होम बीजेपी
karnataka-dramas-new-twist-in-politics-rebel-mlas-

कर्नाटक ‘नाटक’ की राजनीति में आया नया मोड़, बागी विधायकों ने खुद को खतरा बताते हुए पुलिस से फिर मांगी सुरक्षा

बताया जा रहा है कि कांग्रेस के महासचिव मल्लिकार्जुन खड़गे और कर्नाटक के डेप्युटी सीएम जी परमेश्वर आज सुबह मुंबई जाकर इन बागी विधायकों से मिलने का प्रयास कर सकते हैं। उनकी कोशिश रहेगी क िबागी विधायकों को मनाकर राज्य सरकार को बचाया जा सके। अपने पत्र में बागी विधायकों ने एक और कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद का भी नाम लिया है। विधायकों ने अपने पत्र में कहा कि उनका गुलाम नबी आजाद या महाराष्ट्र या कर्नाटक के किसी भी कांग्रेस नेता से मिलने का कोई इरादा नहीं है। हमें उनसे गंभीर खतरा है। इससे पहले पार्टी के संकटमोचक डीके शिवकुमार मुंबई गए थे लेकिन विधायकों ने उनसे मिलने से इनकार कर दिया था। उधर, कर्नाटक में कांग्रेस के बागी विधायक एमटीबी नागराज को मनाने की कोशिशें संभवत: नाकाम रहने के बाद वह रविवार को मुंबई रवाना हो गए।  आगे पढ़ें

bjp-may-move-ahead-on-plan-to-rehabilitate-displac

कश्मीर से विस्थापित पंडितों को फिर से बसाने के प्लान पर आगे बढ़ी भाजपा, घाटी में बढ़ सकता है तनाव

इस मुद्दे पर जब गृह मंत्रालय से टिप्पणी मांगी गई तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। बीजेपी को भरोसा है कि वह जम्मू-कश्मीर विधानसभा के आगामी चुनाव को जीत जाएगी। राम माधव ने कहा, 'मुझे पूरा विश्वास है कि जब हम सत्ता में आएंगे तो इस मुद्दे पर फिर आगे बढ़ेंगे और देखेंगे कि इसका क्या हल निकल सकता है।' दूसरी तरफ, कश्मीर पंडित समुदाय के नेता संजय टिकू बीजेपी के इस प्लान से असहमति जाहिर कर रहे हैं। 90 के दशक में अपने खिलाफ हिंसा से जहां ज्यादातर कश्मीरी पंडित घाटी छोड़कर विस्थापन को मजबूर हो गए, वहीं टिकू ने कश्मीर में रहना जारी रखा। उन्होंने कहा कि पंडितों के लिए अलग से कॉलोनियां बनाना और उसके लिए सुरक्षा के बढ़े हुए इंतजाम करना समस्या का वास्तविक हल नहीं है। इससे घाटी में तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिल सकती है। उन्होंने कहा, 'क्या यह मुमकिन है कि किसी पिंजरे के कैदी जैसा जीया जाए....चाहे जितनी भी सुरक्षा हो?'  आगे पढ़ें

pashchim-bangal-maut-ke-bad-bhatapara-mein-badha-t

पश्चिम बंगाल: मौत के बाद भाटपारा में बढ़ा तनाव, भाजपा के तीन सांसद आज करेंगे दौरा

आज शनिवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री एसएस अहलूवालिया के नेतृत्व में बीजेपी का तीन सदस्यीय केंद्रीय प्रतिनिधि मंडल हिंसाग्रस्त भाटपारा का दौरा करेगा। बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बताया, 'हमारे पार्टी नेतृत्व ने बंगाल से हमारे सांसद एसएस अहलूवालिया के नेतृत्व में तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल बनाया है जो शनिवार को भाटपारा का दौरा करेगा। उनके साथ सांसद सत्यपाल सिंह और बी डी राम भी होंगे। राज्य के अन्य नेता साथ में रहेंगे। अहलूवालिया राज्य से सांसद हैं जबकि सत्यपाल सिंह और राम उत्तर प्रदेश और झारखंड से सांसद हैं। प्रतिनिधि मंडल केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को एक रिपोर्ट सौंपेगा।  आगे पढ़ें

pashchim-bangal-bana-jang-ka-maidan-havada-kee-hat

पश्चिम बंगाल बना जंग का मैदान, हावड़ा की हत्या ने टीएमसी के गढ़ में बीजेपी को दी बढ़त

दोलुई के एक रिश्तेदार ने कहा, 'यह निश्चित रूप से राजनीतिक हत्या है। अब से कुछ दिन पहले से टीएमसी का एक स्थानीय नेता जय श्री राम के नारे लगाने के खिलाफ चेतावनी दे रहा था।' उन्होंने कहा, 'रविवार शाम को संतोषी मां की पूजा के बाद भोज दिया गया था। दोलुई की पास में ही साइकल ठीक करने की दुकान है। कार्यक्रम के दौरान उसने शराब पी ली और जय श्री राम के नारे लगाने लगा। क्या यह अपराध है' रिश्तेदार ने कहा, 'हत्या के बाद भी टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने कहा कि उन्हें गांव के कुछ और भी लोगों को देखना है। दोलुई जैसे लोग पहले टीएमसी में थे लेकिन पार्टी में विश्वास खत्म होने के बाद वे बीजेपी में आ गए हैं। इसका मतलब यह नहीं है कि उनकी हत्या की जाय या उन्हें नुकसान पहुंचाया जाए।' सोमवार को सुबह करीब 10.30 बजे दोलुई का शव उसकी दुकान के पीछे एक तालाब के पास खाली में खेत में मिला था।  आगे पढ़ें

bjp-shiv-sena-khemma-excited-with-huge-victory-in-

लोकसभा चुनाव में प्रचंड जीत से उत्साहित भाजपा-शिवसेना खेमा, विस चुनाव में फिर लहरा सकता है भगवा

महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों पर बीजेपी-शिवसेना गंठबंधन और कांग्रेस-राकांपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था। इन चुनावों में बीजेपी ने 23, शिवसेना ने 18, राकांपा ने पांच, कांग्रेस ने एक और एक लोकसभा सीट वंचित बहुजन आघाडी ने जीती। राज्य की 48 लोकसभा सीटों में 288 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र हैं। इस 288 सीटों में बीजेपी-शिवसेना गंठबंधन को 226 और महागठबंधन को 56 सीटों पर बढ़त मिली है, जबकि छह विधानसभा सीटों पर अन्य आगे रहे। मुंबई की बात करें, तो यहां की 36 सीटों में से 31 सीटों पर बीजेपी-शिवसेना गंठबंधन आगे रही, जबकि पांच सीटों पर महागठबंधन व अन्य को बढ़त हासिल हुई है।  आगे पढ़ें

bjps-massive-victory-surprised-political-pundits-c

भाजपा की प्रचंड जीत ने राजनीतिक पंडितों को चौंकाया, चार राज्यों में किया क्लीन स्वीप

गुजरात की बात करें तो यहां बीजेपी का जीत का औसत 1.3 लाख वोट रहा है। राजधानी दिल्ली और उत्तराखंड में बीजेपी ने हर सीट पर कम से कम 2.3 लाख वोट से जीत दर्ज की है। हिमाचल प्रदेश में बीजेपी की जीत सबसे बड़ी रही है, यहां न्यूयनत 3.3 लाख मतों से पार्टी के कैंडिडेट को जीत मिली है। किसी भी पार्टी के जीत के अधिकतम औसत की बात करें तो डीएमके ने 2.8 लाख मतों से जीत दर्ज की है। साफ है कि तमिलनाडु में विधानसभा में भी डीएमके ने अपनी वापसी के संकेत दिए हैं।  आगे पढ़ें

jalandhar-9-people-in-the-family-who-is-crying-aft

जालंधर: परिवार में 9 लोग, लोकसभा चुनाव में 5 वोट मिलने पर रो पड़ा शख्स

17वीं लोकसभा के लिए हुए चुनाव के चौंकाने वाले नतीजे गुरुवार को सामने आए। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को ऐतिहासिक जीत मिली। हालांकि, जालंधर के एक काउंटिंग सेंटर में चर्चा सिर्फ बीजेपी की जीत की नहीं बल्कि एक और शख्स की है। शटर बनाने का बिजनस करने वाले नीतू शटरांवाला गुरुवार को आंसुओं के साथ काउंटिंग सेंटर से बाहर निकले। इसकी वजह सिर्फ चुनावी हार नहीं थी।  आगे पढ़ें

exit-poll-survey-2019-ndas-majority-in-mahipol-upa

एग्जिट पोल सर्वे 2019: महपोल में एनडीए को बहुमत, यूपीए और अन्य पिछड़े

लोकसभा चुनाव के सात चरणों की वोटिंग पूरी होने के साथ ही 542 सीटों पर प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में कैद हो गई है। अंतिम परिमाण तो 23 मई को आएंगे लेकिन विभिन्न एग्जिट पोल के अनुमान बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन के लिए बेहतर दिख रहे हैं। लगभग सभी एग्जिट पोल में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को बहुमत मिलता दिख रहा है जबकि यूपीए और अन्य पिछड़ते नजर आ रहे हैं। आइए जानते हैं किस एग्जिट पोल में किस गठबंधन को कितनी सीटों का अनुमान लगाया गया है। बता दें कि तमिलनाडु के वेल्लौर लोकसभा सीट पर बड़े पैमाने पर कैश मिलने के बाद वहां वोटिंग रद्द हो गई थी।  आगे पढ़ें

communal-polarization-at-the-peak-of-west-bengal-a

पश्चिम बंगाल में चरम पर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण, भगवानों के भी बदल रहे नाम

चुनावों के दौरान कई जगहों पर बीजेपी नेताओं ने कुछ स्थानीय पुजारियों की मदद से बोनबीबी की बोनदेबी के नाम से पूजा की और उनके बारे में बयान दिए। जंगल की देवी कही जाने वाली बोनबीबी को बोनदेबी बताना पूरी तरह से उनकी अंतसार्मुदायिक छवि के विपरीत है। हिंदू ही नहीं बल्कि मुसलमानों की भी समान रूप से बोनबीबी में आस्था मानी जाती रही है।  आगे पढ़ें

sadhvi-apologizes-after-making-a-statement-on-gods

गोडसे पर दिए बयान पर बवाल मचने के बाद साध्वी ने मांगी माफी, भाजपा ने मांगा स्पष्टीकरण

अपने बयान पर सफाई देते हुए साध्वी प्रज्ञा ने कहा, 'मैं रोडशो में थी, भगवा आतंक को जोड़कर मुझसे प्रश्न किया गया, मैंने तत्काल चलते-चलते उत्तर दिया। मेरी भावना किसी को कष्ट पहुंचाने की नहीं थी। किसी भावनाओं को कष्ट पहुंचा है तो मैं माफी मांगती हूं। गांधी जी ने देश के लिए जो भी किया है उसे भुलाया नहीं जा सकता है। मैं उनका बहुत सम्मान करती हूं। इस बयान को मीडिया ने तोड़-मरोड़कर पेश किया है। मैं पार्टी का अनुशासन मानने वाली कार्यकर्ता हूं। जो पार्टी की लाइन है वही मेरी लाइन है।'  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति