31.8 C
Bhopal

नीट परीक्षा में धांधली से उबली सियासत: मप्र कांग्रेस के दिग्गज उतरे राजधानी की सड़कों पर, निशाने पर रहे मोदी-मोहन

प्रमुख खबरे

भोपाल। नीट परीक्षा में हुई धांधली पर देशभर में जमकर सियासत हो रही है। पूरा इंडिया ब्लाक केन्द्र सरकार को अपने निशाने पर ले रखा है। इतना ही नहीं, नीट परीक्षा में धांधली को लेकर सड़कों पर भी उतर आई है। मप्र कांग्रेस ने शुक्रवार को भोपाल के रोशनपुरा चौराहे पर धरना-प्रदर्शन किया। कांग्रेस के इस विरोध प्रदर्शन में मप्र के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, पीसीसी चीफ जीतू पटवारी, पूर्व मंत्री पीसी शर्मा समेत कई बड़े नेता मौजूद रहे और धरना-प्रदर्शन को संबोधित कर केन्द्र की मोदी और मप्र की मोहन सरकार पर जमकर हमला बोला।

दिग्गी बोले- वो लोग कहां गए जो हिंदुओं का ठेका लेते थे
दिग्विजय सिंह ने धरना-प्रदर्शन को संबोधित कर सरकार को जमकर घेरा। उन्होंने इस दौरान कहा कि परीक्षाओं में हो रहे घोटाले से 14 लाख से ज्यादा हिंदू परिवारों के बच्चों के साथ अन्याय हुआ है। मोहन यादव बताएंगे कि इस मामले में कुछ करेंगे। नेट एग्जाम में जब शिकायत आई तो उसे कैंसिल कर दिया। लेकिन नीट जिसमें 14 लाख बच्चों का भविष्य निर्भर है, उसे रद्द नहीं किया।

वो लोग कहां हैं जो हिंदुओं का ठेका लिए रहते हैं। 14 लाख में से कितने मुसलमान होंगे, जिन्होंने परीक्षा दी है। 5-10 फीसदी मुसलमान होंगे बाकी तो हिंदू हैं। बजरंग दल हमारे खिलाफ रोज बयान देता है। वो हिंदुओं के बच्चों के हक में आवाज क्यों नहीं उठाते। भाजपा और आरएसएस का स्वरूप एक जैसा है। खाओ और खाने दो की मानसिकता पर काम करते हैं। अधिकारियों कर्मचारियों के साथ मिलकर लूटते हैं। जहां-जहां भाजपा का राज रहा है ऐसा हुआ है। जब से मोदी सरकार आई है घोटाले हो रहे हैं। एक भी घोटाले में न तो उन्होंने जांच कराई और न अपना मुंह खोला।

सिंह ने कहा कि भाजपा के राज में जितनी भी नियुक्तियां हुई हैं वहां घपला हुआ है। चाहे वह एमपी हो, यूपी या राजस्थान हो। पहले तो मध्य प्रदेश की यही बदनामी होती थी कि व्यापमं के डॉक्टर से इलाज नहीं कराएंगे। अब तो तो नीट में घोटाला हो गया। जिनकी नीट के जरिए भर्ती होगी, जो एम्स में पहुंच जाएंगे। अब जानकारी मिल रही है कि जिन्होंने पहले फार्म भर उन्हें पहले कॉलेज मिल जाएगा यह सब घपले का तरीका है।

बच्चों की बौद्धिक हत्या की शरुआत मप्र से हुई: जीतू
वहीं पीसीसी चीफ जीतू पटवारी ने कहा कि बच्चों की बौद्धिक हत्या अगर कहीं से शुरूआत हुई तो वह मध्य प्रदेश है। पहले व्यापमं के माध्यम से बच्चों के भविष्य को इन्होंने रौंदा। पुलिस भर्ती परीक्षा में घपले हुए, वन रक्षक, सहकारी बैंकों में भर्ती का घोटाला हुआ। मध्यप्रदेश को घोटालों की नर्सरी बना दिया। भाजपा की सरकार घोटाला को संरक्षित करती है। नरेंद्र मोदी पेपर लीक करवाते हैं। भाजपा के मुख्यमंत्री और मंत्री घोटाला करवाते हैं। उन्होंने कहा कि नर्सिंग घोटाले में मास्टर माइंड महेंद्र गुप्ता की जांच होना चाहिए। इस घोटाले का मास्टरमाइंड महेंद्र गुप्ता किसका ओएसडी है। इस घोटाले के लिए दोषी मंत्री से इस्तीफा क्यों नहीं लिया जाता।

पीसी शर्मा बोले- पूरा खेल एन का
पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान के समय में मध्यप्रदेश में व्यापमं घोटाला हुआ। अब वे दिल्ली चले गए वहां नीट और नेट घोटाला हो गया। पूरा खेल एन का है। एन से नीट और नेट घोटाला। एनसे ही एनडीए और नरेंद्र मोदी का नाम आता है। पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल ने कहा कि घोटालों के पीछे की वजह देखेंगे तो कोई न कोई भाजपा से जुड़ा व्यक्ति शामिल पाया जाता है। कमलेश्वर ने कहा एक और बड़ा घोटाला ईवीएम का है। अभी एलन मस्क ने जो कहा उसकी यदि सही जांच हो जाए तो सच सामने आ जाएगा। मध्य प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी मुकेश नायक ने कहा कि एमपी में इतने घोटाले हो रहे हैं। ये युवाओं और आने वाली पीढ़ी के भविष्य का सवाल है। अकेले राजनीतिक दलों के भरोसे बैठने से कुछ नहीं होगा। सबको इस माहौल के खिलाफ आवाज उठानी पड़ेगी।

- Advertisement -spot_img

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img

ताज़ा खबरे