ताई की न और विजयवर्गीय की बंगाल में व्यवस्था के बाद इंदौर में पैराशूट प्रत्याशी के आसार



इंदौर। भाजपा की रविवार को जारी हुई सूची में इंदौर लोकसभा सीट के लिए उम्मीदवार का नाम घोषित नहीं हो सका। अब प्रदेश में इंदौर सहित भोपाल, विदिशा, सागर, गुना सीट पर ही नामों की घोषणा बाकी है। इंदौर सीट पर रोज नए दावेदारों के नाम आ रहे हैं। लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के चुनाव लड़ने से इनकार करने और भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की पश्चिम बंगाल में व्यस्तता के बाद इंदौर सीट पर पैराशूट प्रत्याशी के आसार ज्यादा नजर आ रहे हैं।


शनिवार को फिर इंदौर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव लड़ने की चर्चा जोरों पर रही। लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन रविवार को दिल्ली में ही थीं। आंबेडकर जयंती के आयोजन में शामिल होने के बाद वे शाम को इंदौर लौट आईं। आयोजन के दौरान उनकी बड़े नेताओं से चर्चा भी हुई। ताई ने दिल्ली में बताई अपनी पसंद!  सूत्रों के अनुसार, महाजन ने अपनी पसंद शीर्ष नेतृत्व को बताई, हालांकि इंदौर लौटने के बाद ताई कुछ सामाजिक आयोजनों में शामिल हुईं।


तब उनके साथ स्थानीय भाजपा नेता भी थे, लेकिन उन्होंने दिल्ली में हुई नेताओं की मुलाकात को लेकर चर्चा नहीं की। उधर, संगठन द्वारा अब तक उम्मीदवार घोषित नहीं किए जाने से इंदौर से कई नेताओं के नाम चल पड़े हैं। इनमें भंवरसिंह शेखावत, शंकर लालवानी, कृष्णमुरारी मोघे आदि शामिल हैं। भाजपा द्वारा झाबुआ-रतलाम लोकसभा सीट पर विधायक जीएस डामोर को उम्मीदवार बनाए जाने के बाद महापौर मालिनी गौड़ की राह आसान हो गई। संगठन ने तय किया था कि विधायकों को सांसद का चुनाव नहीं लड़ाया जाएगा, लेकिन डामोर की उम्मीदवारी घोषित होने के बाद भाजपा ऐसा प्रयोग शेष सीटों पर भी कर सकती है। इधर, मालिनी गौड़ का कहना है कि संगठन का जो आदेश होगा उसे मैं मानूंगी। 

loading...



प्रमुख खबरें

राज्य

राजनीति