं ने काले झंडे दिखाए। पुलिस इन नेताओं को एसपी आॅफिस लेकर आई, जहां सांसद समेत अन्य नेता धरने पर बैठ गए।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति