होम मध्यप्रदेश
use-local-as-much-as-possible-to-create-self-suffi

आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाने के लिये यथासंभव लोकल का करें प्रयोग, विशेषज्ञ समूह बनाएं योजना

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि 'आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश' बनाने के लिए यथासंभव 'लोकल' का प्रयोग करें। भारत सरकार के आत्मनिर्भर भारत मिशन को मध्यप्रदेश की स्थानीय परिस्थितियों के अनुरूप चलाया जाए। विशेषज्ञों का समूह बनाए जाकर उनके सुझावों के आधार पर 'आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश' की विस्तृत योजना बनाई जाए। मुख्यमंत्री चौहान आज मंत्रालय में आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश संबंधी बैठक ले रहे थे। बैठक में स्कूल आॅफ गुड गवर्नेंस के महानिदेशक आर.परशुराम, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव मनीष रस्तोगी उपस्थित थे।  आगे पढ़ें

in-the-review-meeting-shivraj-said-farmers-do-not-

समीक्षा बैठक में शिवराज ने कहा- किसान चिंता न करें, उनका पूरा गेहूं खरीदा जाएगा, मप्र में कोरोना रिकवरी रेट 53 फीसदी हुआ

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में बड़ी संख्या में कोरोना के मरीज स्वस्थ होकर घर जा रहे हैं। प्रदेश की कोरोना रिकवरी रेट अब 53 प्रतिशत हो गई है। देश की रिकवरी रेट 41.8 प्रतिशत है। इसी प्रकार मध्यप्रदेश में कोरोना की डबलिंग रेट 21 दिन हो गई है। वहीं देश की कोरोना डबलिंग रेट 15.4 दिन है। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि किसान चिंता न करें उनका पूरा गेहूँ खरीदा जायेगा।  आगे पढ़ें

chief-minister-discussed-with-ministers-looked-int

मुख्यमंत्री ने की मंत्रियों से चर्चा, विभागों की देखीं तैयारियां; कहा- आत्मनिर्भर भारत में होगा मध्यप्रदेश का योगदान

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में मध्यप्रदेश का महत्वपूर्ण योगदान रहेगा। मध्यप्रदेश में कृषि, उद्यानिकी, सहकारिता, मत्स्य पालन, पशुपालन और उद्योग के क्षेत्र में रोजगारमूलक कार्यों के माध्यम से सशक्त अर्थव्यवस्था के लिये अधिकतम प्रयास होंगे। मुख्यमंत्री चौहान आज मंत्रालय में मंत्रिपरिषद के सदस्यों के साथ वित्त मंत्री भारत सरकार के वक्तव्य के बिन्दुओं पर मध्यप्रदेश में विभिन्न विभागों की तैयारियों के संबंध में प्रस्तुतिकरण के पश्चात चर्चा कर रहे थे।  आगे पढ़ें

time-of-three-times-work-spoiled

समय तीन तिगाड़ा, काम बिगाड़ा का

बहनजी बीते समय से राजनीति में असफलताओं से जूझ रही हैं और निकट भविष्य में उनके लिए शुभ-लाभ के पट आसानी से खुलते नहीं दिख रहे। इसलिए मुमकिन है कि ऐसा होने तक वह कांग्रेस के लिए अपने गुस्से का ईंधन जलाये रखें। दूसरी बात यह भी है कि बसपा हो या सपा, ये दोनों दल उत्तरप्रदेश में सिर मार रही प्रियंका और कांग्रेस को किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेंगे। कारण यही है कि आखिर ये दोनों क्षेत्रीय दल पनपे तो कांग्रेस के वोट बैंक में ही सेंध लगाकर है। सवाल यह कि बसपा के इस रौद्र रूप का क्या भाजपा को कोई लाभ मिलेगा? जिन सीटों पर उपचुनाव हैं, वहाँ शिवराज और ज्योतिरादित्य का चेहरा ही मुख्य भूमिका अदा करेगा। चुनाव में मुख्य मुकाबला भी भाजपा तथा कांग्रेस के बीच ही होना तय है।  आगे पढ़ें

number-of-corona-patients-increasing-in-madhya-pra

मध्यप्रदेश में लगातार बढ़ रहा कोरोना मरीजों का आंकड़ा, 24 घंटे में मिले 229 संक्रमित, संख्या पहुंची 5500 के करीब, 258 लोगों की हो चुकी है मौत

मध्यप्रदेश में बीते 24 घंटों के दौरान 229 नए मरीज मिलने के बाद कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 5 हजार 4 सौ 65 तक पहुंच गयी, जबकि इस बीमारी से 6 नई मौत दर्ज किए जाने के बाद इससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 258 हो गयी है। संचनालय स्वास्थ्य सेवाएं द्वारा आज देर शाम यहां जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार इंदौर में सबसे अधिक 72 नए मामले आने के बाद कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2 हजार 6 सौ 37 हो गयी। वहीं दो नई मौतें दर्ज किए जाने के बाद मृतकों का आंकड़ा 101 से बढ़कर 103 हो गया है। इसी प्रकार दूसरे नंबर में बुरहानपुर रहा, जहां 42 नए मामले आने के बाद वहां इससे संक्रमितों की संख्या बढ़कर 194 हो गयी।  आगे पढ़ें

in-a-discussion-with-the-officials-on-the-corona-c

कोरोना संकट पर अधिकारियों से चर्चा में सीएम ने कहा- मास्क के उपयोग, स्वच्छता और सोशल डिस्टेंसिंग पर निरंतर ध्यान देकर वायरस को परास्त करेंगे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के नियंत्रण के प्रयासों में सफलता मिल रही है। प्रदेश में आमजन को शिक्षित करने का कार्य निरंतर चलेगा। मास्क के उपयोग, सोशल डिस्टेंसिंग और स्वच्छता के पालन के प्रति जन जागरूकता बढ़ाने का कार्य निरंतर चलेगा। इससे राज्य में इस वायरस पर शत-प्रतिशत नियंत्रण प्राप्त कर उसे परास्त किया जा सकेगा।कुछ समय इसी स्थितियों में जीना है।  आगे पढ़ें

mp-government-opened-treasury-of-the-poor-transfer

मप्र सरकार ने गरीबों के खोला खजाना, 45 दिनों में 2 करोड़ 94 लाख गरीबों, श्रमिकों और किसानों के खातों में ट्रांसफर किए 16 हजार 489 करोड़

मध्यप्रदेश सरकार ने पिछले 45 दिनों में 2 करोड़ 94 लाख गरीबों, श्रमिकों और किसानों के खातों में 16 हजार 489 करोड़ की राशि ट्रांसफर की है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गरीबों के प्रति संवेदनशीलता और प्रतिबद्धता दिखाते हुए शासन की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत लोगों के खातों में सीधे राशि पहुंचाई। कोरोना संकट के चलते राज्य के कर राजस्व में आई कमी एवं वित्तीय संकट के बावजूद मुख्यमंत्री चौहान ने गरीबों, मजदूरों और किसानों की योजनाओं के लिए सरकार का खजाना खोल दिया।  आगे पढ़ें

why-not-corona-tourism-in-madhya-pradesh

मध्यप्रदेश में कोरोना पर्यटन क्यों नहीं...?

शिवराज की हिमायत नहीं। मुख्यमंत्री खुद न जा पा रहे हों तो मंत्री और आला अफसरों को मजदूरों के सेवा कार्य की निगरानी के लिए भेजना चाहिए। इसके बावजूद शिवराज और उनकी टीम का इस संकटकाल में मौके पर न जाना फिर भी समझ आता है कि वे मंत्रालय से भी निर्देश, आदेश और मॉनिटरिंग कर रहे होंगे। आखिर 8 करोड़ जनता की सेवा की जिम्मेदारी उनके कांधों पर है। इसलिए तमाम सुरक्षा प्रबंधों के बावजूद कोरोना संक्रमण का खतरा उठाना उनके लिए संभव न होगा। लेकिन कमलनाथ और उनकी कांग्रेस की क्या मजबूरी है? विपक्षी दल के नेता और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष होने के नाते वे जा सकते हैं। read more  आगे पढ़ें

shivraj-wrote-to-seven-chief-ministers-for-safe-mo

शिवराज ने प्रवासी श्रमिकों के सुरक्षित आवागमन के लिए सात मुख्यमंत्रियों को लिखा पत्र, कहा- श्रमिकों के पहुंचने का समय पहले बताएं ताकि व्यवस्था न बिगड़ें

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अन्य राज्यों से मध्यप्रदेश से होकर गुजरने वाले श्रमिकों की समय पर जानकारी देने के लिए सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखा है। मुख्यमंत्री चौहान ने महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान, कर्नाटक, तेलंगाना, झारखंड और छत्तीसगढ़ राज्य के मुख्यमंत्रियों को लिखे पत्र में कहा है कि श्रमिकों के आवागमन में व्यवहारिक कठिनाई यह हो रही है कि मध्यप्रदेश को ये पता नहीं चलता है कि अन्य राज्यों से कितने श्रमिक किस माध्यम से किस समय मध्यप्रदेश की सीमा पर आने वाले हैं।  आगे पढ़ें

the-question-of-maharaj-shivraj-alliances-litmus-t

महाराज-शिवराज गठबंधन की अग्निपरीक्षा का सवाल स्क्रीन पर

कांग्रेस के कुछ मतदाता भी सिंधिया के प्रभाव क्षेत्र वाली सीट पर उनके इस कदम का साथ देंगे। तो कुछ उनके विरोध में खड़े दिखाई देंगे। साथ ही भाजपा के कार्यकर्ता भी समर्थन-विरोध के खेमे में बंट जाएंगे और इन 22 सीटों पर परिणाम मिश्रित दिखाई देगा। ऐसे में निर्दलीय विधायकों को साथ मिलाकर और उपचुनाव में विजयी सीटें विजय तिलक लगाकर आधे मन से शिवराज-महाराज गठबंधन पर मुहर लगा देंगे।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति