होम जमीन
bjps-big-bet-in-bengal-before-assembly-elections-p

विधानसभा चुनाव से पहले बंगाल में भाजपा का बड़ा दांव,22 अक्टूबर को 10 दुर्गा पंडालों में पीएम मोदी का लाइव होगा संबोधन

पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। यह चुनाव भाजपा के लिए काफी अहम हैं। इसके लिए पार्टी कड़ी मेहनत भी कर रही है। भाजपा बंगाल में अपनी राजनीतिक जमीन की तलाश कर रही है। ऐसे में इस साल दुर्गा पूजा चुनावी मैदान में तब्दील होती लग रही है।  आगे पढ़ें

corruption-wreaked-havoc-from-corona-in-jabalpur-c

जबलपुर में कोरोना से बरपाया कहर: श्मशान घाट में दाह संस्कार के लिए नहीं मिल रहा प्लेटफार्म, परिजन जमीन पर चिता बनाकर रहे अंतिम संस्कार

जबलपुर के रानी ताल श्मशान घाट में दाह संस्कार के लिए प्लेटफार्म नहीं मिला तो परिजनों ने शव को जमीन पर चिता बनाकर अंतिम संस्कार कर दिया। प्रशासन का कहना है कि चार श्मशानों में अब हर दिन औसत से तीन गुना शव आ रहे हैं। इनमें सामान्य मौतें और कोविड संक्रमित भी शामिल हैं। जमीन पर शव के अंतिम संस्कार का वीडियो हुआ वायरल हो गया है। शहर के मुक्तिधामों में जगह कम पड़ने लगी है।  आगे पढ़ें

lokayukta-raids-on-three-locations-of-badnagar-cmo

बड़नगर सीएमओ के तीन ठिकानों पर लोकायुक्त का छापा, करोड़ों की काली कमाई का हुआ खुलासा, लाखों रुपए कैश बरामद

लोकायुक्त उज्जैन ने मंगलवार को बड़ी कार्रवाई की। यहां बड़नगर सीएमओ (मुख्य नगर पालिका अधिकारी) के घर दबिश देकर करोड़ों की काली कमाई का खुलासा हुआ। टीम ने सुबह सीएमओ के तीन ठिकानों उज्जैन, बड़नगर और माकड़ौन में एक साथ दबिश दी। शुरूआती जांच में करीब 3 करोड़ की कमाई की बात सामने आई है। सीएमओ के घर से करीब 4 लाख नकद, लाखों के सोने-चांदी के जेवर, दो आलीशान मकान, जमीन, एक निमार्णाधीन होटल, परिवार में 40 बैंक खाते समेत अन्य प्रॉपर्टी मिली है।  आगे पढ़ें

lokayukta-raids-on-three-locations-of-badnagar-cmo

बड़नगर सीएमओ के तीन ठिकानों पर लोकायुक्त का छापा, करोड़ों की काली कमाई का हुआ खुलासा, लाखों रुपए कैश बरामद

लोकायुक्त उज्जैन ने मंगलवार को बड़ी कार्रवाई की। यहां बड़नगर सीएमओ (मुख्य नगर पालिका अधिकारी) के घर दबिश देकर करोड़ों की काली कमाई का खुलासा हुआ। टीम ने सुबह सीएमओ के तीन ठिकानों उज्जैन, बड़नगर और माकड़ौन में एक साथ दबिश दी। शुरूआती जांच में करीब 3 करोड़ की कमाई की बात सामने आई है। सीएमओ के घर से करीब 4 लाख नकद, लाखों के सोने-चांदी के जेवर, दो आलीशान मकान, जमीन, एक निमार्णाधीन होटल, परिवार में 40 बैंक खाते समेत अन्य प्रॉपर्टी मिली है।  आगे पढ़ें

way-clear-for-expressway-project-to-be-built-on-th

चंबल नदी के किनारे बनने वाले एक्सप्रेस-वे प्रोजेक्ट का रास्ता साफ, प्रदेश सरकार देगी गिट्टी-मुरम

चंबल नदी के किनारे बनने वाले एक्सप्रेस-वे प्रोजेक्ट का रास्ता साफ हो गया है। केंद्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी चाहते थे कि राज्य सरकार ही 100% जमीन अधिग्रहण करके दे, इस पर मप्र सरकार राजी हो गई है। अब जल्द ही यह मामला कैबिनेट में रखा जाएगा। भारत माला प्रोजेक्ट के तहत 3 हजार 970 करोड़ रुपए में बनने वाला 283.3 किमी लंबा यह एक्सप्रेस-वे मप्र के गडोरा (मुरैना) से शुरू होकर राजस्थान के कोटा तक जाएगा। इसी को लेकर गुरुवार को मुख्य सचिव एसआर मोहंती की पीडब्ल्यूडी, उद्योग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अफसरों संग बैठक हुई।  आगे पढ़ें

supreme-court-hearing-18-reconsideration-petitions

अयोध्या मामले पर दायर 18 पुनर्विचार याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने की सुनवाई, सभी को किया खारिज

अयोध्या जमीन विवाद मामले में शीर्ष अदालत के फैसले को लेकर दायर 18 पुनर्विचार याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को सुनवाई हुई। चीफ जस्टिस एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली 5 जजों की संविधान पीठ ने तमाम याचिकाओं को खारिज कर दिया। चार अन्य जजों में जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस एसए नजीर, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस संजीव खन्ना शामिल थे। सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर को विवादित 2.7 एकड़ जमीन पर ट्रस्ट के जरिए मंदिर और मुस्लिम पक्ष को मस्जिद निर्माण के लिए अयोध्या में ही 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया था। इस फैसले पर पुनर्विचार के लिए 18 याचिकाएं दायर की गई थीं, जिसमें से अधिकतर याचिकाएं फैसले से असंतुष्ट मुस्लिम पक्षकारों की थीं।  आगे पढ़ें

in-2010-on-the-ayodhya-dispute-the-judges-said-thi

अयोध्या विवाद पर 2010 में जजों ने कहा था- यह जमीन का छोटा सा टुकड़ा है, जहां देवदूत भी पैर रखने से डरते हैं

30 सितंबर 2010। यही वह दिन था, जब अयोध्या विवाद पर पहली बार कोई बड़ा अदालती फैसला आया था। इलाहाबाद हाईकोर्ट की तीन जजों की बेंच ने अयोध्या की 2.77 एकड़ विवादित जमीन को तीन बराबर हिस्सों में मुस्लिमों, रामलला और निमोर्ही अखाड़े में बराबर बांट दिया था। इसी फैसले को बाद में सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई थी। इलाहाबाद हाईकोर्ट का यह फैसला सुनाने वाले जस्टिस एसयू खान ने 285 पेज के अपने फैसले में टिप्पणी की थी, यह जमीन का छोटा-सा टुकड़ा है, जहां देवदूत भी पैर रखने से डरते हैं। हम वह फैसला दे रहे हैं, जिसके लिए पूरा देश सांस थामें बैठा है।  आगे पढ़ें

supreme-court-will-hold-final-hearing-in-ayodhya-m

अयोध्या ममाले में सुप्रीम कोर्ट आज करेगा अंतिम सुनवाई, जानिए बेंच के सामने आज क्या-क्या होगा

सालों से चले आ रहे देश के बेहद अहम और पुराने मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में अंतिम सुनवाई हो सकती है। मंगलवार को हिंदू पक्ष की सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय ने के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा था कि हम चाहते हैं इसे सुनवाई करे 40वें दिन पूरा किया जाएगा। अगर ऐसा होता है तो अयोध्य जमीन विवाद मामले में सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई का आज आखिरी दिन होगा। ऐसे में सवाल यह है कि आज अंतिम दिन सर्वोच्च न्यायालय की पांच जजों की बेंच के सामने क्या-क्या होगा। बता दें कि पहले कोर्ट ने सुनवाई खत्म करने के लिए 18 अक्टूबर और फिर बाद में 17 अक्टूबर का वक्त दिया था लेकिन मंगलवार को यह एक दिन और कम हो गई। आईए हम आपको बताते हैं कि आज जो सुनवाई होगी उसमें क्या होने वाला है।  आगे पढ़ें

ashta-will-become-hub-of-artificial-intelligence-i

मध्यप्रदेश का आष्टा बनेगा आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का हब, नार्वे की कंपनी काम को देगी अंजाम

प्रदेश में औद्योगिक निवेश को आकर्षित करने के लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ नए-नए क्षेत्रों में काम करने की रणनीति पर चल रहे हैं। उन्होंने मुंबई में उद्योगपतियों के साथ गोलमेज सम्मेलन के दौरान साफ कर दिया था कि वे मध्यप्रदेश को देश में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का हब बनाना चाहते हैं। इसके लिए निवेशकतार्ओं को हर जरूरी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी।  आगे पढ़ें

tomar-reached-mahagala-to-see-diggi-said-unsuccess

महाकाल के दर्शन के लिए पहुंचे तोमर ने दिग्गी पर कसा तंज, कहा- खोई जमीन वापस पाने कर रहे असफल कोशिश

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर बुधवार सुहब करीब 10 बजे बाबा महाकाल के दर्शन को मंदिर पहुंचे। हालांकि नए नियम के अनुसार वीआईपी दर्शन सुबह 7. 45 से 9. 45 तक और दोपहर 2 से 4 बजे तक होंगे। चूंकि तोमर इस समय में नहीं पहुंचे इसलिए मंदिर के नियमों का पालन करते हुए उन्होंने समर्थक और स्थानीय भाजपा नेता के साथ बिना प्रोटोकॉल लिए आमजन की तरह लाइन में लग कर दर्शन किए। तोमर ने कहा कि बाबा महाकाल का मंदिर सबका है। इसलिए सरकार और आमजन को बाबा के ठीक से दर्शन होना चाहिए। मैंने बाबा से सदमार्ग पर चलने की प्रेरणा और ताकद दें।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति