होम उमंग सिंघार
minister-umang-singhar-took-a-tweet-on-the-leaders

मंत्री उमंग सिंघार ने ट्वीट कर अपनी ही पार्टी के नेताओं पर कसा तंज, लिखा-यह राज्यसभा में जाने की लड़ाई है, बाकी आप सब समझदार हैं

मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार को अस्थिर करने के प्रयासों के बीच वन मंत्री उमंग सिंघार ने ट्वीट कर अपनी ही पार्टी के नेताओं पर तंज कसा। सिंघार ने लिखा- 'माननीय कमलनाथ जी की सरकार पूर्ण रूप से सुरक्षित है। यह राज्यसभा में जाने की लड़ाई है, बाकी आप सब समझदार हैं।' इस ट्वीट के साथ उन्होंने मजाक करने वाली तीन स्माइली बनाई हैं। उनका यह बयान दिग्विजय सिंह से जोड़कर देखा जा रहा है। झारखंड चुनाव से पहले सिंघार ने दिग्विजय पर सार्वजनिक आरोप लगाए थे। वे कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक माने जाते हैं।  आगे पढ़ें

chief-minister-gave-instructions-make-an-action-pl

मुख्यमंत्री ने दिए निर्देश: बिगड़े वनों, पड़त भूमि एवं खेतों में बांस उत्पादन की कार्य-योजना बनाएं

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि बांस उद्योग को प्रोत्साहित कर इसके माध्यम से रोजगार उपलब्ध करवाने केलिए बिगड़े वन क्षेत्र, पड़त भूमि तथा किसानों के खेतों में बांस उत्पादन के लिए समयबद्ध कार्य-योजना बनाई जाए। मुख्यमंत्री ने मंत्रालय में बांस मिशन की बैठक में यह निर्देश दिए। वन मंत्री उमंग सिंघार बैठक में उपस्थित थे। मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि बिगड़े हुए वन क्षेत्रों में और राजस्व की पड़त भूमि पर बांस उत्पादन को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि वन विभाग निजी क्षेत्र में किसानों की सहभागिता से बांस उत्पादन के लिए प्रस्तावित कार्य क्षेत्र की योजना बनाएं और उसके क्रियान्वयन की समय सीमा तय की जाए।  आगे पढ़ें

cm-kamal-nath-said-campa-fund-to-be-used-in-wildli

सीएम कमलनाथ ने कहा- वन्य प्राणी प्रबंधन और रोजगार सृजन में उपयोग हो कैम्पा निधि

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा कि कैम्पा निधि के उपयोग के संबंध में नीतिगत प्राथमिकताएँ तय की जाएं। उन्होंने कहा कि जब वे वन एवं पर्यावरण मंत्री थे, तब इसकी शुरूआत हुई थी। उन्होंने कहा कि इसके जरिए वन्य प्राणी क्षेत्रों में व्यवस्थाओं को मजबूत बनाने के साथ वहाँ आस-पास रह रहे लोगों के लिए आजीविका के साधन उपलब्ध कराने पर विशेष ध्यान दिया जाये।  आगे पढ़ें

the-union-minister-appreciated-the-concern-express

उमंग सिंघार द्वारा देश में एशियाई सिंह के संरक्षण के लिये व्यक्त चिंता की केन्द्रीय मंत्री ने की सराहना

केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने वन मंत्री सिंघार को प्रेषित पत्र में कहा है कि सर्वोच्च न्यायालय ने 15 अप्रैल, 2013 को देश के अन्य स्थान पर भी एशियाई सिंह की आबादी बढ़ाने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश के कूनो में गिर राष्ट्रीय उद्यान से सिंह प्रतिस्थापन के निर्देश दिये थे। सुप्रीम कोर्ट ने यह प्रतिस्थापन इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजरवेशन आॅफ नेचर की गाइड-लाइन के आधार पर करने और केन्द्रीय वन मंत्रालय को इसके लिये विशेषज्ञ समिति गठित करने के निर्देश दिये थे।  आगे पढ़ें

the-forest-minister-gave-instructions-to-be-vigila

वन मंत्री ने प्रवासी पक्षियों की सुरक्षा के लिए सतर्कता बरतने दिए निर्देश, कहा- प्रदेश में पर्यावरणीय और भौगोलिक स्थितियां नहीं हैं

वन मंत्री उमंग सिंघार ने आज प्रमुख वन संरक्षक यू. प्रकाशम को प्रदेश में प्रवासी पक्षियों की सुरक्षा के लिये हर संभव सतर्कता बरतने के निर्देश दिये। सिंघार ने कहा कि हालाँकि मध्यप्रदेश में राजस्थान की तरह पर्यावरणीय और भौगोलिक स्थितियाँ नहीं हैं, फिर भी राजस्थान में प्रवासी पक्षियों की हजारों की तादाद में हुई मृत्यु के मद्देनजर सभी जरूरी ऐहतियाती कदम उठाये जाये।  आगे पढ़ें

singhar-may-have-to-comment-on-diggi-reports-found

सिंघार को दिग्गी पर टिप्पणी करना पड़ सकता है महंगा, रिपोर्ट परीक्षण में पाए गए दोषी, अब आलाकमान करेगा फैसला

वन मंत्री उमंग सिंघार को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर टिप्पणी करना महंगा पड़ सकता है। केंद्रीय अनुशासन समिति के अध्यक्ष एके अंटोनी की रिपोर्ट के परीक्षण में पूर्व लोकसभा अध्यक्ष शिवराज पाटिल और मीरा कुमार ने सिंघार को दोषी पाया है। दोनों वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी आलाकमान को इस बारे में बता दिया है। इस मामले में अब आगे कार्रवाई पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को करना है। सिंघार ने तीन महीने पहले सार्वजनिक तौर पर पूर्व मुख्यमंत्री पर गंभीर आरोप लगाए थे। यह मामला हाई प्रोफाइल होने से सीधा केंद्रीय अनुशासन समिति के पास पहुंच गया था। वहां केंद्रीय अनुशासन समिति के अध्यक्ष अंटोनी ने दिग्विजय और सिंघार से अलग-अलग चर्चा की थी।  आगे पढ़ें

state-in-charge-deepak-bavaria-met-sonia-gandhi-su

सिंघार के आरोप लगाने के 5 दिन बाद सामने आए दिग्गी, कहा- अनुशासन में रहें नेता, भाजपा को न दें मौका

भोपाल में मीडिया से बातचीत में सिंह ने मंत्री उमंग सिंघार पर कार्रवाई के जवाब में कहा कि अब इस मामले में मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ जी और राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया जी निर्णय लेंगे। क्या आप सिंघार के आरोपों से आहत हैं? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि मुझे राजनीति में 50 साल हो गए। ऐसे आरोपों से आहत होने का सवाल ही नहीं। भाजपा मेरे खिलाफ 15 साल प्रकरण ढूंढती रही, लेकिन कुछ नहीं कर पाई।  आगे पढ़ें

state-in-charge-deepak-bavaria-met-sonia-gandhi-su

प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया मिले सोनिया गांधी, प्रदेश के घटनाक्रम की सौंपी रिपोर्ट

मध्यप्रदेश के ताजा घटनाक्रम (दिग्विजय-उमंग सिंघार विवाद), नए प्रदेश अध्यक्ष और संगठन में बदलाव को लेकर प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया ने शुक्रवार को नईदिल्ली में कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को रिपोर्ट सौंप दी है। सिंघार द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर लगाए गए आरोपों से आलाकमान ने नाराजगी जताई है। रिपोर्ट में नए प्रदेशाध्यक्ष की नियुक्ति और संगठन में बदलाव का भी जिक्र है। इस सब के बीच शनिवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ भी सोनिया से मुलाकात कर रहे हैं।  आगे पढ़ें

kante-se-kanta-nikalane-ka-khel

कांटे से कांटा निकालने का खेल

सियासी वन में तब्दील हो चुके प्रदेश में सिंघार किसी युवा शेर की तरह दहाड़ रहे हैं तो सिंह इसी प्रजाति के बुजुर्ग की भांति पूरी शांति के साथ बैठे हैं। लेकिन उनकी निगाह सिंघार से हट नहं रही। ठीक उसी तरह, जिस तरह जंगल में आखेट के समय शेर अपने शिकार से नजर नहीं हटाता है। चुपचाप उसकी ओर सरक कर उसे निशाना बना लेता है। शिकार बनने और करने, दोनो मामलों में सिंघार का बायोडाटा अभी खाली है। दिग्विजय सिंह ने आज कहा कि पचास सालों में वे बहुत से हमले देख चुके हैं। जाहिर है, कमलनाथ और कांग्रेस की सरकार को ये तलवार की नोक वाला बहुमत नहीं मिला होता तो शायद फिर उमंग को जवानी की उमंग और बुजुर्गीयत के धैर्य का अंतर पता चलता। इधर, अच्छे-अच्छों को सियासी निवाला बनाने के दृष्टिकोण से सिंह की कर्म कुंडली तमाम प्रहसनों से रंगी हुई है। इसलिए यह तय है कि दोनो पक्षों के बीच सफेद रुमाल लहराये जाने की संभावना फिलहाल नहीं है। जीत और हार का फैसला समय ही करेगा। तब तक यह घमासान देखना बेहद रोचक एवं यादगार अनुभव बन जाना तय है।  आगे पढ़ें

the-forest-minister-made-his-intentions-clear-now-

वन मंत्री ने अपने इरादों को किया जाहिर, अब सिंघार ने दिग्गी को मिलने का दिया समय

कमलनाथ सरकार के मंत्रियों को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा पत्र भेजकर समय मांगने के जिस मुद्दे पर कांग्रेस की अंदरुनी सियासत गरमाई थी, उसके लिए अब वन मंत्री उमंग सिंघार ने सिंह को समय दे दिया है। शुक्रवार को सुबह दस से मध्यान्ह 12 बजे तक के लिए समय आरक्षित किया गया है। गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह ने मंत्री को छह या आठ से 10 सितंबर के लिए अपनी उपलब्धता बताई थी और समय देने का आग्रह किया था।  आगे पढ़ें

Previous 1 2 3 Next 

प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति