मध्यप्रदेश

मप्र में कोरोना ने डराया: सरकार की नई गाइडलाइन- भोपाल-इंदौर समेत 11 जिलों में होली पर गेर और जुलूस पर लगा प्रतिबंध

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को कहा कि कोरोना की रफ्तार कम नहीं हो रही। इंदौर भोपाल समेत 11 जिलों में रोजाना 20 से ज्यादा केस आ रहे हैं। इसलिए यहां होली पर गेर और जुलूस निकालने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। त्योहार पर मामूली संख्या में ही इकट्ठा हो पाएंगे। शादी और अंतिम संस्कार जैसे कार्यक्रमों में भी आने वाले लोगों की संख्या सीमित ही रहेगी। हालांकि संख्या को लेकर अभी सरकार ने स्पष्ट नहीं किया है। इन जिलों में जनसुनवाई भी स्थगित की जा सकती है। जो कलेक्टर के विवेक पर निर्भर करेगा। रोजाना 20 से अधिक वाले जिलों में इंदौर, भोपाल के अलावा जबलपुर, ग्वालियर, खरगोन, उज्जैन, सागर, बैतूल, रतलाम, छिंदवाड़ा और खंडवा शामिल है। यहां प्रतिबंध लागू होंगे।

इधर, अशोकनगर में होने वाले करीला माता मेले को भी रद्द कर दिया गया है। जिन जिलों में केस 20 से कम आ रहे हैं, वहां पाबंदियों को लेकर फैसला जिला स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी पर छोड़ दिया गया है। सीएम द्वारा बैठक में बताया गया कि रतलाम में राजस्थान और गुजरात सीमा पर चेकिंग प्वाइंट बनाए गए हैं। अशोकनगर में हर साल होने वाला होली मेला इस साल स्थगित कर दिया गया है। इसी तरह निवाड़ी जिले की सीमा उत्तर प्रदेश से लगी है। झांसी में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। ऐसे में मुख्यमंत्री ने कहा कि सीमा पर चेकिंग प्वाइंट पर सतर्कता बरती जाए।




अगले सात दिन तक दिन में दो बार बजेगा सायरन
जागरुकता के लिए अगले एक सप्ताह तक रोजाना सुबह 11 बजे और शाम को शहरी क्षेत्रों में दो मिनट के लिए सायरन बजाए जाएंगे। मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग ओर सैनिटाइजिंग को लेकर अपील की जाएगी। इसके बाद रोको-टोको अभियान भी चलेगा।

जीवन शक्ति अभियान भी चलेगा
औद्योगिक विकास निगम द्वारा मुफ्त में फेस मास्क वितरण किया जाएगा। यह वितरण उन लोगों को किया जाएगा, जो मास्क नहीं पहनते हैं और उन पर जुर्माना किया गया है।

मास्क लगाने के लिए की अपील
देश में सबसे ज्यादा संक्रमित महाराष्ट्र में सामने आ रहे हैं, इसलिए महाराष्ट्र से लगे जिलों में विशेष सतर्कता रखी जाए। मुख्यमंत्री ने सोमवार को मंत्रालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी जिलों की कोराना पर बनी क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों के सदस्यों से बात की। इस दौरान विधायक और सांसद भी मौजूद रहे। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनप्रतिनिधि और अफसर भी मास्क लगाएं।

बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा – जनप्रतिनिधि और अफसर ‘मेरा मास्क मेरी सुरक्षा’ स्लोगन के साथ सोशल मीडिया पर भी पोस्ट करें। इसको लेकर जन जागरण अभियान भी चलाएं। रोज सुबह 11 बजे और शाम 7 बजे खुद मास्क लगाकर लोगों को भी मास्क लगाने की समझाइश दें। उन लोगों को रोकें-टोकें, जिन्होंने मास्क नहीं लगाए। इसमें धर्मगुरु भी सहयोग करें।

प्रदेश में इंदौर से 27% और भोपाल से 25% केस आ रहे
इस अवसर पर स्वास्थ्य के अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि प्रदेश में कोरोना के इंदौर से 27% और भोपाल से 25% केस आ रहे। यह चिंताजनक है और दोनों शहरों में ज्यादा सतर्क रहने और एहतियात बरतने की जरूरत है। बैठक में गृह मंत्री डा. नरोत्तम मिश्र और स्वास्थ्य मंत्री डा. प्रभुराम चौधरी भी उपस्थित थे।

स्व-सहायता समूह करेंगे मास्क की आपूर्ति
कोरोना काल में मास्क बनाने का काम स्व-सहायता समूहों की महिलाओं को दिया गया था। मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों से कहा कि मास्क लगाने का अभियान फिर से शुरू किया जा रहा है। ऐसे में ज्यादा से ज्यादा मास्क स्व-सहायता समूहों से बनवाएं।

इन जिलों में रोजाना 20 से ज्यादा केस

इंदौर- 326

भोपाल 382

जबलपुर 108

ग्वालियर 41

सागर 34

खरगोन 35

उज्जैन 28

रतलाम 38

बैतूल 42

छिंदवाड़ा 27

खंडवा 20

(ये आंकड़े पिछले 24 घंटे के हैं )

Web Khabar

वेब खबर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button