होम एयर स्ट्राइक
indian-army-will-deploy-air-defense-unit-in-border

एयर डिफेंस यूनिट को सीमा में तैनात करेगी भारतीय सेना, पाकिस्तान का बढ़ेगा खौफ

आईएएफ की एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने पीओके के समीप सीमा पर अपनी सेना की आमद बढ़ा दी। हालांकि, कुछ समय बाद उसने इस तैनाती में कटौती की लेकिन अभी भी 124 आर्मर्ड ब्रिगेड, 125 आर्मर्ड ब्रिगेड और 8 और 15 डिवीजन की सीमा से वापसी नहीं हुई है। पाकिस्तानी सेना के ये दस्ते अभी भी वहां मौजूद हैं। हमारे सहयोगी टाइम्स नाउ चैनल की रिपोर्ट के मुताबिक, इस इलाके में पाकिस्तानी सेना की 30 कोर की मदद के लिए वहां एक स्वतंत्र रूप से आर्मर्ड ब्रिगेड मौजूद है। रिपोर्ट में सराकारी सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि पाकिस्तान ने सीमा पर सैन्य टुकड़ियों की जो आक्रामक संरचना तैयार की है, इसमें उसकी मदद उसकी थल सेना ने की होगी।  आगे पढ़ें

if-you-like-luck-like-modi

किस्मत हो तो मोदी के जैसी, वरना...

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद चुनाव का रुख तेजी से बदला था। अयोध्या का मुद्दा वैसे ही एक कोने में चला गया, जैसे भगवान राम वहां किसी कोने में टेंट के अंदर बैठे रह गये हैं। उसके बाद एयर स्ट्राइक कर मोदी ने इस मसले का सियासी लाभ लेने में कोई चूक नहीं की। पलक झपकते ही मामला राष्ट्रवाद बनाम मोदी-विरोधी दलों वाला हो गया। कांग्रेस सहित शेष मोदी-विरोधी दलों ने पुलवामा का सरकार के हित में प्रयोग होने से रोकने के लिए पूरी ताकत लगा दी। लेकिन हुआ केवल यह कि मसूद का मामला इन दलों के लिए और बड़ी कमजोरी का कारण बन गया। अब विरोध के चरम पर जाएं तो एक और नयी मूर्खता देखने मिल सकती है। वह यह कि कोई दल इस बात का ही सबूत न मांग ले कि किस आधार पर अजहर को आतंकवादी कहा जा रहा है। ऐसा होना चौंकाएगा नहीं। जिस देश में हाफिज सईद को, साहब और ओसामा बिन लादेन को, जी कहने वाले दिग्विजय सिंह राष्ट्रवाद पर चिंता तथा चिंतन कर सकते हैं, उसी देश में बिहार के मुख्यमंत्री रहे जीतनराम मांझी ने कल ही मसूद अजहर को साहब का खिताब प्रदान किया है। जब एक वर्ग विशेष से अपने राजनीतिक हित साधने के लिए आतंकियों को भी महिमा मंडित किया जा रहा हो, तो राष्ट्रवाद के नाम पर अपनी-अपनी दुकानें खोलने से भला कौन किसी को रोक सकता है! read more  आगे पढ़ें

pak-bans-new-bets-two-months-after-air-strikes-now

एयर स्ट्राइक के दो महीने बाद पाक ने फेंका नया दांव, अब भारतीय पत्रकारों को बालाकोट ले जाने को है तैयार

गफूर का कहना है कि भारत लगातार झूठ बोल रहा है और पाकिस्तान उसका जवाब नहीं दे रहा है। उन्होंने कहा, 'पिछले दो महीनों से भारत ने बहुत सारे झूठ बोले हैं। एक जिम्मेदार देश होने के नाते हमने उनके झूठ का जवाब नहीं दिया।' गफूर का कहना है कि पुलवामा हमले में पाकिस्तान का कोई हाथ नहीं है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने साक्ष्य के साथ-साथ बातचीत के आधार पर जांच का आह्वान किया था। बताते चलें कि 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने हमला किया था, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे।  आगे पढ़ें

mp-home-minister-talked-to-congress-attack-said-pe

मप्र: गृहमंत्री ने कांग्रेस पर बोला हमला, कहा- लोग पूछते हैं कि एयर स्ट्राइक में कितने लोग मार गिराए

सिंह ने कहा कि पूर्व में जब भी कांग्रेस की सरकार होती थी, तब महंगाई बड़ा मुद्दा होता था, लेकिन वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में महंगाई मुद्दा नहीं बन पाया है। सरकार ने सबसिडी के जरिए लोगों की बुनियादी जरूरतें पूरी की हैं। उन्होंने कहा कि पहले किसानों को महंगे ब्याज पर बैंक से लोन मिलता था, लेकिन अब 0 प्रतिशत ब्याज पर लोन उपलब्ध कराया जा रहा है। राजनाथ ने अपने भाषण में पूर्व की शिवराज सरकार की तारीफ करते हुए कांग्रेस की कमलनाथ सरकार पर जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया।  आगे पढ़ें

in-patnaans-public-meeting-modi-said-about-surgica

पाटन की जनसभा में मोदी ने सर्जिकल और एयर स्ट्राइक का जिक्र, बोले. मैंने पाक को कह दिया था कि अभिनंदन को कुछ नहीं होना चाहिए

पाटन में मोदी ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) पर तंज कसते हुए कहा, 'शरद पवार कहते हैं कि मुझे नहीं पता कि मोदी क्या करेंगे। अगर उन्हें नहीं पता कि मोदी कल क्या करेंगे तो इमरान खान को कैसे पता होगा?' नरेंद्र मोदी ने जनसभा के दौरान कुंभ मेले का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, 'कुंभ की सफाई की अमेरिका में भी चर्चा हुई। इसके बाद मैं जब वहां गया तो मैंने सफाई कर्मचारियों के पैर धुले।' चुनाव क्षेत्रों के परिसीमन से लेकर देश में चुनाव करवाने तक की जिम्मेदारी भारत के चुनाव आयोग की है। चुनाव आयोग ही राजनीतिक दलों को मान्यता देता है और उनको चुनाव चिह्न प्रदान करता है। मतदाता सूची भी भारत का चुनाव आयोग ही तैयार करवाता है। इसके अलावा राजनीतिक दलों के लिए आचार संहित तैयार करना और उसको लागू करवाना भी चुनाव आयोग की जिम्मेदारी है। देश में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव करवाने के लिए भारत के चुनाव आयोग के पास काफी ताकत हैं।  आगे पढ़ें

during-the-rally-in-bihar-modi-warned-the-oppositi

बिहार में रैली के दौरान मोदी ने दी विपक्ष को चेतावनी, कहा- चुनाव के दौरान एयर स्ट्राइक पर सवाल पूछकर दिखाएं

बता दें कि भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा के एक बयान के बाद कांग्रेस ने बीजेपी पर शहीदों के अपमान का आरोप लगाया था। अररिया रैली में पीएम द्वारा बाटला हाउस का जिक्र करना उसी आरोप का जवाब माना जा रहा है। मोदी ने कहा कि चुनाव से पहले जो लोग सबूत मांग रहे थे, दो चरण के मतदान के बाद उनका चेहरा ढीला पड़ गया है। वे लोग अब सबूत नहीं मांग रहे हैं, कितने आतंकी मरे ये भी पूछना बंद कर दिया। हिंदुस्तान के मतदाताओं ने पहले और दूसरे चरणों ने उनके मुंह पर ताला लगा दिया। पहले दो चरणों में ही उनकी जमीन खिसक चुकी है। उन्हें चिंता है कि जितने लोग पहले संसद में थे, उतने भी पहुंच पाएंगे या नहीं।  आगे पढ़ें

imrans-statement-supporting-modi-made-people-of-bo

इमरान के मोदी को समर्थन वाले बयान ने दोनों देशों के लोगों को किया दंग

दरअसल, इमरान सरकार के सामने पाकिस्तान की इकॉनमी को पटरी पर लाने की एक बड़ी चुनौती है। पाकिस्तान को फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स की ओर से ब्लैकलिस्ट भी किया जा सकता है। अमेरिकी सांसदों के विरोध के कारण पाकिस्तान को इंटरनैशनल मॉनेटरी फंड से राहत पैकेज मिलना भी मुश्किल है। माना जा रहा है कि ऐसी विकट परिस्थितियों से घिरे पाक पीएम ने भारतीय पीएम का समर्थन कर न सिर्फ भारत बल्कि पश्चिमी देशों और बड़ी शक्तियों के बीच अपनी छवि सुधारने की कोशिश करने की दूरदृष्टि दिखाई है। भारत इन तमाम मंचों पर पाकिस्तान का जमकर विरोध कर रहा है।  आगे पढ़ें

pakistan-wants-to-not-reveal-the-secrets-of-madras

बालाकोट में भारत द्वारा तबाह किए गए मदरसे के रहस्यों को सामने नहीं आने देना चाहता पाक

बीबीसी उर्दू के मुताबिक इस समूह को हेलिकॉप्टर के जरिए बालाकोट के जाबा ले जाया गया। वहां से करीब डेढ़ घंटे की चढ़ाई के बाद सभी पहाड़ी के टॉप पर स्थित मदरसे पर पहुंचे, जो चारो तरफ से हरे-भरे पेड़ों से घिरा हुआ था। हां जाने वालों में से ज्यादातर के मन में यह था कि इस दौरे से एयर स्ट्राइक के बारे में कई रहस्यों से पर्दा उठने में मदद मिलेगी। हालांकि डेढ़ घंटे की कठिन चढ़ाई के बाद मदरसे तक पहुंचने वाले पत्रकारों और राजनयिकों को उतना समय ही नहीं दिया गया कि वे किसी तरह का कोई आकलन कर सकें।  आगे पढ़ें

indian-army-responded-by-negligent-acts-7-outposts

नापाक हरकत का भारतीय सेना ने दिया जवाब, 7 चौकियों को किया तबाह, कई सैनिक ढेर

पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन की आनलाइन रिपोर्ट में मारे गए तीनों सैनिकों की तस्वीरें भी दिखाई गई हैं। आपको बता दें कि नियंत्रण रेखा पर भारतीय सेना की यह कार्रवाई पीओके से सटे रावलकोट के रखचिकरी सेक्टर में हुई है। पाकिस्तान के इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) ने साफ तौर पर रखचिकरी में तीन सैनिकों के मारे जाने की बात कबूली है।  आगे पढ़ें

pak-20-aircrafts-were-in-preparation-for-attack-li

बालाकोट जैसे हमले की तैयारी में था पाक 20 विमान भेजे फिर भी नाकाम रहे मंसूबे

हैं। हालांकि, यह भारत द्वारा बालाकोट में इस्तेमाल किए गए स्पाइस बम की तरह टारगेट को भेदने वाला नहीं होता। ऐसे में कई बम अपने पहले टारगेट को मिस कर गए। एक और ठिकाने पर बम बरसाने की कोशिश को एक ऊंचे और बड़े पेड़ ने नाकाम कर दिया।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति