होम बहुमत परीक्षण
karnataka-crisis-political-uproar-may-be-among-the

कर्नाटक संकट: राजनीतिक उठापटक के बीच आज हो सकता है शक्ति परीक्षण, बागी विधायकों ने स्पीकर से मांगा समय

राज्य विधानसभा में आज शाम तक बहुमत परीक्षण हो सकता है। सोमवार आधी रात तक चली कार्यवाही के बाद मतदान कराए बगैर ही विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश ने कार्यवाही स्थगित करने की घोषणा कर दी। अब आज फिर से विश्वास मत पर बहस जारी रहेगी। विधानसभा अध्यक्ष ने सदन में कार्यवाही शुरू होने से पहले सरकार को सोमवार को हर हाल में विश्वास मत की प्रक्रिया पूरी करने की प्रतिबद्धता की याद दिलाई, लेकिन उसका कोई परिणाम नहीं निकला। कांग्रेस ने जोर दिया कि बागी विधायकों के इस्तीफे पर फैसला लिए जाने तक मतदान नहीं कराया जाए। विधानसभा अध्यक्ष ने बागी विधायकों से मंगलवार को 11 बजे उनके कार्यालय में मिलने के लिए बुलाया था। हालांकि, बागी विधायकों ने इसके लिए 4 हफ्ते का वक्त मांगा है।  आगे पढ़ें

karnataka-crisis-bjp-and-coalition-strength-majori

कर्नाटक संकट: भाजपा और गठबंधन ने झोंकी ताकत, बहुमत परीक्षण हुआ तो आज गिर जाएगी सरकार

कर्नाटक में राजनीतिक संकट जारी है और बहुमत परीक्षण से पहले कांग्रेस-जेडी(एस) और भारतीय जनता पार्टी कैंप पूरी ताकत झोंक रहे हैं। सत्ताधारी गठबंधन जहां नाराज विधायकों को मनाने की कोशिश तक कर चुका है, वहीं बीजेपी के नेता बिल्कुल आश्वस्त नजर आ रहे हैं कि बहुमत परीक्षण होता है तो कांग्रेस-जेडी(एस) सरकार गिर जाएगी। विधानसभा में सोमवार को बहुमत परीक्षण होने की संभावना भी है।  आगे पढ़ें

two-days-after-karnataka-the-power-test-will-be-do

कर्नाटक में अब दो दिन बाद होगा शक्ति परीक्षण, भाजपा ने कहा- स्वामी सरकार का आखिरी दिन होगा सोमवार

इससे पहले दोपहर में राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर शाम छह बजे तक बहुमत साबित करने का निर्देश दिया था। सदन में विश्वास प्रस्ताव पर मतदान शुक्रवार को ही कराने को लेकर भाजपा -कांग्रेस विधायकों में जमकर बहस हुई। भाजपा विधायकों ने मामले को लंबा खींचने पर सवाल उठाते हुए कहा कि इससे विश्वास प्रस्ताव की शुचिता प्रभावित होगी। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बीएस येद्दयुरप्पा ने स्पीकर से यहां तक कहा, स्पीकर सर, हम आपका आदर करते हैं। राज्यपाल के आखिरी पत्र में कहा गया है कि विश्वास मत शुक्रवार को साबित होना चाहिए। हमारे विधायक देर रात तक शांति से बैठे हैं। इसमें जितना वक्त लगे, हमें देना चाहिए। इससे हम राज्यपाल के आदेश का मान भी रख पाएंगे।'  आगे पढ़ें

Previous 1 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति