ताज़ा ख़बरमध्यप्रदेश

कमलनाथ के इस्तीफे को एक साल पूरे: कांग्रेस प्रदेशभर में संविधान की रक्षा करने आज निकालेगी तिरंगा यात्रा

भोपाल। एक साल पहले 20 मार्च को प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके साथ ही 15 महीने में कमलनाथ सरकार गिर गई थी। कांग्रेस इस दिन को लोकतंत्र सम्मान दिवस के रूप में मना रही है। कांग्रेस आज 20 मार्च को प्रदेश के हर जिले में संविधान की रक्षा करने के लिए तिरंगा यात्रा निकालेगी। कांग्रेंस यह यात्रा भाजपा द्वारा लोकतंत्र की हत्या करने के विरोध में निकालेगी। कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष व संगठन प्रभारी चंद्रप्रभाष शेखर ने कहा, 20 मार्च को धरना या प्रदर्शन नहीं किया जाएगा, बल्कि लोकतंत्र सम्मान दिवस मनाया जाएगा।

वजह है कि मध्य प्रदेश में जनता द्वारा चुनी हुई सरकार को गिराने के लिए इखढ ने संविधान की मूलभावना को तार-तार कर लोकतंत्र को खतरे में डाला। प्रदेश कांग्रेस के कोषाध्यक्ष प्रकाश जैन ने बताया कि आज शनिवार को कांग्रेस जनता के बीच जाकर लोगों को बताएंगे कि कमलनाथ सरकार ने 15 महीनों में कौन-कौन से जन हितैषी फैसले लिए थे। कांग्रेस इस दिन कमलनाथ सरकार की कर्ज माफी, शुद्ध के लिए युद्ध अभियान और भूमाफिया के खिलाफ चलाए गए अभियान के बारे में बताएगी।

साथ ही, गौशाला निर्माण, सस्ती बिजली, डइउ आरक्षण में बढ़ोत्तरी, राम वन गमन पथ और महाकाल व ओंकारेश्वर मंदिर परिसर का विस्तार और विकास जैसे फैसले कमलनाथ सरकार ने लिए थे। उन्होंने कहा कि वैसे तो 20 मार्च काले दिवस के नाम से जाना जाएगा, लेकिन काला दिवस वे मनाएं, जो काले काम करते हैं। हम इस दिन को संविधान की रक्षा करने का संकल्प लेकर जनता के बीच जाएंगे। प्रदेश की सभी जिला इकाईयों में यह कार्यक्रम आयोजित किया गया हैै। इस अवसर पर संविधान की प्रस्तावना का वाचन होगा और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ जी के वीडिया का प्रसारण भोपाल सहित सभी जिलों में किया जाएगा।

जैन ने बताया कि कार्यक्रम के दौरान सुबह 11:30 बजे प्रदेश कार्यालय से कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता पार्टी का झंडा लेकर पैदल मार्च करते हुए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और डॉ. भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा स्थल जाकर माल्यार्पण करेंगे। बता दें कि ता दें कि वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस से बगावत कर दी थी। सिंधिया के साथ 22 विधायकों ने इखढ का दामन थाम लिया था। इस कारण 20 मार्च 2020 को कमलनाथ सरकार अल्पमत में आ गई थी। इसके बाद 23 मार्च को शिवराज सिंह सरकार एक बार फिर सत्ता में लौटी।

Web Khabar

वेब खबर

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button