होम कांग्रेस
karnataka-crisis-supreme-court-hearing-on-petition

कर्नाटक संकट: बागी विधायकों और स्पीकर की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने पूरी की सुनवाई, कल आएगा फैसला

स्पीकर की तरफ से दलील रखते हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, 'अयोग्यता और इस्तीफा पर फैसले का अधिकार स्पीकर का है। जबतक स्पीकर अपना फैसला नहीं दे देते तब तक सुप्रीम कोर्ट उसमें दखल नहीं दे सकता।' कुछ ऐसी ही दलील सीएम एचडी कुमारस्वामी की तरफ से राजीव धवन ने भी रखी। कर्नाटक के सियासी संग्राम और गुरुवार को होने वाले बहुमत परीक्षण से पहले सुप्रीम कोर्ट में कानूनी दांवपेच का दौर जारी रहा। मंगलवार को कोर्ट में बागी विधायकों की अर्जी पर सुनवाई हुई।  आगे पढ़ें

responding-to-mlas-statement-on-the-statement-of-t

मंत्री के बयान पर विधायक शर्मा का जवाब, कहा- हम कुत्ते हैं लेकिन प्रदेश की जनता के वफादार हैं

हाल ही में गृह विभाग में तैनात खोजी कुत्तों का तबादला किया गया था, जिसको लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं ने कांग्रेस सरकार पर तंज कसा था। इसके बाद कांग्रेस सरकार में सज्जन सिंह वर्मा ने बीजेपी की मानसकिता की तुलना कुत्तों से की थी। अब इसी का जवाब देते हुए बीजेपी नेता ने कहा है कि हां हम कुत्ते हैं। सज्जन सिंह वर्मा के बयान का जवाब देते हुए बीजेपी विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा है, 'अगर सज्जन सिंह वर्मा हमें कुत्ता कह रहे हैं तो हम उन्हें कहना चाहते हैं कि हां हम कुत्ते हैं। हम मध्य प्रदेश की जनता के वफादार कुत्ते हैं।  आगे पढ़ें

karnataka-dramas-new-twist-in-politics-rebel-mlas-

कर्नाटक ‘नाटक’ की राजनीति में आया नया मोड़, बागी विधायकों ने खुद को खतरा बताते हुए पुलिस से फिर मांगी सुरक्षा

बताया जा रहा है कि कांग्रेस के महासचिव मल्लिकार्जुन खड़गे और कर्नाटक के डेप्युटी सीएम जी परमेश्वर आज सुबह मुंबई जाकर इन बागी विधायकों से मिलने का प्रयास कर सकते हैं। उनकी कोशिश रहेगी क िबागी विधायकों को मनाकर राज्य सरकार को बचाया जा सके। अपने पत्र में बागी विधायकों ने एक और कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद का भी नाम लिया है। विधायकों ने अपने पत्र में कहा कि उनका गुलाम नबी आजाद या महाराष्ट्र या कर्नाटक के किसी भी कांग्रेस नेता से मिलने का कोई इरादा नहीं है। हमें उनसे गंभीर खतरा है। इससे पहले पार्टी के संकटमोचक डीके शिवकुमार मुंबई गए थे लेकिन विधायकों ने उनसे मिलने से इनकार कर दिया था। उधर, कर्नाटक में कांग्रेस के बागी विधायक एमटीबी नागराज को मनाने की कोशिशें संभवत: नाकाम रहने के बाद वह रविवार को मुंबई रवाना हो गए।  आगे पढ़ें

yaksh-prashnon-mein-ulajhe-rahul-gandhi

यक्ष प्रश्नों में उलझे राहुल गांधी

जिस पार्टी में भ्रम का कुहासा इतना गाढ़ा हो जाए, वहां कुछ लोगों का इस अंधेरे में लड़खड़ाकर इधर से उधर हो जाना स्वाभाविक बात है। नेतृत्व की कमजोरी को देखकर सिद्दारमैया ने कर्नाटक में जो दांव खेला, उसका नतीजा यह हुआ कि पूरी की पूरी सरकार खतरे में आ गयी। यदि इस समय कांग्रेस में वाकई अध्यक्ष नामक संस्था का सही में अस्तित्व होता तो यह संभव ही नहीं था कि कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री ऐसी कारगुजारी को अंजाम दे पाते। गोवा में कांग्रेस से अलग होकर नया गुट बनाने की घोषणा करने वाले विधायकों को रोकने के लिए पार्टी के पास कम से कम बीस घंटे का मौका था। लेकिन सारे के सारे महारथी दिल्ली दरबार के लिए सियापा करने में मसरूफ रहे और गुट के आकार लेने से पहले ही इस तटीय राज्य के दस विधायकों को भाजपा ने अपनी शरण में ले लिया। read more  आगे पढ़ें

karnataka-crisis-rebel-mla-persisted-on-his-stance

कर्नाटक संकट: बागी विधायक अपने रुख पर कायम, विपक्ष में बैठने स्पीकर से मांगी सीट

पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने भरोसा जताया कि कांग्रेस-जदएस गठबंधन सरकार विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लेगी। उन्होंने कहा, "हमें भरोसा है इसीलिए हम विश्वास प्रस्ताव पेश कर रहे हैं। भाजपा भयभीत है क्योंकि वह जानती है कि उनकी पार्टी में कई ब्लैक शीप हैं।" विधानसभा में भाजपा की रणनीति के बारे में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येद्दयुरप्पा ने कहा कि इसका फैसला विश्वास प्रस्ताव पेश किए जाने के दौरान मुख्यमंत्री के भाषण के आधार पर किया जाएगा।  आगे पढ़ें

the-chief-of-the-karnataka-government-surrounded-b

संकट में घिरी कर्नाटक सरकार के मुखिया ने कहा- हम बहुमत में हैं, शक्ति परीक्षण के लिए भी तैयार हैं

कांग्रेस-जदएस गठबंधन के 16 विधायकों के इस्तीफों से संकट में घिरी कर्नाटक सरकार के मुखिया एचडी कुमारस्वामी ने शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार को विधानसभा में बहुमत प्राप्त है और वह विश्वास मत का सामना करने के लिए तैयार हैं। वहीं कांग्रेस नेता और उपमुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने भी दावा किया कि उनकी सरकार विश्वास मत हासिल कर लेगी। शुक्रवार को विधानसभा का 10 दिवसीय मानसून सत्र शुरू होने के बाद मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने भाजपा को चौंकाते हुए स्पीकर केआर रमेश कुमार से कहा, "मैं यह साबित करने के लिए विश्वास मत का सामना करने के लिए तैयार हूं कि मेरी सरकार को बहुमत प्राप्त है। मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि सदन में प्रस्ताव पेश करने के लिए आप तारीख और समय तय कर दें।"  आगे पढ़ें

the-proceedings-of-the-lok-sabha-which-started-fro

दोपहर से शुरू हुई लोकसभा की कार्यवाही रात 12 बजे तक चली, 18 साल में पहली बार हुआ ऐसा

विपक्ष के मुताबिक, सरकार आम बजट में रेलवे में सार्वजनिक-निजी साझेदारी (पीपीपी), निगमीकरण और विनिवेश पर जोर देने की आड़ में निजीकरण की ओर ले जा रही है। सरकार की मंशा रेलवे को निजी हाथों में देना है। सरकार को बड़े वादे करने की बजाय रेलवे की वित्तीय स्थिति सुधारना चाहिए। विपक्ष ने एनडीए सरकार पर लोगों को बुलेट ट्रेन जैसे झूठे सपने दिखाने का भी आरोप लगाया।  आगे पढ़ें

seeing-the-campaign-to-break-the-legislators-congr

विधायकों के टूटने का अभियान देख दूसरे किले बचाने में जुटी कांग्रेस, मप्र और राजस्थान में पार्टी हुई अलर्ट

आपको बता दें कि कमलनाथ सरकार समाजवादी पार्टी, बीएसपी और कुछ निर्दलीयों के समर्थन पर निर्भर है। वहीं, राजस्थान में कांग्रेस सरकार को करीब एक दर्जन निर्दलीय विधायकों ने इस शर्त पर समर्थन दिया है कि अशोक गहलोत ही राज्य के मुख्यमंत्री बने रहें। वैसे, कांग्रेस की स्टेट लीडरशिप अब तक अपनी पार्टी को एकजुट रखने में सफल रही है लेकिन कई नेताओं को लगता है कि आनेवाले दिनों में उनकी चुनौती बढ़ सकती है। कांग्रेस ने यह समझ लिया है कि कर्नाटक और गोवा दोनों राज्यों में उसके विधायकों को जिस अंदाज में तोड़ा जा रहा है, वह पुराने आॅपरेशन लोटस में अपनाए जाने वाले तौर-तरीकों से बहुत आगे की चीज है।  आगे पढ़ें

if-the-resignation-of-16-mlas-is-accepted-then-min

16 विधायकों का इस्तीफा स्वीकार हुआ तो अल्पमत में होगी स्वामी सरकार, भाजपा को मिल जाएगा मौका

कर्नाटक विधानसभा में कुल 224 सीटें हैं। जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार को बागी विधायकों को मिलाकर कुल 116 का समर्थन हासिल था। 2 निर्दलीय विधायकों ने सरकार से समर्थन वापस ले लिया है और वे बीजेपी के पाले में चले गए हैं। अगर 16 बागी विधायकों का इस्तीफा स्वीकार हुआ तो विधानसभा की स्ट्रेंथ 208 रह जाएगी और ऐसे में बहुमत का आंकड़ा 105 का हो जाएगा। ऐसे में कुमारस्वामी सरकार को सिर्फ 100 विधायकों का समर्थन ही रह जाएगा और वह अल्पमत में आ जाएगी। इस्तीफे स्वीकार हुए तो 105 विधायकों वाली बीजेपी अपने दम पर ही सरकार बना लेगी। 2 निर्दलीय विधायक भी उसके साथ हैं।  आगे पढ़ें

scindia-expressed-concern-over-the-crisis-in-the-c

कांग्रेस में अध्यक्ष को लेकर गहराए संकट पर सिंधिया ने जताई चिंता, कहा-ऐसी स्थिति संगठन में कभी नहीं दिखी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस में अध्यक्ष पद को लेकर गहराए संकट पर चिंता जताई है। उन्होंने पत्रकारों से चर्चा में कहा कि सात सप्ताह हो चुके हैं लेकिन अध्यक्ष नहीं है। ऐसी स्थिति कांग्रेस संगठन में कभी नहीं दिखी। सिंधिया ने कहा कि पार्टी में अध्यक्ष के रूप में ऐसी शख्सियत को मौका दिया जाना चाहिए जो कांग्रेस में नई ऊर्जा पैदा कर सके। पार्टी का नया अध्यक्ष कौन होगा, इस सवाल पर उन्होंने कहा कि पार्टी संयुक्त रूप से निर्णय लेती है। मेरा कहना है कि निर्णय जल्द हो। नए अध्यक्ष का निर्णय जल्दी और संयुक्त रूप से होना चाहिए।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10  ... Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति