मोबाइल में बात करते हुए कार चला रहे कांग्रेस पार्षद को ट्रैफिक आरक्षक ने रोका, हुआ जमकर विवाद



इंदौर। राजीव गांधी चौराहे पर रविवार सुबह मोबाइल पर बात करते हुए कार चला रहे कांग्रेसी पार्षद को ट्रैफिक जवान ने रोक लिया। इस दौरान पार्षद और महिला सूबेदार में जमकर बहस हुई। वहां से रवाना होने के एक घंटे बाद पार्षद अपने समर्थकों के साथ वापस लौटे। वे सूबेदार से विवाद करने लगे। सूबेदार का आरोप है कि पार्षद ने बालाघाट-झाबुआ ट्रांसफर कराने की धमकी दी। पार्षद का कहना है कि सूबेदार आधी-अधूरी घटना बता रही हैं। जवान ने मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेताओं के बारे में गलत बात कही तो हम विरोध करने पहुंचे। घटना की जानकारी लगते ही कांग्रेस के कई नेता भी मौके पर पहुंच गए। राजीव गांधी चौराहे पर सुबह पुलिस का चेकिंग पॉइंट लगा था। यहां महिला सूबेदार सोनू बाजपेयी और आरक्षक विजय चौहान ड्यूटी पर थे।


सुबह करीब 11 बजे कांग्रेसी पार्षद और लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के भतीजे अभय वर्मा अपनी कार से चौराहे से गुजरे। उन पर गाड़ी चलाते समय मोबाइल पर बात करने का आरोप लगाकर जवान ने उनकी गाड़ी रोकी और किनारे खड़ी करने का कहा। पार्षद ने गाड़ी का कांच खोला और मुंह नहीं लगने की बात कही। पार्षद ने जब तक गाड़ी किनारे नहीं लगाई जवान आगे डटा रहा। पार्षद ने कार किनारे लगाई इस दौरान जवान ने महिला सूबेदार को पूरा वाकया बता दिया। गाड़ी से नीचे उतरते ही पार्षद भड़क गए। उन्होंने जवान को कहा कि गाड़ी कैसे रोकी। पार्षद ने खुद को मंत्री का रिश्तेदार बताते हुए गाड़ी मंत्री की होने की जानकारी दी। पार्षद ने जनप्रतिनिधि से अभद्रता करने का आरोप लगाया। सूबेदार ने जब पार्षद से गाड़ी के दस्तावेज मांगे तो वे फोन लगाकर घर से मंगवाकर दिखाने की बात करने लगे।


इस बीच सूबेदार और पार्षद के बीच तीखी बहस हो गई। सूबेदार ने परिचय जानने के बाद पार्षद को आरक्षक से माफी मांगने की बात कही। पार्षद ने जवान के कंधे में हाथ रखा, धीरे से सॉरी कहा और गाड़ी लेकर चले गए। एक घंटे बाद पार्षद अपने समर्थकों के साथ दोबारा चौराहे पर आ गए। पार्षद कांग्रेस की सरकार होने की बात कहकर सूबेदार को बालाघाट ट्रांसफर कराने की धमकी देने लगे। इस पर पास खड़े शानू नामक समर्थक ने चुटकी लेते हुए झाबुआ ट्रांसफर कराने के लिए कहा। वे सूबेदार पर जनप्रतिनिधि के साथ दुर्व्यवहार करने व एक हजार रुपए रिश्वत मांगने का आरोप लगाने लगे। इस दौरान ट्रैफिक के एक टीआई मौके पर पहुंच गए। वे पार्षद से जानकारी लेने लगे। इस दौरान समर्थक मनोज वानखेड़े ने सूबेदार को सस्पेंड करने की मांग की। टीआई ने आरोपों पर आवेदन देने के लिए कहा तो पार्षद ने कहा कि शिकायत नहीं करेंगे। हमारी सरकार है, ऐसे में कांग्रेसियों की सुनवाई होगी। 

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति